श्रेयस अय्यर, जिन्होंने मैच भी जीता और दिल भी

श्रेयस अय्यर इमेज कॉपीरइट Getty Images

दिल्ली डेयरडेविल्स ने शनिवार को खेले गए मैच में कोलकता नाइट राइडर्स को 55 रनों से हराकर इस सीज़न में दूसरी जीत दर्ज की है.

नई दिल्ली के फिरोज़शाह कोटला मैदान में खेले गए इस मैच में दिल्ली डेयरडेविल्स ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 4 विकेट पर 219 रन बनाए थे.

इसमें दिल्ली के नए कप्तान श्रेयस अय्यर की 40 गेंदों पर खेली गई 93 रनों की नाबाद पारी भी शामिल रही, जिसमें 3 चौके और 10 छक्के शामिल थे. अय्यर ने आख़िरी ओवर में चार छक्कों और 1 चौके की मदद से 29 रन बनाए.

220 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी कोलकाता नाइट राइडर्स की टीम 20 ओवरों मे नौ विकेट पर 164 रन ही बना पाई.

दिल्ली की इस जीत का श्रेय टीम के ऑलराउंड प्रदर्शन के साथ-साथ श्रेयस अय्यर की कप्तानी को भी दिया जा रहा है.

कौन हैं श्रेयस अय्यर

कोलकाता के ख़िलाफ़ दिल्ली में खेले गए मैच में शानदार बल्लेबाज़ी करने वाले 23 साल के श्रेयस संतोष अय्यर टॉप ऑर्डर इमें इसी तरह की आक्रामक बल्लेबाज़ी के लिए पहचाने जाते हैं.

मुंबई में जन्मे और वहीं पले बढ़े श्रेयस दाएं हाथ के बल्लेबाज़ हैं और घरेलू क्रिकेट में मुंबई की तरफ़ से खेलते हैं. वह 2014 आईसीसी अंडर 19 वर्ल्डकप में भारत के लिए खेल चुके हैं.

श्रेयस साल 2015 में उस समय सुर्खियों में आए थे, जब दिल्ली डेयरडेविल्स ने खिलाड़ियों की नीलामी में उन्हें 2.6 करोड़ रुपये में खरीदा था. उस आईपीएल सीज़न में उन्होंने 14 मैचों में 33.76 की औसत से 439 रन बनाए थे.

जिस समय उन्हें दिल्ली डेयरडेविल्स ने भारी-भरकम रकम में खरीदा, उस समय श्रेयस घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन कर रहे थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption 2017 आईपीएल की तस्वीर

2014-15 रणजी सीज़न में उन्होंने 50.56 की औसत से 8098 रन बनाए थे, जिनमें दो शतक और छह अर्धशतक थे.

उनके शानदार प्रदर्शन का यह सिलसिला रणजी के अगले सत्र में भी जारी रहा था. 2015-16 रणजी सीज़न में उन्होंने 73.39 की औसत से 1321 रन बनाए थे. वह सीज़न में सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी थे. फ़ाइनल में उन्होंने शतक लगाकर मुंबई को 41वीं बार ख़िताब जीतने में मदद की थी.

फ़र्स्ट क्लास क्रिकेट में पदार्पण करने से पहले उन्होंने पहला लिस्ट ए मैच मुंबई की तरफ से साल 2014 में खेला था, विजय हज़ारे ट्रोफ़ी में. इस टूर्नामेंट में उन्होंने 54.60 की औसत से 273 रन बनाए थे.

राशिद ख़ान: महफ़िल आईपीएल की, लूट ले गया अफ़ग़ान

महेंद्र सिंह धोनी ने दिखाया कि आज भी वही हैं बॉस!

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर

श्रेयस अब तक 6 वनडे और इतने ही टी20 मैच भारत की तरफ़ से खेल चुके हैं. छह वनडे मैचों में उन्होंने 42 की औसत से 210 रन बनाए हैं, जिनमें दो अर्धशतक शामिल हैं. 88 उनका उच्चतम स्कोर है.

उन्होंने पहला वनडे इंटरनैशनल मैच 10 दिसंबर 2017 को श्रीलंका के खिलाफ़ धर्मशाला क्रिकेट स्टेडियम में खेला था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मार्च 2017 में श्रेयस को ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ चौथे टेस्ट के लिए भारतीय टीम में शामिल किया गया था, मगर वह प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं बना पाए थे.

श्रेयस को अक्तूबर 2017 में न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ टी20 सिरीज़ के लिए भारतीय टीम में शामिल किया गया था. 1 नवंबर 2017 को उन्हें टीम में जगह मिली थी मगर बल्लेबाज़ी का मौका नहीं मिला. चार नवंबर 2017 को उन्हें मौका मिला, जिसमें उन्होंने 21 गेंदों में 23 रन बनाए थे.

नवंबर 2017 में श्रीलंका के साथ होने वाली सिरीज़ के लिए टीम में उनका नाम शामिल किया गया था. 10 दिसंबर 2017 को धर्मशाला में उन्होंने पहला वनडे मैच खेला. इस मैच में वह 27 गेंदों में नौ रन ही बना पाए थे.

आईपीएल करियर

2015 से लेकर अब तक श्रेयस अय्यर 39 आईपीएल मैच खेल चुके हैं जिनमें उन्होंने 31.84 की औसत से 1051 रन बनाए हैं. वह नौ अर्धशतक लगा चुके हैं और 96 रन उनका उच्चतम स्कोर रहा है.

2018 में आईपीएल नीलामी के दौरान दिल्ली डेयरडेविल्स ने श्रेयस को रीटेन किया था. जब टीम के लगातार ख़राब प्रदर्शन के बाद गौतम गंभीर ने कप्तानी छोड़ी तो श्रेयस को यह ज़िम्मेदारी दी गई.

उनकी कप्तानी में खेले गए पहले ही मैच में दिल्ली डेयरडेविल्स को जीत मिली है. कोलकाता नाइटराइडर्स के ख़िलाफ़ खेले गए इस मैच से पहले दिल्ली डेयरडेविल्स पॉइंट टेबल में सबसे नीचे थी.

नई ज़िम्मेदारी मिलने के बाद अय्यर ने कहा था, "मुझे ज़िम्मेदारी उठाना पसंद है, चुनौतियां मुझे अच्छी लगती हैं. यह ख़ुद को साबित करने और टीम को अगले स्तर पर ले जाने का शानदार अवसर है."

वीरेंद्र सहवाग ने मुझे चुनकर आईपीएल को बचा लिया: गेल

क्या क्रिकेट की सबसे बदनाम टीम है ऑस्ट्रेलिया?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे