'चीनी उच्चायुक्त ने सू ची से की मुलाक़ात'

  • 15 दिसंबर 2011
सू ची इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption बर्मा की सैन्य सरकार ने पिछले साल 20 साल बाद चुनाव करवाए जिसका सू ची की पार्टी ने बहिष्कार कर दिया था.

चीनी सरकार ने कहा है कि बर्मा में चीन के उच्चायुक्त ने बर्मा में लोकतंत्र के लिए आंदोलन चला रहीं आंग सान सू ची के साथ मुलाक़ात की है.

चीन, बर्मा की सैन्य सरकार का समर्थक रहा है और लोकतंत्र की पैरोकार आंग सान सू ची के साथ चीनी उच्चायुक्त की ये पहली औपचारिक मुलाक़ात इस मायने में बेहद महत्वपूर्ण है.

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लियू वेमिन के मुताबिक़ ये मुलाक़ात आंग सान सू ची के अनुरोध पर कराई गई थी हालांकि उन्होंने इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी कि ये कब हुई.

प्रवक्ता के मुताबिक़ चीनी उच्चायुक्त इस मुलाक़ात के लिए तैयार हुए क्योंकि चीन बर्मा के सभी महत्वपूर्ण पक्षों से बातचीत का रिश्ता रखना चाहता है.

यह मुलाक़ात अमरीका की विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन के साथ हुई आंग सान सू ची की मुलाक़ात के कुछ हफ्तों बाद हुई है.

बीबीसी संवाददाता माइकल ब्रिस्टो के मुताबिक़ चीन की ओर से उठाया गया यह क़दम महत्वपूर्ण है क्योंकि बर्मा में मानवाधिकार हनन के मामलों के बीच जहां एक ओर कई देशों ने उससे दूरी बनाए रखी है वहीं चीन ने बर्मा की सरकार को मान्यता दे रखी है.

राजनीतिक जानकारों के मुताबिक़ अमरीका की ओर से आंग सान सू ची से मुलाक़ात की पहल के बाद चीन इस मामले में पीछे रहना नहीं चाहता.

बदलाव

बर्मा में 1962 से लेकर पिछले साल तक सैनिक सरकार का ही सीधा शासन था.

सैनिक सरकार ने 1990 में देश में चुनाव करवाए थे जिसमें सू ची की पार्टी नेशनल लीग फ़ॉर डेमोक्रेसी को भारी जीत मिली थी.

मगर सैन्य सरकार ने उन्हें सत्ता सौंपने से मना कर दिया था.

इसके बाद सैन्य सरकार ने पिछले साल 20 साल बाद बर्मा में चुनाव करवाए जिसका सू ची की पार्टी ने बहिष्कार कर दिया था.

मगर चुनाव के बाद सैन्य शासकों ने असैनिक सरकार को सत्ता सौंप दी. हालाँकि संविधान में अभी भी सेना की सर्वोच्चता बरक़रार है.

पर बर्मा सरकार ने उस चुनाव के बाद एक-के-बाद-एक कई सुधारवादी क़दम उठाए हैं.

पहले चुनाव के बाद सू ची को रिहा किया गया, फिर चुनाव क़ानून में बदलाव किए गए जिसके बाद सू ची की पार्टी ने दोबारा राजनीति में लौटने का फ़ैसला किया.

पार्टी आगामी उपचुनाव में हिस्सा लेगी जिसमें सू ची भी उम्मीदवार होंगी.

संबंधित समाचार