जब गेंदबाज़ों की धुलाई नहीं करते तब क्या करते हैं विराट कोहली

  • 5 नवंबर 2017
इमेज कॉपीरइट @imVkohli

विराट कोहली यानी भारतीय क्रिकेट का वो सितारा जो इन दिनों क्रिकेट के आसमान में छाया हुआ है.

चाहे वो बल्ले से धमाल करना हो या फिर कप्तान के तौर पर टीम इंडिया को एक आक्रामक सेना में तब्दील करने का कारनामा हो, कोहली की छाप हर जगह नज़र आ रही है.

क्रिकेट के मैदान में विराट कोहली हर नया दिन नया इतिहास रच रहे हैं. न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ हाल में हुई वनडे सिरीज़ के दौरान विराट कोहली ने 9000 वनडे रन पूरे किए. उन्होंने ये कारनामा महज 194वें पारी में बना दिया. एबी डिविलियर्स ने ये कारनामा 205 पारियों में दिखाया था.

वनडे क्रिकेट में अब उनके नाम 32 शतक हैं, सचिन तेंदुलकर के 49 शतकों के बाद वनडे क्रिकेट में शतकों के मामले में कोहली अब दूसरे पायदान पर हैं.

हाल ही में, टेस्ट क्रिकेट में भी लगातार चार टेस्ट सिरीज़ में दोहरा शतक लगाने का करिश्मा भी उन्होंने कर दिया है.

लेकिन विराट कोहली जब गेंदबाज़ों की धुनाई नहीं कर रहे होते हैं तब क्या कर रहे होते हैं?

अनुष्का का साथ

इमेज कॉपीरइट AFP

कहीं आप ये तो नहीं सोच रहे हैं कि वे अपना खाली वक्त अनुष्का शर्मा के साथ बिताते हैं. दिसंबर में विराट कोहली ने बीसीसीआई से छुट्टी मांगी है, इसके बाद से उनकी शादी को लेकर कयासों का दौर शुरू हो गया. कयासों से इतर कोहली को जब भी वक्त मिलता है वो अनुष्का के साथ समय बिताते देखे गए हैं.

कोहली ने अनुष्का के साथ अपने संबंधों को कभी छिपाया नहीं. टीवी एंकर गौरव कपूर के साथ ब्रेकफास्ट विद चैंपियंस में विराट कोहली ने इसकी वजह बतायी है, "मैंने इस संबंध में सबसे पहले चर्चा ज़हीर ख़ान से की थी. उन्होंने मुझे बताया कि संबंध हैं तो इसे छिपाओ मत, एक तो तुम दबाव में रहोगे और तुम कुछ ग़लत भी नहीं कर रहे हो."

क्रिकेट और अनुष्का के अलावा कोहली के जीवन के दूसरे रंगों का पता वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई के भारतीय क्रिकेट के 11 नामचीन सितारों पर आई किताब डेमोक्रेसीज XI में मिलता है. मसलन क्रिकेट खेलने के बाद विराट कोहली को सबसे ज़्यादा जिम में वर्कआउट करना पसंद है.

इमेज कॉपीरइट @imVkohli

विराट कोहली बताते हैं, "मैं अपनी जिम ट्रेनिंग के बिना नहीं रह सकता. ये मेरे लिए लाइफ़ च्वाइस है." ऑफ़ सीजन में कोहली चार घंटे तक वर्क आउट करते हैं. सीजन के दौरान भी डेढ़ घंटे तक वर्क आउट करने का वक्त निकाल लेते हैं.

दरअसल 2012 के बाद कोहली ने अपने फ़िटनेस पर ध्यान देना शुरू किया. संतुलित डायट भोजन के अलावा इसके लिए उन्होंने सिगरेट पीना और ड्रिंक्स लेना भी बंद कर दिया. इतना ही नहीं कोहली जल्दी सोने भी लगे ताकि जल्दी उठ सकें.

सबसे फ़िट क्रिकेटर

कोहली के लिए ये सब इतना आसान नहीं था. उनके मुताबिक, "टिपिकल पंजाबी लड़का हूं, बटर चिकन और अच्छा खाना मुझे बेहद पसंद था, लेकिन मुझे ये सब छोड़ना पड़ा. शुरू शुरू में एडजस्ट करने में काफ़ी दिक्कत हुई."

