अफ़ग़ान अफ़ीम की क़ीमतें आसमान पर

  • 13 जनवरी 2012
अफ़ग़ानिस्तान में अफ़ीम की खेती इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अफ़ग़ानिस्तान में अफ़ीम की क़ीमत में ज़बरदस्त बढ़ोत्तरी हुई है

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि वर्ष 2011 में अफ़ग़ानिस्तान के अफ़ीम की क़ीमत में ज़बरदस्त बढ़ोत्तरी हुई है.

संयुक्त राष्ट्र का आकलन है कि अफ़ग़ानिस्तान में अफ़ीम की खेती करने वाले किसानों को संभवत: 1.4 अरब डॉलर से ज़्यादा की कमाई हुई है, जो देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का नौ फ़ीसदी है.

वर्ष 2010 में अफ़ग़ान अफ़ीम की क़ीमतों में बढ़ोत्तरी शुरू हुई, जब पौधों में फफूँदी लगने के कारण अफ़ीम की खेती पर असर पड़ रहा था.

ड्रग्स और अपराध पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय के प्रमुख यूरी फ़ेदोतोव का कहना है कि अफ़ीम के कारण तालिबान के विद्रोह को वित्तीय सहायता मिली और अफ़ग़ानिस्तान में भ्रष्टाचार भी बढ़ा.

सर्वेक्षण

उन्होंने कहा कि अफ़ीम अफ़ग़ानिस्तान की अर्थव्यवस्था का अहम हिस्सा है.

संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक़ दुनिया का 90 प्रतिशत अफ़ीम अफ़ग़ानिस्तान से आता है.

ड्रग्स और अपराध पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय हर साल अफ़ग़ानिस्तान में अफ़ीम के उत्पादन का सर्वेक्षण करता है. वर्ष 2011 में हुए इसी सर्वेक्षण में ये बात सामने आई कि अफ़ीम की क़ीमत में 133 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई.

पहले अफ़ीम मुक्त घोषित किए जा चुके अफ़ग़ानिस्तान के तीन प्रांतों में एक बार फिर अफ़ीम की खेती शुरू हो गई है. ये प्रांत हैं पूर्व में कपिसा, उत्तर में बाग़लान और फ़रयाब.

संबंधित समाचार