सबसे युवा कंप्यूटर विशेषज्ञ?

Image caption वासिक की मां के अनुसार उनका बेटा कंप्यूटर विशेषज्ञ है

बांग्लादेश का एक छह वर्षीय दुनिया का सबसे युवा कंप्यूटर विशेषज्ञ बनने की उम्मीद में है.

वासिक फरहान-रुपकोथा को उम्मीद है कि उसकी विशेषज्ञता को माइक्रोसॉफ्ट और गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड्स मान लेंगे.

वासिक दो साल की उम्र से ही कंप्यूटरों से जुड़ा रहा है और कंप्यूटर को समझने की उनकी क्षमता बेमिसाल मानी जा रही है.

जनवरी महीने में ही छह वर्ष पूरे करने के बाद वासिक 'माडर्न वारफेयर' और 'मेटल गियर सॉलिड' जैसे पेचीदा और लोकप्रिय कंप्यूटर गेम्स में पारंगत हो चुका हैं.

तीन साल की उम्र में ही वो टाइपिंग करने लगा और चार साल में वो गेम्स डाउनलोड करना सीख गया था.

गिनीज रिकॉर्ड की चाह

वासिक ने बीबीसी से कहा, ‘‘ मुझे कंप्यूटर पर खेलना और नई चीजें सीखना अच्छा लगता है.’’

उनकी मां सिंथिया फरहान-रिशा कहती हैं, ‘ मुझे लगता था कि वो बचपन से थोड़ा अलग है. जब उसने सात महीने की उम्र में ही कंप्यूटर से खेलना शुरु कर दिया तो मैं चकित रह गई.’’

फरहान-रिशा चाहती हैं कि वासिक का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड्स में आए.

हालांकि गिनीज़ बुक का कहना था, ‘‘हम इस तरह की चीजे़ मॉनीटर नहीं करते और न ही ऐसा कोई रिकार्ड रखते हैं. लेकिन वासिक का परिवार चाहे तो हमारी वेबसाइट पर आकर ऐसे रिकार्ड का दावा कर सकता है.’’

उनका कहना था, ‘‘ वासिक ने जटिल गेम्स खेलने शुरु कर दिए थे और वो उनको इंस्टाल भी कर लेता था आसानी से. दो ढ़ाई साल में तो वो टाइप करने लगा था.’’

सरकार से मदद की उम्मीद

वासिक की मां के अनुसार वो अभी भी अंग्रेज़ी बहुत अच्छी नहीं बोल पाता है लेकिन बांग्ला के कुछ शब्द जरुर बोलता है.

वो चाहती हैं कि उनके बेटे के कंप्यूटर ज्ञान को देखते हुए सरकार से कोई मदद मिले. वो कहती हैं, ‘‘अगर वासिक को बांग्लादेश में सही समर्थन मिले और दुनिया की अच्छी यूनिवर्सिटी में पढ़ने का मौका मिले तो क्या पता वो क्या कर सकता है.’’

रिशा के अनुसार वासिक को 'सी प्लस प्लस' का भी थोड़ा बहुत ज्ञान हो चुका है जो कंप्यूटर का एक लोकप्रिय सॉफ्टवेयर कार्यक्रम है.

बांग्लादेश की मीडिया ने वासिक के बारे में काफी कुछ लिखा भी है.

उनकी मां कहती हैं, ‘‘ वासिक ढाका और उसके आसपास कई संस्थानों में जा चुके हैं और सभी ने उसकी प्रतिभा के बारे में सकारात्मक बातें कही हैं.’’

प्रतिभाशाली बच्चों के मां बाप की तरह वासिक के मां बाप को भी कई बार वासिक के व्यवहार को लेकर दिक्कतें होती रही हैं क्योंकि वो कभी कभी बहुत जिद करता है. लेकिन उन्हें उम्मीद है कि वासिक अच्छा बच्चा रहेगा.

संबंधित समाचार