ऐसे में इन दिनों विराट कोहली क्या खा पी रहे हैं, इसके बारे में राजदीप सरदेसाई ने लिखा है, "प्रोटीन शेक, बादाम और एक केला. ना रोटी-ना चावल."

ब्रेकफास्ट विद चैंपियंस में विराट कोहली ने बताया है, "नाश्ते में आमलेट खाता हूं. पपीता, तरबूज और ड्रैगन फ्रूट. नट बटर. ग्रीन टी. खाने पर ग्रिल्ड चिकेन और रात में सी फूड."

इस खानपान का असर है कि विराट कोहली मौजूदा समय में दुनिया के सबसे फ़िट खिलाड़ियों में से एक माने जा रहे हैं.

क्रिकेट और ज़िम में वर्क आउट के अलावा कोहली क्या करते हैं, इस बारे में कोहली ने लेखक को बताया है, "जो लोग मुझे नहीं जानते हैं, वो मेरी लाइफ़स्टाइल के बारे में बात करते हैं. मेरे बेहद कम दोस्त हैं और जब मैं दिल्ली में होता हूं तो घर पर आराम करने के अलावा प्लेस्टेशन पर फीफा गेम्स खेलता हूं."

लेकिन मौजूदा समय में कोहली केवल क्रिकेटर भर नहीं हैं, वो दुनिया के सबसे बड़े ब्रैंड एंबैसडरों भी एक हैं. अमूमन एक विज्ञापन के पांच करोड़ रुपये लेने वाले विराट कोहली इन दिनों साल भर में 100 करोड़ रुपये से ज़्यादा कमा लेते हैं.

स्टाइलिश सितारा

ज़ाहिर है कि इसके लिए भी कोहली को वक्त निकालना होता है. कोहली की विज्ञापन की दुनिया को संभालने वाले एजेंट के मुताबिक, "कोहली साल में अधिकतम 25 से 30 दिन तक ब्रैंड रिलेटेड काम के लिए देते हैं. लेकिन किसी सिरीज़ या टूअर के दौरान वो वक्त नहीं देते हैं."

इन विज्ञापनों की चमक के चलते भी कोहली के सामने स्टाइलिश बने रहने की चुनौती है. बालों के स्टाइल के अलावा कोहली के टैटू भी लोगों का ध्यान खिंचते हैं. कोहली ने अपने शरीर पर चार टैटू बनवाए हुए हैं- माता का नाम, पिता का नाम, टेस्ट कैप नंबर, वनडे कैप नंबर.

इमेज कॉपीरइट @imVkohli

विराट कोहली का बल्ला इन दिनों चल रहा है, लेकिन अभी से उन्होंने कारोबार की दुनिया में भी क़दम बढ़ा दिए हैं. अपनी इमेज और स्टाइल के चलते ही उन्होंने ज़िम की चेन शुरू की है. इसके अलावा रेडिमेड कपड़ों का एक ब्रैंड और अकूस्टिक्स ब्रैंड (आवाज़ सुनने के उपकरण) के धंधे में भी उन्होंने हाथ आजमाया है.

अमूमन किसी मुक़ाबले से पहले गले में हेडफ़ोन लटकाए या कान पर हेडफ़ोन लगाए कोहली को ख़ुद म्यूज़िक से काफ़ी लगाव है.

इन सबके अलावा विराट कोहली ने देश की युवा खेल प्रतिभाओं को निखारने के लिए विराट कोहली फाउंडेशन भी शुरू किया है. पहली जनवरी, 2018 से 31 दिसंबर, 2020 तक फाउंडेशन अलग अलग खेलों से जुड़ी आठ प्रतिभाओं की फ़िटनेस और ट्रेनिंग से जुड़ी सुविधाएं जुटाने वाला है.

विराट कोहली के पास आज सबकुछ है, ऐसे में कोई बात जो वो करना चाहते हैं और कर नहीं पा रहे हों? इस बारे में वरिष्ठ खेल पत्रकार विजय लोकपल्ली ने पिछले साल प्रकाशित ड्रिवन- द विराट कोहली स्टोरी में लिखा है- "क्रिकेट की व्यस्तता के चलते कोहली ना तो आगरा का ताजमहल देखने जा पाए हैं और ना ही जम्मू का वैष्णोदेवी मंदिर. ये दो ऐसी इच्छाएं हैं जो पूरी नहीं हुई हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे