100 मीटर पर हुआ धमाका लेकिन अफ़ग़ानिस्तान नहीं छोड़ेंगे एडम होलियोक

  • 19 सितंबर 2017
एडम होलियोक इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption 1997 से 1999 के बीच 14 मैचों में इंग्लैंड के एकदिवसीय कप्तान रहे. 6 जीते, 8 हारे.

इंग्लैंड के लिए 14 वनडे मैचों में कप्तानी कर चुके एडम होलियोक ने अफ़ग़ानिस्तान छोड़ने से मना कर दिया है.

केवल 100 मीटर दूर हुए आत्मघाती हमले के बाद होलियोक के पास अफ़ग़ानिस्तान छोड़ने का विकल्प मिला था.

अफ़ग़ानिस्तान में होलियोक कोचिंग दे रहे हैं और यह बम धमाका इसी दौरान स्टेडियम के पास हुआ.

अफ़ग़ानिस्तान पर चढ़ा फ़ैशन का बुखार

आठ तस्वीरों में अफ़ग़ान औरतें

सहयोगियों ने छोड़ा अफ़ग़ानिस्तान

पिछले बुधवार को काबुल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में हुए इस आत्मघाती हमले में तीन की मौत और पांच लोग घायल हो गए थे.

इसके बाद होलियोक के सहयोगियों ने अफ़ग़ानिस्तान छोड़ दिया.

लेकिन होलियोक और उनके साथ कुछ अन्य लोगों ने अफ़ग़ानिस्तान में ही रहने का मन बनाया.

होलियोक कहते हैं कि इस देश को अभी हाल ही में टेस्ट स्टेटस मिला है और यहां लोगों में क्रिकेट को लेकर जुनून है.

उन्होंने बीबीसी स्पोर्ट्स से कहा, "मैं अपना काम ख़त्म करने तक यहीं रहना चाहता हूं."

क्या हुआ था हमले के दिन?

होलियोक ने बताया, "उस दिन दो टीमों के बीच मुकाबला चल रहा था. सुरक्षा के तीन चक्र थे. उस शख्स को पहले ही सुरक्षा चक्र में पकड़ लिया गया लेकिन उसने खुद को उड़ा लिया जिसमें कई सुरक्षाकर्मी और आम लोग मारे गए."

उन्होंने कहा, "मेरी संवेदनाएं मृतक सुरक्षाकर्मियों के परिवार से है. हम 100 मीटर दूर बैठे थे. हमने उस धमाके की कंपन को महसूस किया."

होलियोक ने बताया, "मैं सभी सूचनाओं को एकत्र करने के बाद निर्णय लेना चाहता था. मेरा निर्णय उन तथ्यों पर आधारित है कि मैं यहां सुरक्षित रहूंगा."

कप्तानी कर चुके हैं होलियोक

हरफ़नमौला एडम होलियोक ने चार टेस्ट और 35 एकदिवसीय मुकाबलों में इंग्लैंड का प्रतिनिधित्व किया. 1997 में शारजाह कप के दौरान होलियोक ही इंग्लैंड के कप्तान थे.

उन्होंने काउंटी सरे को अपनी कप्तानी में नौ ट्रॉफ़ी दिलाई. 2004 में संन्यास लेने के बाद वो कारोबार की दुनिया में कूद गए.

उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में प्रॉपर्टी का कारोबार शुरू किया, लेकिन व्यवसायिक तौर पर वो बुरी तरह फ़्लॉप रहे और ऑस्ट्रेलिया में उन्हें दिवालिया घोषित किया गया.

अप्रैल 2012 में उन्होंने कुछ समय के लिए मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में भी हाथ आजमाया.

आज तक वो ज़्यादातर अपने जन्मस्थल ऑस्ट्रेलिया में रहते हैं. फिलहाल वो अफ़ग़ान सुपर लीग की टीम बूस्ट डिफ़ेंडर्स के कोच हैं और उनकी टीम सेमीफ़ाइनल तक पहुंच गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए