इंडोनेशिया में एशियाई खेलों में कितने पदकों का दावेदार है भारत

  • 18 अगस्त 2018
एशियन गेम्स 2018, Asian Games 2018 इमेज कॉपीरइट Getty Images

इंडोनेशिया के जकार्ता और पालेमबाग में 18वें एशियाई खेलों का आयोजन एक रंगारंग कार्यक्रम के साथ शुरू हो गया है. इन खेलों का आयोजन 18 अगस्त से दो सितंबर तक किया जा रहा है.

चार साल में एक बार होने वाले इन एशियाई खेलों में भारत 36 स्पर्धाओं में अपने 572 खिलाड़ियों को उतार रहा है. भारतीय खिलाड़ियों के सामने अठारहवें एशियाई खेलों में बेहतर प्रदर्शन करने की चुनौती है.

उनसे उम्मीद है कि वो गोल्ड कोस्ट की सफलता को दोहराएं. अप्रैल में ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में आयोजित किए गए राष्ट्रमंडल खेलों में भारतीय खिलाड़ियों ने बेहतरीन प्रदर्शन कर कई ऐतिहासिक उपलब्धियां अपने नाम की थीं.

उद्घाटन समारोह में भारतीय दल की अगुआई राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण जीतने वाले जेवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा करेंगे जिनसे भारत को पदक की उम्मीद भी है.

भारतीय ओलिंपिक एसोसिएशन ने सबसे अधिक 52 खिलाड़ी एथलेटिक्स स्पर्धा के लिए जकार्ता भेजे हैं. बैडमिंटन में 20 और साइक्लिंग में 15 खिलाड़ी हिस्सा लेंगे, जबकि कुश्ती में 18, निशानेबाज़ी में 28 और टेनिस से 12 खिलाड़ी हैं.

इसके अलावा तीरंदाजी में 16, हॉकी में 36, बास्केटबॉल में 12, हैंडबाल में 16, कबड्डी में 24, वुशू में 13, ताइक्वांडो में पांच, जूडो में छह, कराटे में दो, मुक्केबाजी में 10, जिम्नास्टिक में 10, शतरंज में आठ, टेबल टेनिस में 10, भारोत्तोलन में पांच और गोल्फ में भारत के 10 खिलाड़ी हिस्सा लेंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption हैंड बॉल स्पर्धा में दक्षिण कोरिया के ख़िलाफ़ शुरुआती मुकाबले में भारतीय खिलाड़ी रितु

पदक की आस

पदक की उम्मीदों में नीरज के अलावा पहलवान सुशील कुमार, साक्षी मलिक, बजरंग पुनिया, विनेश फोगाट और हिमा दास शामिल हैं.

आइएएएफ ट्रैक ऐंड फील्ड स्पर्धा में 400 मीटर में असम के नगांव की 20 वर्षीय हिमा दास स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय बनी हैं और उनसे एशियाई खेलों में भी पदक की उम्मीद है. हालांकि गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में उन्होंने छठा स्थान हासिल किया था.

मुक्केबाजी के पुरुष वर्ग में शिव थापा, विकास कृष्णा के ऊपर दारोमदार रहेगा. विकास 2010 में स्वर्ण जीत चुके हैं. उनके पास एशियाई खेलों में दो स्वर्ण जीतने वाले पहले भारतीय मुक्केबाज़ बनने का मौक़ा है.

महिला वर्ग में तीन भारतीय मुक्केबाज़ उतर रही हैं. इसमें सबसे अधिक 57 किलोवर्ग में सोनिया लाठर सबसे बड़ी पदक उम्मीद हैं.

निशानेबाजी में युवाओं पर दारोमदार है. मनु भाकेर, अनीश भानवाल जैसे युवा खिलाड़ी पदक जीतने का माद्दा रखते हैं.

बैडमिंटन में पी.वी. सिंधु, सायना नेहवाल और किदाम्बी श्रीकांत पर उम्मीदें हैं.

टेबल टेनिस में राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीत चुकीं मनिका बत्रा से इतिहास रचने की उम्मीद है.

भारतीय पुरुष हॉकी टीम पिछले एशियाई खेलों में विजेता थी. पीआर श्रीजेश की कप्तानी में उनसे एक बार फिर स्वर्ण पदक की आस है.

एशियाई खेलों के महिला हॉकी में भारत ने पिछली बार कांस्य पदक जीता था. कप्तान रानी रामपाल के नेतृत्व वाली महिला हॉकी टीम से इस बार पदक का रंग बदलने की उम्मीद की जा रही है. भारतीय महिलाएं 1958 से अब तक केवल एक बार स्वर्ण पदक जीत सकी हैं.

वहीं कबड्डी एक ऐसा खेल है जिसमें भारत का शुरू से दबदबा रहा है लिहाजा स्वर्ण लगभग पक्का दिख रहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पैराग्लाइडिंग

10 नई स्पर्धाएं

10 स्पर्धाएं ऐसी हैं, जो पहली बार एशियाई खेलों का हिस्सा बनी हैं.

