#Christchurch मस्जिद पर हमले में बाल-बाल बचे बांग्लादेशी क्रिकेटर बस में रो रहे थे

  • 15 मार्च 2019
बांग्लादेशी टीम के खिलाड़ी इमेज कॉपीरइट Social Media video grab
Image caption बांग्लादेशी टीम के खिलाड़ी मस्जिद से लौटते हुए

न्यूज़ीलैंड के क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों पर हुए हमले में 49 लोगों की मौत हो चुकी है. प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने इस घटना को 'आतंकवादी हमला' क़रार दिया है.

इस हमले में बांग्लादेश क्रिकेट टीम भी बाल-बाल बची है. टीम के बल्लेबाज़ तमीम इक़बाल ने ट्वीट कर बताया है कि पूरी टीम सुरक्षित है.

बांग्लादेश का न्यूज़ीलैंड से शनिवार को हेगली ओवल स्टेडियम में तीसरा टेस्ट मैच होना था जो अब रद्द कर दिया गया है. इसी स्टेडियम के नज़दीक अल नूर मस्जिद में बांग्लादेश टीम जुमे की नमाज़ के लिए जा रही थी.

विकेटकीपर बल्लेबाज़ मुशफ़िकुर रहीम ने ट्वीट किया है कि टीम 'बहुत भाग्यशाली' है और वह 'ऐसी स्थिति फिर दोबारा कभी नहीं होते देखना चाहते हैं.'

बांग्लादेश क्रिकेट ने कहा है कि टीम 'सुरक्षित तरीक़े से होटल लौट आई है' और आने वाले दिनों में टीम वापस अपने देश लौटेगी.

टीम मैनेजर ख़ालिद मशूद ने बताया कि टीम 'तीन या चार मिनट पहले ही पहुंची थी', वे हमले के वक़्त मस्जिद के अंदर हो सकते थे.

उन्होंने कहा, "मैं कहूंगा कि हम बहुत ख़ुशनसीब थे."

"हम शुक्रगुज़ार हैं कि हम फ़ायरिंग के बीच में नहीं फंसे लेकिन हमने जो देखा वह किसी फ़िल्म के सीन जैसा था."

मशूद ने बीबीसी बंगाली सेवा से कहा," खिलाड़ी बस में रो रहे थे. वे मानसिक तौर पर प्रभावित हुए हैं."

उन्होंने कहा," बस में 17 सदस्य थे और मैनेजर के तौर पर मेरी ज़िम्मेदारी थी कि मैं लड़कों को होटल लाऊं. यह बहुत मुश्किल था, हमें लगा कि हम किसी फ़िल्म में हैं."

इमेज कॉपीरइट @BCBtigers/Twitter
Image caption बांग्लादेशी क्रिकेट टीम के मैनेजर ख़ालिद मशूद

'ख़ून में लथपथ लोग बाहर भाग रहे थे'

"हम देख सकते थे कि ख़ून में लथपथ लोग मस्जिद से बाहर भागते हुए आ रहे थे. हम सभी बस में अपने सिर झुकाए बैठे हुए थे ताकि कोई हम पर भी गोलियां न चला दे."

ईएसपीएन के बांग्लादेश संवाददाता मोहम्मद इस्लाम ने बीबीसी से कहा कि वह गोलीबारी के समय खिलाड़ियों के साथ थे.

इस्लाम ने कहा, "मैंने पांच मिनट के अंदर उन्हें पार्किंग से बाहर आते हुए देखा. उनमें से एक खिलाड़ी ने मुझसे मदद के लिए कहा. उन्होंने कहा कि हमें बचाओ. हम बहुत मुश्किल में हैं, कोई गोलीबारी कर रहा है."

"मैंने शुरुआत में उन्हें गंभीरता से नहीं लिया, लेकिन उनकी आवाज़ लड़खड़ाने लगी और फिर मैं भागा. मैंने किसी से लिफ़्ट ली और घटनास्थल पर पहुंचा."

"मैंने 100 यार्ड दूर से टीम की बस को देखा और वहां जाकर उनके हालचाल के लिए बस को पकड़ने की कोशिश की. उसी समय गोलीबारी चल रही थी. मैंने एक लाश देखी और साथ ही एक शख़्स मेरी ओर भागकर आया जिसके कंधे से ख़ून निकल रहा था."

"मैं पार्क के नज़दीक गया तो खिलाड़ी बस से उतर रहे थे. वह मेरी तरफ़ भागते हुए आए और कहने लगे कि यहां से निकलो."

"हम पार्क से भागे और सुरक्षित जगह के लिए मैदान में आए और वहां तकरीबन एक घंटे तक रहे."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'रो रहे थे बांग्लादेशी खिलाड़ी'

इस्लाम कहते हैं, "खिलाड़ी रो रहे थे. उन्होंने बस में रहते हुए 15 मिनट में बहुत कुछ देखा था. वहां कोई सुरक्षा नहीं थी क्योंकि यह एक बहुत शांतिपूर्ण देश है."

न्यूज़ीलैंड क्रिकेट के मुख्य कार्यकारी डेविड व्हाइट ने कहा है, "हमने खेल रद्द कर दिया है."

"मैंने बांग्लादेश क्रिकेट के समकक्ष से बात की है. हम इस बात पर सहमत हुए हैं कि इस समय क्रिकेट खेलना अनुचित है."

"दोनों टीमें इससे बेहद प्रभावित हुई हैं. एक देश के नाते हमें टीमों की सुरक्षा को देखना होगा. मुझे देश सुरक्षित लगता था. मुझे पूरा विश्वास है कि न्यूज़ीलैंड के सभी इस विषय की ओर देखेंगे."

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट संघ ने कहा है कि वह मैच रद्द करने का पूरा समर्थन करता है.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption क्राइस्टचर्च में हमले के बाद ढाका में मुसलमानों ने विरोध प्रदर्शन किया

इमरान ख़ान ने किया ट्वीट

न्यूज़ीलैंड के रग्बी वर्ल्ड कप के विजेता सोनी बिल विलियम्स ने कहा है कि वह इस हमले से बेहद दुखी हैं.

33 वर्षीय विलियम्स ने 2009 में इस्लाम धर्म स्वीकार कर लिया था. उन्होंने सोशल मीडिया पर एक रिकॉर्डेड संदेश पोस्ट किया है.

इसमें उन्होंने कहा है कि न्यूज़ीलैंड में जो कुछ हुआ उससे वह बेहद दुखी हैं.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री और पूर्व क्रिकेटर इमरान ख़ान ने ट्वीट किया है, "क्राइस्टचर्च में मस्जिदों पर आतंकवादी हमले की मैं निंदा करता हूं और इससे दुखी हूं."

"यह इस बात की पुष्टि करता है जो हम हमेशा से कहते रहे हैं कि आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता है. पीड़ितों और उनके परिजनों के लिए मैं प्रार्थना करता हूं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार