अफगानिस्तान सरकार और अमरीकी बलों में समझौता

Image caption अफ़गानिस्तान में रात में मारे जाने वाले छापों को लेकर हमेशा से विवाद रहा है.

अफगानिस्तान की सरकार ने कहा है कि अमरीका के विशेष बलों के साथ रात में मारे जाने वाले छापों के बारे में एक समझौता हो गया है.

अफगानिस्तान सरकार के प्रवक्ता ने कहा है कि देश के रक्षा मंत्री और अमरीकी कमांडर के बीच रविवार को इस संबंध में एक समझौते पर हस्ताक्षर किए जाएंगे.

ऐसा माना जाता है कि समझौते के बाद रात के छापों में अमरीकी विशेष बलों की भूमिका मदद करने तक की रह जाएगी.

अफ़गानिस्तान सरकार और अमरीकी सेना के बीच रात में मारे जाने वाले ये छापे पिछले कुछ समय से विवाद का विषय रहे हैं.

अफगानिस्तान से अमरीकी और विदेशी सेनाओं को 2014 तक वापस होना है और इसी क्रम में रात में मारे जाने वाले छापों को लेकर हुआ यह समझौता काफी महत्वपूर्ण माना जा सकता है.

इस समय अफ़गानिस्तान में रात में मारे जाने वाले छापों को नैटो और अफगानिस्तान की विशेष सेना मिलकर अंजाम देते हैं जिसमें नैटो सेनाओं की भूमिका अहम होती है.

काबुल में बीबीसी संवाददाता बिलाल सरवरी का कहना है कि अफगानिस्तान सरकार चाहती है कि रात के मारे जाने वाले ये छापे पूर्ण रुप से अफ़गानिस्तान की सेना के जिम्मे हो जाएं ताकि वो ऐसे अभियान के लिए अन्य सैनिकों को शामिल करने या न करने की अनुमति देने का अधिकार भी अपने पास रख सकें.

इस समझौते के तहत अफगानिस्तान के ही न्यायाधीश यह तय करेंगे के ऐसे किसी अभियान के बाद लोगों को गिरफ्तार कर के रखा जाए या नहीं.

अफगानिस्तान के अधिकारियों ने बीबीसी को बताया है कि अंतिम दौर की बातचीत छापों के बाद लोगों की गिरफ्तारी पर चल रही है.