3 गुणा 3 बास्केटबॉल: इसमें चार खिलाड़ियों की एक टीम शामिल होती है. इसमें तीन खिलाड़ी मैदान पर होते हैं और एक खिलाड़ी रिजर्व होता है. बास्केटबॉल का खेल फ़ुल कोर्ट पर होता है, जबकि इस स्पर्धा का आयोजन हॉफ़ कोर्ट पर होता है.

कॉन्ट्रेक्ट ब्रिज: ताश के पत्तों का खेल पहली बार एशियाई खेलों का हिस्सा बना है. यह स्पर्धा 21 अगस्त से शुरू होकर दो सितंबर तक चलेगी.

जेट स्की: पानी पर इंजन की मदद से चलने वाली नाव की इस स्पर्धा का आयोजन 23 से 26 अगस्त तक जकार्ता के एनकोल बीच पर होगा.

पैराग्लाइडिंग: इस स्पर्धा में एथलीट दो वर्गों में हिस्सा लेंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पेनकेक सिलाट

पेनकेक सिलाट: यह एक पारंपरिक इंडोनेशियाई मार्शल आर्ट्स है.

जु-जित्सु: यह एक मार्शल आर्ट्स स्पर्धा है जिसमें रणनीति और योजना की भूमिका अहम होती है.

साम्बो: कुश्ती जैसी बिना हथियारों के आत्मरक्षा का गुण सिखाने वाली इस स्पर्धा जापान के जु-जित्सु से प्रेरित है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मार्शल आर्ट जु-जित्सु

कुराश: उज्बेकिस्तान का पारंपरिक मार्शल आर्ट्स, यह 3,500 साल पुराना खेल है. यह जूडो और कुश्ती को मिलाकर बना है. दो खिलाड़ी मैट पर खड़े होकर इसे खेलते हैं और गिरने से बचने की कोशिश करते हैं.

रॉक क्लाइंबिंग: इस स्पर्धा का आयोजन 23 से 27 अगस्त तक पालेमबाग के जाकाबारिंग स्पोर्ट्स सिटी एथलेटिक परिसर में होगा.

रोलर स्पोर्ट्स: यह स्केटबोर्डिंग और इन-लाइन स्पीट स्केटिंग की स्पर्धा है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption माइकल बाम्बांग हरटोनो 18वें एशियाई खेलों के सबसे उम्रदराज खिलाड़ी

78 वर्षीय बाम्बांग सबसे बुज़ुर्ग खिलाड़ी

इंडोनेशिया के सर्वाधिक धनी व्यक्ति माइकल बाम्बांग हरटोनो एशियाई खेलों में हिस्सा लेने वाले सबसे उम्रदराज एथलीट होंगे. बाम्बांग 78 साल के हैं और वह ब्रिज के खेल में भाग लेंगे.

बाम्बांग और उनके भाई बुदी हरटोनो फ़ोर्ब्स मैगज़ीन की सूची में लगातार पिछले 10 सालों से इंडोनेशिया के शीर्ष 50 अमीर व्यक्तियों में टॉप पर रहे हैं.

इंडोनेशिया में होने वाले एशियाई खेलों में ब्रिज 21 अगस्त से शुरू होगी और यह दो सितंबर तक चलेगी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

ट्विटर के तीन इमोजी

सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर ने एशियाई खेलों के लिए तीन इमोजिज जारी किए हैं. इनमें एक मशाल है जो ऊर्जा का प्रतीक है और तीन शुभंकर हैं. ये इमोजिज अक्तूबर तक उपलब्ध रहेंगे.

इमेज कॉपीरइट PTI

एशियाई खेलों का इतिहास

इन खेलों की शुरुआत 1951 में नई दिल्ली से हुई थी. जकार्ता इससे पहले 1962 में एशियाई खेलों के चौथे संस्करण की मेज़बानी कर चुका है.

1962 में भारत ने जकार्ता में तीसरा स्थान हासिल किया था. तब उसने 12 स्वर्ण, 13 रजत और 27 कांस्य पदकों समेत 52 पदक जीते थे.

एशियाई खेलों के पिछले तीन संस्करणों में भारत ने हर बार 50 से ज़्यादा पदक जीते हैं.

2006 में दोहा में भारत ने 10 स्वर्ण, 17 रजत और 26 कांस्य के साथ 53 पदक जीते और आठवें स्थान पर रहा.

2010 में चीन के गुआंगझाऊ में भारत ने 14 स्वर्ण, 17 रजत और 34 कांस्य के साथ 65 पदक जीते और छठे पायदान पर रहा. यह अब तक एशियाई खेलों में भारत का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है.

इंचियोन में 2014 में भारत ने 11 स्वर्ण, 10 रजत और 36 कांस्य के साथ 57 पदक अपने नाम करते हुए आठवां स्थान हासिल किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए