एशियन गेम्स 2018: बजरंग पुनिया ने भारत को दिलाया पहला गोल्ड

  • 19 अगस्त 2018
बजरंग पुनिया इमेज कॉपीरइट PTI

65 किलोग्राम वर्ग में पहलवान बजरंग पुनिया ने भारत को स्वर्ण पदक दिलाया है. फ़्रीस्टाइल कुश्ती में बजरंग पुनिया ने जापान के दईची तकतानी को मात दी. एशियाई खेल 2018 में भारत को यह पहला स्वर्ण पदक मिला है. 24 साल के पुनिया हरियाणा के झज्जर से हैं.

2014 के एशियन गेम्स में पुनिया ने 61 किलोग्राम कैटिगरी में रजत पदक जीता था. इसी साल वो 65 किलोग्राम कैटिगरी में शिफ़्ट हुए थे और उन्होंने राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीता था.

इससे पहले एशियन गेम्स 2018 में भारत ने अपना खाता कांस्य पदक से खोला था. पुनिया से पहले इंडोनेशिया के जकार्ता में चल रहे एशियाई खेलों में रविवार को 10 मीटर एयर राइफ़ल मिक्स्ड टीम की अपूर्वी चंदेला और रवि कुमार ने कांस्य पदक जीता है.

इमेज कॉपीरइट PTI

चीन को इसमें स्वर्ण पदक मिला है. रवि कुमार ने इसी श्रेणी में 2014 के एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था और 2018 के राष्ट्रमंडल खेलों में उन्हें कांस्य पदक मिला था. वहीं अपूर्वी 2014 के राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीत चुकी हैं.

अपूर्वी ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा, ''हमलोग विश्व कप में चौथे नंबर पर रहे थे. हमने इसमें सुधार किया है. एशियाई खेलों में यह मेरा पहला पदक है और भारत के लिए एशियाई खेल 2018 के लिए भी यह पहला पदक है. मैं ख़ुश हूं, लेकिन मेरा पूरा ध्यान कल 10 मीटर की निशानेबाज़ी पर है.''

एशियाई खेल: 572 खिलाड़ियों के साथ कितने पदक?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

आख़िर में दूसरे से तीसरे नंबर पर खिसकने पर अपूर्वी ने कहा कि निशानेबाज़ी में ऐसा होता है. वहीं रवि कुमार ने कहा है कि यह पदक अपूर्वी के कारण मिला है.

उन्होंने कहा कि साथ में प्रशिक्षण के लिए बहुत वक़्त नहीं मिला था. वहीं दूसरी तरफ़ 10 मीटर एयर पिस्टल मिक्स्ड टीम की मनु भाकर और अभिषेक वर्मा ने निराश किया है. भारत को इसमें पदक की उम्मीद थी, लेकिन हार का सामना करना पड़ा है.

सुशील कुमार ने किया निराश

भारत के जाने-माने पहलवान सुशील कुमार ने भी 74 किलोग्राम वर्ग की पहलवानी में निराश किया है. सुशील कुमार को क्वॉर्टर फ़ाइनल में रूस के एडम बैतिरोव से हार का सामना करना पड़ा. भारतीय कुश्ती के लिए यह बुरी ख़बर है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे