राहुल द्रविड़ यानी क्रिकेट की वो दीवार जो टूटने का नाम नहीं लेती

  • 4 फरवरी 2018
राहुल द्रविड़ इमेज कॉपीरइट INDRANIL MUKHERJEE/AFP/Getty Images

अंडर-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप की खिताबी जीत में जितना योगदान भारत के युवा उभरते हुए सितारों का है, कमोबेश उतना ही योगदान मैदान के पीछे रणनीति बनाने वाले टीम के कोच राहुल द्रविड़ का भी है.

लेकिन जो कामयाबी का श्रेय लेने की होड़ में जुट जाए वो राहुल द्रविड़ भी नहीं बन सकता.

यही वजह है कि टीम की जीत के तुरंत बाद टीवी कैमरे पर प्रतिक्रिया देते हुए राहुल द्रविड़ सकुचाते नज़र आए.

जब राहुल सकुचा रहे थे, तभी उनके ठीक पीछे वर्ल्ड चैंपियन बने सितारे उनके लिए ज़ोर शोर से चीयर्स करते नज़र आ रहे थे.

इस फ्रेम को ज़रा ठहर कर देखिएगा, बार बार देखिएगा. ये फ्रेम अपने आप में एक मुकम्मल कहानी बयां करता है.

इमेज कॉपीरइट Hamish Blair/Getty Images

आउटस्टैंडिंग रिकॉर्ड

राहुल द्रविड़ के क़द वाला या फिर भारतीय क्रिकेट के दूसरे सितारे सचिन तेंदुलकर या सौरव गांगुली को आप उसी फ्रेम पर रख कर सोचिए कि क्या उनके सामने अंडर 19 के खिलाड़ी इतने सहज हो पाते.

द्रविड़ ने इसके लिए खुद को लीजेंडरी क्रिकेटर की छवि से बाहर निकाला होगा और इन खिलाड़ियों से आपसी रिश्ता मज़बूत किया होगा.

ये राहुल द्रविड़ से ही संभव है, खुद को गौण बना लेने वाली ये फितरत उनके साथ मानो चिपक गई है.

जब तक क्रिकेट के मैदान में रहे तेंदुलकर और गांगुली के सामने हमेशा खुद को साबित करते रहे और एक आउटस्टैंडिंग रिकॉर्ड के बावजूद उनकी गिनती हमेशा दूसरे तीसरे पायदान पर होती रही और अब वो भारतीय क्रिकेट के भविष्य को चमकाने में जुटे हैं, वो चुपके चुपके.

इमेज कॉपीरइट Tom Shaw/Getty Images

कोचिंग की ज़िम्मेदारी

कोई चाहे तो इस एक फ्रेम में वो पूरी पटकथा पढ़ सकता है, जिसकी शुरुआत 2015 में तब हुई थी जब जगमोहन डालमिया ने भारतीय क्रिकेट को बेहतर बनाने के लिए सचिन तेंदुलकर, वीवीएस लक्ष्मण और सौरव गांगुली की अगुवाई में क्रिकेट सलाहकार समिति का गठन किया था.

ये बात ठीक है कि उस समिति में राहुल द्रविड़ नहीं थे, लेकिन ये उसी दिन तय हो गया था कि वो एक अहम भूमिका निभाने वाले हैं.

कुछ ही दिनों के अंदर राहुल द्रविड़ को भारत-ए और अंडर-19 क्रिकेट टीम की कोचिंग की ज़िम्मेदारी सौंप दी गई.

तो जिस कामयाबी का जश्न आज भारत के युवा क्रिकेटर मना रहे हैं, उसकी नींव राहुल ने तीन साल पहले शुरू कर दी थी.

इमेज कॉपीरइट MARTY MELVILLE/AFP/Getty Images

अंडर-19 टीम की तैयारी

दो साल पहले उनकी कोचिंग में अंडर-19 की टीम वर्ल्डकप फ़ाइनल तक पहुंची थी, लेकिन वेस्टइंडीज़ से पार नहीं पा सकी थी.

इस बार ऐसी कोई चूक नहीं हो जाए लिहाजा द्रविड़ ने टीम को थोड़ा पहले न्यूज़ीलैंड भेजने के लिए बीसीसीआई को तैयार किया और उसका नतीजा सामने है.

राहुल द्रविड़ ने किस तरह से अंडर-19 टीम को तैयार किया है, इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि पूरी टीम किसी एक या दो स्टार खिलाड़ियों पर निर्भर नहीं रही.

जिस शुभमन का बल्ला पूरे टूर्नामेंट में चमक बिखेर रहा था, उसे धकियाते हुए मनजोत शतक ठोक देते हैं.

कप्तान पृथ्वी शॉ के रहते दूसरे बल्लेबाज़ अपना काम बखूबी करते रहे.

इमेज कॉपीरइट Hagen Hopkins/Getty Images

राहुल द्रविड़ इम्पैक्ट

जिस अनुकूल राय ने टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा विकेट चटकाए, उसका टूर्नामेंट में खेलना तक तय नहीं था, लेकिन द्रविड़ ने उन पर भरोसा कायम रखा.

टीम का हर खिलाड़ी अपनी भूमिका निभाने को तैयार नजर आता है और चुनौती आने पर संभाल लेने की कला में राहुल ने हर किसी को पारंगत करने की कोशिश की है.

अपनी इसी शैली की वजह से राहुल द्रविड़ इम्पैक्ट भारतीय क्रिकेट पर बना हुआ है, उनके संन्यास लेने के छह साल बाद भी.

