ऑपरेशन गले का, निकाल दी बच्चादानी

  • 12 अगस्त 2011
बीपी कोइराला मेमोरियल कैंसर अस्पताल इमेज कॉपीरइट BBC World Service

दक्षिणी नेपाल के एक अस्पताल में चिकित्साकर्मियों ने गले की सर्जरी कराने आई एक महिला की बच्चादानी को निकाल दिया.

पश्चिमी नेपाल के शंकरनगर की रहने वाली 32 वर्षीय छम्मा कुमारी बोहरा थॉयरॉयड की मरीज़ हैं और अपना इलाज कराने भरतपुर के बीपी कोईराला मेमोरियल कैंसर अस्तपाल में आईं थी.

सर्जरी में हुई ग़लती को चिकित्साकर्मियों की लापरवाही माना जा रहा है और इसकी कड़ी आलोचना हो रही है.

अस्पताल के अधिकारियों ने माना है कि कई मानवीय ग़लतियों के कारण ग़लत सर्जरी हुई.

आरोप

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption महिला अपने गले की सर्जरी कराने आई थी

अस्पताल के एक डॉक्टर विश्व राम पौडेल ने कहा, "कई स्तर पर ड्रेसिंग रूम, एनेस्थेसिया और सर्जिकल वॉर्ड-सबमें ग़लतियाँ हुई है. हमने एक टीम गठित की है, जो ये पता लगाएगी कि कहाँ क्या ग़लतियाँ हुईं."

डॉक्टरों के मुताबिक़ हो सकता है कि सर्जरी में हुई ग़लती छम्मा कुमारी बोहरा की मेडिकल फ़ाइल बदल जाने से हुई हो और बच्चादानी की सर्जरी कराने आई किसी अन्य महिला की फ़ाइल की अदला-बदली हो गई हो.

चितवन से बीबीसी नेपाली सेवा के संवाददाता ईश्वर जोशी का कहना है कि छम्मा कुमार बोहरा के परिजन पीड़ित के लिए मुआवज़े की मांग कर रहे हैं.

साथ ही वे इस ग़लत सर्जरी में शामिल लोगों के ख़िलाफ़ क़ानूनी कार्रवाई की भी मांग कर रहे हैं. पीड़ित के एक रिश्तेदार तम बहादुर गुरुंग ने कहा कि डॉक्टरों को उनसे बात करनी चाहिए और दोषियों को सज़ा मिलनी चाहिए.

संबंधित समाचार