वन डे सिरीज़ अपने नाम करने उतरेगा भारत

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption विराट कोहली

रविवार को कटक में भारत और इंग्लैंड के बीच तीन एकदिवसीय मैचों की सिरीज़ का दूसरा मैच खेला जाएगा.

इससे पहले भारत ने पुणे में खेले गए पहले मैच में इंग्लैंड को 11 गेंद शेष रहते तीन विकेट से हराया था.

अब भारत कटक में जीतने के साथ ही 2-0 की अजेय बढ़त के साथ सिरीज़ अपने नाम करने के उद्देश्य से मैदान में उतरेगा.

दूसरी तरफ टेस्ट सिरीज़ में 4-0 से हारने वाली इंग्लैंड की टीम किसी भी क़ीमत पर मैच को अपने नाम कर सिरीज़ का रोमांच बचाए रखने की कोशिश करेगी.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption टीम इंग्लैंड

हालांकि पहले मैच में भारत के सामने जीत के लिए 351 रनों जैसा बड़ा लक्ष्य था.

एक समय तो जीत की तलाश में मैदान में उतरी भारतीय टीम के चार चोटी के बल्लेबाज़ केवल 63 रन तक पैवेलियन लौट चुके थे.

इनमें के एल राहुल, शिखर धवन, युवराज सिंह और महेंद्र सिंह धोनी के विकेट शामिल थे.

लेकिन पूर्ण रूप से कप्तानी मिलने के बाद विराट कोहली अपनी पहली कठिन परिक्षा में कामयाब रहे.

उन्होंने अपने एकदिवसीय करियर का 27वां शतक जमाते हुए 122 रनों की पारी खेलकर इंग्लैंड के मुंह से मैच छीन लिया.

उनका बख़ूबी साथ निभाते हुए केदार जाधव ने अपने एकदिवसीय करियर का दूसरा शतक लगाते हुए 120 रन बनाए.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption केदार जाधव

इन दोनों ने पांचवें विकेट के लिए जिस सहजता से 200 रन जोड़ै वह इंग्लैंड के गेंदबाज़ो का मनोबल तोड़ने के लिए काफी है.

अब इंग्लैंड के गेंदबाज़ कह रहे हैं कि वह विराट कोहली को परेशान करने के लिए शॉर्ट पिच गेंदों का सहारा लेंगे.

वहीं विराट कोहली तो ऐसे तीनों अवसर पर शतक बनाने में कामयाब रहे हैं जब भारत को जीत के लिए 350 से अधिक रनों की ज़रूरत थी.

इंग्लैंड के लिए अब करो या मरो जैसी हालत है.

अगर वह कटक में हारे तो सिरीज़ हाथ से निकलेगी, लेकिन जीत के लिए वह करे तो क्या करे.

आखिरकार 350 रन जैसा स्कोर कोई कम तो नहीं होता.

पहला मैच हारने के बाद इंग्लैंड के कप्तान इयोन मोर्गन ने भी स्वीकार किया कि उनका सारा ध्यान विराट कोहली को रोकने पर रहा, लेकिन केदार जाधव फ़ायदा उठा गए.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption इयोन मोर्गन

इसके अलावा उनके अनुभवी स्पिनर मोईन अली और आदिल रशीद भारतीय बल्लेबाज़ों पर कोई असर नहीं छोड़ सके.

पहले मैच में जीत के बावजूद विराट कोहली की थोड़ी चिंता अपनी गेंदबाज़ी को लेकर ज़रूर होगी.

सलामी बल्लेबाज़ जेसन रॉय, जो रूट और बेन स्टोक्स ने अर्धशतकीय पारी खेलकर दिखाया कि भारत के विकेटों पर रन बनाना आसान है.

कटक में पुणे के मुक़ाबले ओस अधिक होगी, इसलिए बाद में गेंदबाज़ी करने वाली टीम पर दबाव होगा.

पहले मैच में भारत के सात गेंदबाज़ों ने हाथ खोले.

टेस्ट सिरीज़ में चमकने वाले आर अश्विन को तो 63 रन देकर भी एक विकेट तक नहीं मिला.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption आर अश्विन

अगर इंग्लैंड के बल्लेबाज़ एक बार फिर 350 से अधिक रन बनाने में कामयाब रहे तो भारतीय टीम के लिए मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं.

शिखर धवन अभी भी अपनी फॉर्म में नहीं हैं.

युवराज सिंह भी धरेलू क्रिकेट में ढेरों रन बनाकर टीम में वापस लौटे हैं, लेकिन उन्हें भी बड़ी पारी खेलनी होगी.

अब देखना है कि इंग्लैंड की टीम क्या कटक में भारत की जीत के सिलसिले को रोकने में कामयाब होती है या नहीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे