कॉमनवेल्थ गेम्स 2018: भारतीय बॉक्सिंग टीम के डॉक्टर को लगी फटकार

सांकेतिक तस्वीर

कॉमनवेल्थ खेलों में 'नो-नीडल' नीति की अवहेलना करने के लिए आयोजकों ने भारतीय बॉक्सिंग टीम के डॉक्टर को फटकार लगाई है.

ये फ़ैसला खेलगांव में सिरिंज मिलने के बाद हुई जांच के बाद आया है.

भारतीय बॉक्सिंग टीम के डॉक्टर अमोल पाटिल ने एक अस्वस्थ मुक्केबाज़ को विटामिन बी का टीका लगाया था.

उसके बाद डॉक्टर ने नीडल कमरे में ही छोड़ दी थी. लेकिन खेलों के नियमों के अनुसार उन्हें नीडल को पहले से ही तय एक सुरक्षित स्थान पर रखना था.

कॉमनवेल्थ गेम्स फ़ेडरेशन की अदालत ने डॉक्टर पाटिल का पक्ष सुना. डॉक्टर पाटिल का यह पहला कॉमनवेल्थ खेल है और उन्हें इस नियम की जानकारी थी.

आयोजकों की ओर जारी एक बयान में कहा गया है, "इन हालात में, फ़ेडरेशन की अदालत का फ़ैसला है कि डॉक्टर को सख़्त लिखित फटकार लगाई जाए."

ये भी पढ़े:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)