आईपीएल के धनकुबेर
 
 
सनत जयसूर्या
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सनत जयसूर्या

सनत जयसूर्या

 

मुंबई इंडियंस
जन्म: 30 जून, 1969 (मटारा)
पहला वनडे: दिसंबर 1989 में ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ (मेलबोर्न)
पहला टेस्ट: फरवरी 1991 में न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ (हैमिल्टन)
पहला ट्वेन्टी 20: जून 2006 में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ (साउथैम्पटन)
बोली: 3.9 करोड़ रुपए


वनडे क्रिकेट की दिशा बदलने में जिन क्रिकेटरों को अगुआ माना जाता है, उनमें से एक हैं सनथ जयसूर्या. उनका ये बेहतरीन प्रदर्शन पहली बार वर्ष 1996 के विश्व कप क्रिकेट में दिखा जब उनकी धारदार बल्लेबाज़ी अपने चरम पर थी. लेकिन वनडे के साथ-साथ जयसूर्या ने टेस्ट मैचों में भी अपना दमख़म दिखाया. टेस्ट क्रिकेट में श्रीलंका की ओर से सर्वाधिक रन बनाने का रिकॉर्ड उनके ही नाम है.

एक दिवसीय मैचों में उनकी गेंदबाज़ी का भी चमत्कार कई बार देखने को मिला है. बाएँ हाथ के स्पिनर जयसूर्या ने कई मौक़े पर अपनी गेंदबाज़ी से टीम को विजय दिलाई है. वर्ष 1999 में अर्जुन रणतुंगा के बाद श्रीलंका टीम की कमान उन्हें सौंपी गई. उन्होंने अपनी कप्तानी में श्रीलंका को कई अच्छी सफलताएँ दिलाई. लेकिन वर्ष 2003 आते-आते उन पर कप्तानी की ज़िम्मेदारी का असर दिखने लगा. और आख़िरकार वर्ष 2003 के विश्व कप के बाद उन्होंने कप्तानी छोड़ दी. कप्तानी छोड़ने के बाद वनडे टीम में उनकी जगह को लेकर सवाल उठने लगे और उनके संन्यास की मांग भी उठने लगी.

लेकिन जयसूर्या ने हार नहीं मानी. वर्ष 2004 में उन्होंने शानदार वापसी की और 1997 के बाद टेस्ट करियर में उनका ग्राफ़ इतना ऊपर उठा. 2004 के एशिया कप में उनका जलवा दिखा और 2005 के इंडियन ऑयल कप में तो जयसूर्या ने दिखाया कि अभी भी उनमें काफ़ी दम है. वर्ष 2006 में उन्होंने संन्यास की घोषणा की लेकिन तुरंत इसे वापस भी ले लिया. वर्ष 2007 के विश्व कप में जयसूर्या ने 467 रन बनाए. उसके बाद उन्होंने ट्वेन्टी 20 विश्व कप में भी हिस्सा लिया. लेकिन कैंडी में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ 2007-08 सिरीज़ के टेस्ट के बाद उन्होंने टेस्ट मैचों से संन्यास ले लिया. लेकिन विश्व क्रिकेट में उनकी बल्लेबाज़ी का दम ही है कि आईपीएल के लिए उन पर इतनी धनवर्षा हुई.
 
^^ ऊपर चलें पहले पन्ने पर चलें