कोहली पर 'बॉल टैम्परिंग' के आरोप इसलिए बेदम

  • 23 नवंबर 2016
इमेज कॉपीरइट REUTERS

भारतीय टेस्ट कप्तान विराट कोहली पर एक ब्रिटिश अख़बार ने इंग्लैंड के ख़िलाफ़ राजकोट टेस्ट के दौरान गेंद से छेड़छाड़ का आरोप लगाया है.

आरोप है कि भारत-इंग्लैंड सिरीज़ के पहले टेस्ट के दौरान फील्डिंग करते हुए कोहली ने मुंह में रखी चुइंगम या लॉली को छुआ और उसके बाद गेंद को रगड़ कर चमक बढ़ाने की कोशिश की.

ये मामला सोशल मीडिया पर भी उछला है.

इंग्लैंड ने नहीं की शिकायत

इमेज कॉपीरइट Twitter

असफ़ंदर भित्तानी नाम के एक शख़्स ने 31 सेकंड के वीडियो के साथ ट्वीट किया, ''आईसीसी का कहना है कि फ़ेफ़ डु प्लेसी मिंट का इस्तेमाल कर गेंद से छेड़छाड़ के दोषी हैं, लेकिन यहां विराट कोहली वही करते दिख रहे हैं. उन्हें सज़ा क्यों नहीं दी गई? आईसीसी = बिग 3''

क्रिकेट की दुनिया में बिग 3 के मायने भारत, ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के क्रिकेट बोर्ड से है.

इस मामले में भारत दौरे पर आई इंग्लैंड टीम की तरफ़ से कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई गई है. टीम ने इस मामले में टिप्पणी से भी इनकार किया है.

हालांकि, अगर आईसीसी के नियम-क़ायदों पर नज़र डालें, तो अब ये आरोप बेमतलब हैं.

पांच दिन में करनी होती है शिकायत

इमेज कॉपीरइट Twitter

समाचार एजेंसी पीटीआई ने इससे जुड़ी ख़बर दी है.

गेंद से छेड़छाड़ पर आईसीसी के नियमों के मुताबिक़ अगर कोई टीम विरोधी खिलाड़ी के ख़िलाफ़ इस तरह की कोई शिकायत करना चाहती है तो ऐसा टेस्ट मैच ख़त्म होने के पांच दिनों के भीतर ऐसा करना होता है.

आईसीसी के नियम 3.2.2.1 के अनुसार लेवल 1 ऑफ़ेंस या लेवल 2 ऑफ़ेंस से जुड़ी कथित घटना होने पर इसके पांच दिन में मैच रेफ़री या आईसीसी क्रिकेट ऑपरेशंस डिपार्टमेंट को जानकारी देनी होती है.

इस मामले में जिस मैच की बात हो रही है, वो 9 से 13 अक्टूबर के बीच राजकोट में खेला गया था. अगर इंग्लैंड टीम वाक़ई इस मामले में शिकायत करना चाहती, तो उसे ऐसा 18 नवंबर तक करना था.

डु प्लेसी पर हुई कार्रवाई

इमेज कॉपीरइट Twitter

हाल में ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ टेस्ट के दौरान दक्षिण अफ़्रीकी कप्तान फ़ेफ़ डु प्लेसी पर इसी तरह के आरोप लगे थे.

आईसीसी ने आरोपों को सही पाया और उन पर 100 फ़ीसद मैच फ़ीस का जुर्माना लगाया गया.

हालांकि, वो सख़्त सज़ा से बच गए. प्लेसी पर मैच की पाबंदी भी लगाई जा सकती थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे