फ़ीफ़ा वर्ल्ड कप 2018: इंग्लैंड ने पेनल्टी शूटआउट में कोलंबिया को हराया, क्वार्टर फ़ाइनल में पहुँचा

  • 4 जुलाई 2018
कप्तान हैरी केन इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption कप्तान हैरी केन इंग्लैंड की तरफ़ से लगातार छह मैचों में गोल करने वाले पहले फ़ुटबॉलर बन गए हैं.

इंग्लैंड की फ़ुटबॉल टीम के कप्तान हैरी केन की आँखों में आँसू थे और स्टेडियम में हज़ारों की संख्या में मौजूद कोलंबिया के दर्शकों की आँखों में भी. फ़र्क ये था था कि हैरी केन की आँखों में जीत की खुशी छलक रही थी, तो कोलंबियाई दर्शक अपनी टीम का वर्ल्ड कप में सफर खत्म होने से मायूस थे.

समारा में दोनों टीमों के बीच वर्चस्व की जंग 120 मिनट तक लड़ी गई. निर्धारित समय तक दोनों टीमें 1-1 गोल की बराबरी पर छूटीं और एक्स्ट्रा टाइम में भी ये ज़ोर-आजमाइश जारी रही.

आखिरकार मुक़ाबले का फ़ैसला पेनल्टी शूटआउट से हुआ, जिसमें पलड़ा इंग्लैंड के पक्ष में रहा. कोलंबिया के कार्लोस बक्का की किक का इंग्लैंड के गोलकीपर जॉर्डन पिकफ़ोर्ड ने बखूबी बचाव किया और इसके बाद इरिक डायर ने कोलंबिया के गोलची को चकमा देते हुए गोल कर टीम का अंतिम आठ में पहुँचना सुनिश्चित किया.

इंग्लैंड ने मैच 4-3 से जीत लिया. क्वार्टर फ़ाइनल में इंग्लैंड का मुक़ाबला स्वीडन से होगा.

इंग्लैंड की तरफ़ से पहला गोल दूसरे हाफ़ में कप्तान हैरी केन ने पेनल्टी किक से किया. इसके बाद कोलंबिया ने बराबरी का गोल दागने के लिए पूरी ताक़त झोंक दी. मैच खत्म होने में बस चंद मिनट ही बाकी थे कि कोलंबिया के येरी मिना ने बराबरी का गोल दागकर मैच को एक्स्ट्रा टाइम में धकेल दिया.

स्वीडन क्वार्टर फ़ाइनल में, स्विटज़रलैंड बाहर

नेमार की इस 'नौटंकी' पर दुनिया हैरान

इमेज कॉपीरइट AFP

इससे पहले, इंग्लैंड वर्ल्ड कप में तीन बार पेनल्टी शूटआउट में फंसा था. साल 1990, 1998 और साल 2006 में और तीनों ही बार उसे हार मिली थी. लेकिन इस बार इंग्लैंड ने जीत हासिल की और 12 साल बाद वर्ल्ड कप के क्वार्टर फ़ाइनल में पहुँचने में कामयाबी हासिल की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)