इंडियन प्रीमयर लीग में राजस्थान रॉयल्स के खिलाड़ी और मेंटॉर के तौर पर उन्होंने करुण नायर, संजू सैमसन और धवल कुलकर्णी जैसे युवाओं को निखारा.

भारत-ए टीम के कोच के तौर पर द्रविड़ की मौजूदगी से भारतीय क्रिकेट टीम को हार्दिक पांड्या, केदार जाधव, यजुवेंद्र चहल, श्रेयस अय्यर, जयंत यादव और मनीष पांडेय जैसे क्रिकेटर मिल चुके हैं.

इमेज कॉपीरइट Matthew Lewis/Getty Images

कोचिंग स्टाइल

ऐेसे में एक बड़ा सवाल ये ज़रूर उभरता है कि राहुल द्रविड़ बतौर कोच क्या कुछ कर रहे हैं जिसके चलते वो बेंच पर एक मज़बूत टीम बनाते जा रहे हैं.

अपने पूरे करियर के दौरान राहुल द्रविड़ भरोसेमंद होने के बावजूद चुनौतियों का सामना करते रहे, लगातार बदलती परस्थितियों के अनुरूप खुद को ढालते रहे.

खुद की प्रतिभा को कमिटमेंट और नेट प्रैक्टिस के सहारे बढ़ाते रहे, इन सबने मिलाकर उन्हें एक मैच्योर मेंटॉर भी बनाया है.

अपने कोचिंग स्टाइल के बारे में राहुल द्रविड़ ने एक बार कहा था कि कोच तो हमेशा यही चाहता है कि उसे ऐसी प्रतिभाएं मिलें जो कुछ सीखना चाहते हों, भले वो मेरी पूरी बात सुनें ना सुनें लेकिन उनमें सीखने की इच्छा जरूरी है.

इमेज कॉपीरइट Ritam Banerjee/Getty Images for Laureus

द्रविड़ ने कहा था...

द्रविड़ के सामने ऐसी प्रतिभाओं को तलाशने और उन्हें निखारने की जो चुनौती है, उसमें वे काफी कायमाब नज़र आते हैं. लेकिन राहुल द्रविड़ इतने भर से संतुष्ट होने वालों में नहीं हैं.

क्रिकेट को लेकर उनकी सोच में क्या क्या पहलू शामिल हैं, इसका अंदाजा दिसंबर, 2011 में कैनबरा में डॉन ब्रैडमैन ऑरेशन के दौरान उनकी कही बातों से लगाया जा सकता है.

द्रविड़ ने कहा था, "ब्रैडमैन की कही एक बात दिमाग में जमी हुई है. दुनिया के सबसे बेहतरीन एथलीटों में अपनी निपुणता के साथ कुछ और गुण होने चाहिए"

"अपने जीवन को गरिमापूर्ण ढंग से, प्रतिबद्धता के साथ, साहस और सरलता के साथ चलाने की काबिलियत होनी चाहिए."

"उनकी बातों से गर्व, लक्ष्य, प्रतिबद्धता और प्रतिस्पर्धा जाहिर होती है, मेरे ख्याल से दुनिया भर के क्रिकेट ड्रेसिंग रूम में इन शब्दों को लिखकर टांग देना चाहिए."

इमेज कॉपीरइट Gareth Copley/Getty Images

विदेशी मैदानों पर...

द्रविड़ 39 साल तक क्रिकेट खेलते रहे, लगातार 15 साल तक टॉप क्लास क्रिकेट में वो बने रहे.

ना केवल बने रहे बल्कि टेस्ट मैचों में काफी हद तक भारतीय क्रिकेट को बोझ अपने कंधों पर ढोते रहे.

टेस्ट में उन्होंने जो 36 शतक जमाए उनमें 21 विदेशी मैदानों पर हैं, विदेशी मैदानों पर उनकी बल्लेबाजी का औसत 53 से ज्यादा का रहा.

भारत ने उनके करियर के दौरान विदेशी मैदानों पर जो 24 टेस्ट जीते उनमें उनका औसत 70 से ज्यादा का रहा.

जब तक खेलते रहे तब तक ब्रैडमैन के शब्द को जीवन में उतारे रखा और अब कोच के तौर पर उनकी ड्रेसिंग रूम में भी यही शब्द गूंजते रहते हैं.

इमेज कॉपीरइट Stu Forster/Getty Images

द्रविड़ का योगदान

सच यही है कि उनमें अभी भी इतनी क्रिकेट बाक़ी है कि आने वाले दसियों साल तक भारत की युवा प्रतिभाओं को निखार सकते हैू.

हालांकि अभी से उनको भारतीय क्रिकेट टीम का कोच बनाए जाने की सुगबुगहाट होने लगी है.

लेकिन राहुल द्रविड़ ये बखूबी जानते हैं कि जिन्हें आज वो तराश रहे हैं वही कल की भारतीय टीम के स्टार बनने वाले हैं.

लिहाजा मुख्य टीम के बदले अंडर-19 और भारत-ए टीम की कोचिंग से राहुल द्रविड़ का योगदान कमतर नहीं हो जाएगा.

भारतीय क्रिकेट की ये दीवार इतनी बुलंद है कि आने वाली कई जेनरेशन की भारतीय टीमें उनके सहारे चुनौतियों को पार करने का करिश्मा दिखाती रहेंगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे