कॉमनवेल्थ गेम्स 2018: भारत के बॉक्सिंग कोच का डोपिंग से इनकार

फ़ाइल फोटो इमेज कॉपीरइट AFP

ऑस्ट्रेलिया में चार अप्रैल से शुरू हो रहे कॉमनवेल्थ खेलों में भारतीय बॉक्सिंग टीम पर लगे डोपिंग के इल्ज़ाम को पुरुष टीम के कोच ने ख़ारिज किया है.

सेंटियागो निएवा ने कहा है कि एक बीमार बॉक्सर को विटामिन का टीका लगाया गया था.

आयोजकों ने किसी टीम का नाम न लेते हुए, खेलगांव में 'सुई के इस्तेमाल' वाली नीति के उल्लंघन के सिलसिले में कुछ अधिकारियों को तलब किया था.

ख़बरों के मुताबिक एक सफाई कर्मचारी ने खेलगांव में सिरिंज मिलने की जानकारी आयोजकों को दी थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत के पुरुषों की टीम के कोच सेंटियागो निएवा ने ऑस्ट्रेलिया के 7 न्यूज़ को बताया, "मुझे भरोसा है कि हमारे बॉक्सरों ने कुछ ग़लत नहीं किया है."

"हमारे एक बॉक्सर की तबीयत ठीक नहीं थी और डॉक्टर ने उसे इंजेक्शन लगाया था."

ये पूछे जाने पर की क्या बॉक्सर को प्रदर्शन बेहतर करने की ड्रग्स का डोज दिया गया था, कोच ने कहा, "नहीं, वो विटामिन का टीका था."

कॉमनवेल्थ खेलों के अधिकारी खेलगांव में पाई गई सिरिंजों की जांच कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कॉमनवेल्थ गेम्स फ़ेडरेशन यानी सीजीएफ़ ने एक बयान में कहा है, "सीजीएफ़ ने 'नो-नीडिल' की नीति के उल्लंघन के मामले की जांच पूरी कर ली है. जांच के नतीजे को सीजीएफ़ के कोर्ट को बढ़ा दिया गया है. ये कोर्ट मंगलवार को इस मामले की सुनवाई करेगा."

"हम ये साफ़ करना चाहते हैं कि ये जांच सिर्फ़ एंटी-डोपिंग के नियमों का उल्लंघन के बारे में नहीं, बल्कि खेलगांव में नो-नीडिल नीति के उल्लंघन के बारे में भी है."

इससे पहले कॉमनवेल्थ गेम्स फ़ेडरेशन के मुख्य कार्यकारी डेविड ग्रेवेम्बर्ग ने कहा था कि एक देश के अधिकारियों को मेडिकल कमीशन के साथ बातचीत के लिए बुलाया गया है.

ग्रेवेम्बर्ग ने देश का नाम लेने से इनकार कर दिया.

ये भी पढ़े:

ऑस्ट्रेलिया में भारतीय कैंप से मिली सिरिंज, जांच शुरू

गोल्ड कोस्ट में खिलाड़ियों के लिए एक लाख कंडोम का इंतज़ाम

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)