बांग्लादेश में तख़्तापलट की कोशिश नाकाम: सेना

शेख़ हसीनी इमेज कॉपीरइट AP
Image caption शेख़ हसीना वर्ष 2009 में सत्ता में आई थीं

बांग्लादेश में सेना ने घोषणा की है कि उसने कुछ सैन्य अधिकारियों की ओर से प्रधानमंत्री शेख़ हसीना की सरकार का तख़्तापलट करने की कोशिश नाकाम कर दी है.

ग़ौरतलब है कि वर्ष 1990 तक बांग्लादेश में लगभग 15 साल तक सैन्य शासन रहा था.

समाचार एजेंसियों के अनुसार ये महत्वपूर्ण है कि वर्ष 2009 में शेख़ हसीना के सत्ता में आने के बाद उन्हें इस्लामी कट्टरपंथियों की ओर से कई बार धमकियाँ मिली हैं.

फ़रवरी 2009 में राजधानी ढाका में सशस्त्र अर्धसैनिक बलों ने विद्रोह किया था जो कई अन्य शहरों में फैल गया था और उसमें 51 सैन्य अधिकारियों और कर्मचारियों समेत लगभग 70 लोग मारे गए थे.

इस विद्रोह को दबाने में देश की सुरक्षा बलों को लगभग दो दिन लगे थे.

'कुछ कट्टरपंथी अधिकारी शामिल'

बांग्लादेश की सेना के प्रवक्ता ब्रिगेडियर जनरल मोहम्मद मसूद रज़्ज़ाक़ ने कहा, "हमें ख़ास सूचना मिली कि सेना के कुछ अधिकारी लोकतांत्रिक सरकार को अपदस्त करने का षडयंत्र रच रहे हैं. कुछ कट्टरपंथी अधिकारी इस कोशिश में शामिल हैं. उनके प्रयास को नाकाम कर दिया गया है."

ब्रिगेडियर जनरल रज़्ज़ाक़ का कहना था कि इन अधिकारियों की पहचान कर ली गई है और कुछ को हिरासत में ले लिया गया है.

उनका कहना था कि इन अधिकारियों को सैन्य अदालत के समक्ष पेश किया जाएगा.

संबंधित समाचार