भारत की जीत के पीछे है ये तेज़ तर्रार लड़की

  • आदेश कुमार गुप्त
  • खेल पत्रकार, बीबीसी हिंदी डॉटकॉम के लिए
रियो ओलंपिक में भाग लेने वाली भारतीय महिला हॉकी टीम

इमेज स्रोत, Hockey_india

इमेज कैप्शन,

रियो ओलंपिक में भाग लेने वाली भारतीय महिला हॉकी टीम

भारतीय महिला हॉकी टीम की सिंगापुर में हुई एशियन चैंपियंस ट्रॉफी में ख़िताबी जीत के लिए कप्तान वंदना कटारिया की नेतृत्व क्षमता की ख़ासी तारीफ़ हो रही है.

फाइनल में भारत ने चीन को अंतिम समय में किए गए गोल की मदद से 2-1 से मात दी.

इस चैंपियनशिप में भारत और चीन के अलावा जापान, दक्षिण कोरिया और मलेशिया ने हिस्सा लिया.

टूर्नामेंट के लिए जब टीम की कमान वंदना कटारिया को सौंपी गई थी, तो चयनकर्ताओं और हॉकी इंडिया के अलावा शायद ही किसी को भरोसा रहा हो कि वह ख़िताबी जीत के साथ भारत लौटेगी.

इससे पहले भारतीय महिला हॉकी टीम रियो ओलंपिक में सबसे नीचे रही.

हालांकि, टीम को पूरे साल यूरोपीय टीमों के साथ खेलने का अवसर मिला.

इमेज स्रोत, Hockey_india

इमेज कैप्शन,

भारतीय महिला हॉकी टीम

वंदना भारतीय टीम की तेज़-तर्रार फॉरवर्ड में से एक हैं.

वैसे तो टीम में रानी रामपाल के रूप में किसी भी अवसर को गोल में बदल देने वाली खिलाड़ी भी है. लेकिन चयनकर्ताओं ने फॉरवर्ड के रूप में खेलने वाली रानी रामपाल को इस चैंपियनशिप में मिडफील्डर के रूप में खिलाया, ताकि बाकि फॉरवर्ड खिलाडियों को अधिक और तेज़ पास मिल सके.

चयनकर्ताओ का यह दांव काम कर गया.

इमेज स्रोत, facebook

इमेज कैप्शन,

वंदना कटारिया

वंदना पहली बार सुर्खियों में तब आईं, जब भारतीय जूनियर हॉकी टीम ने साल 2013 में जर्मनी में आयोजित हुए जूनियर महिला हॉकी विश्व कप में कांस्य पदक जीता.

वंदना वहां भारत की तरफ से सबसे अधिक गोल करने वाली खिलाड़ी के रूप में उभरी.

उन्होंने पांच गोल किए. वैसे जूनियर विश्व कप में सर्वाधिक गोल करने वालों में वह तीसरे स्थान पर थी.

इस साल यह किसी भी चैंपियनशिप में भारत की पहली ख़िताबी जीत है.

इस साल भारतीय महिला टीम ने न्यूज़ीलैंड और इंग्लैंड का भी दौरा किया लेकिन वहां कोई दमदार खेल नहीं दिखा सकी.

वंदना भारत के लिए 100 से अधिक अंतराष्ट्रीय मैच खेल चुकी हैं.

इमेज स्रोत, facebook

इमेज कैप्शन,

वंदना कटारिया

उनका सौंवा अंतराष्ट्रीय मैच साल 2014 में ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों में था, जब वह कनाडा के खिलाफ खेली.

भारतीय महिला हॉकी टीम ने मॉस्को में साल 1980 में हुए ओलंपिक खेलों के 36 साल बाद रियो ओलंपिक में जगह बनाई.

भारत को रियो तक पहुंचाने में भी वंदना कटारिया का बेहद अहम योगदान रहा.

24 साल की वंदना ने एक खिलाड़ी के रूप में तो उन्होंने अपनी उपयोगिता साबित की है, देखना है कि क्या भविष्य में भी उन्हें कप्तान के रूप में बरक़रार रखा जाता है या नही.

एशियन चैंपियनशिप में वंदना ने जिस तरह से टीम के मनोबल को बनाए रखा, उसके बाद उनसे एक कप्तान में रूप में सुनहरे भविष्य की उम्मीद की जा सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)