IPL-12: धोनी बनाम विराट कोहली से टूर्नामेंट का आग़ाज़

  • 23 मार्च 2019
धोनी कोहली इमेज कॉपीरइट Getty Images

दुनिया की सबसे लोकप्रिय क्रिकेट लीग आईपीएल यानी इंडियन प्रीमियर लीग के 12वें संस्करण की शुरुआत शनिवार से होने जा रही है.

इस सीज़न का पहला मैच पिछले साल की चैंपियन चेन्नई सुपर किंग्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंग्लोर के बीच खेला जाएगा.

महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में खेलने वाली चेन्नई सुपर किंग्स साल 2010, 2011 और पिछले साल 2018 में यानी तीन बार चैंपियन रही है.

इतना ही नहीं चेन्नई सुपर किंग्स चार बार उपविजेता भी रही. साल 2008, 2012, 2013 और 2015 में ऐसा हुआ. यानी यह एकमात्र ऐसी टीम है जिसने सबसे अधिक सात बार आईपीएल का फ़ाइनल मुक़ाबला खेला.

इतनी कामयाबी हासिल करने के बावजूद इस टीम को सबसे अधिक बदनामी का सामना भी करना पड़ा.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption कभी विवादो में धिरी चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान धोनी

बीसीसीआई, आईपीएल और विवाद

दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड के अपने टूर्नामेंट आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स साल 2016 और साल 2017 में कथित तौर पर स्पॉट फिग्सिंग में अपने मालिकों के शामिल होने के आरोप के कारण प्रतिबंधित भी रही.

राजस्थान रॉयल्स को भी इन दो साल में प्रतिबंध का सामना करना पड़ा था.

आईपीएल में पैसे की चमक-दमक इतनी है कि इसकी मार से ख़ुद बीसीसीआई तक नहीं बच सकी.

कभी आईपीएल की शुरुआत करने वाले ललित मोदी आज भी देश से बाहर लंदन में रह रहे हैं.

उन पर मनी लॉंड्रिंग जैसे गंभीर आरोप हैं. इसके अलावा बीसीसीआई ने उन पर आजीवन प्रतिबंध लगाया हुआ है.

इतना ही नहीं बीसीसीआई को आज उसके पदाधिकारी नहीं बल्की सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त एक सुधार समिति चला रही है.

कभी बीसीसीआई में एन श्रीनिवासन की एक अध्यक्ष के तौर पर तूती बोलती थी. उन्हें भी आईपीएल के विवादों ने ही बीसीसीआई से बाहर का रास्ता दिखाया. लेकिन वह सब अब एक बीते दौर की बात है.

इमेज कॉपीरइट Magnum Photos
Image caption बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष एन श्रीनिवासन

पिछले सीज़न की चैम्पियन सीएसके

चेन्नई सुपर किंग्स जब शनिवार को अपने ही घर के एमए चिदांबरम स्टेडियम में भारत के कप्तान विराट कोहली की कप्तानी में खेलने वाली रॉयल चैलेंजर्स बैंग्लोर के ख़िलाफ मैदान में उतरेगी तो पिछले साल की सुनहरी यादें भी उनके दिमाग़ में होंगी.

महेंद्र सिंह धोनी ने लगभग अपने ही दम पर बीते साल चेन्नई को चैंपियन बना कर तमाम क्रिकेट पंडितो को हैरान कर दिया.

उन्होंने दो साल का प्रतिबंध झेलने वाली टीम के हर सदस्य में इतना जोश भर दिया कि तमाम विरोधी टीमें त्राहीमाम त्राहीमाम कर उठीं.

पिछला फ़ाइनल तो चेन्नई सुपर किंग्स के शेन वॉटसन ने एकतरफ़ा ही बना दिया था. फ़ाइनल में उनके सामने सनराइजर्स हैदराबाद थी.

फ़ाइनल में जीत के लिए 178 रनों का लक्ष्य चेन्नई ने शेन वॉटसन के नाबाद 117 रनों की मदद से 18.3 ओवर में केवल दो विकेट खोकर हासिल कर लिया.

चेन्नई की टीम में इस बार भी कप्तान धोनी के अलावा आईपीएल के सबसे कामयाब बल्लेबाज़ों में से एक सुरेश रैना, फॉफ डुप्लेसी, अंबाती रायडू, मुरली विजय और सैम बिलिंग जैसे धुरंधर बल्लेबाज़ हैं.

इसके अलावा केदार जाधव, ड्वेन ब्रावो, रविंद्र जाडेजा और शेन वॉटसन जैसे आलराउंडर हैं.

हरभजन सिंह में भले ही पहले जैसी धार नहीं है पर उनका अनुभव किसी से कम नहीं है. और फिर इमरान ताहिर कभी भी विकेट लेने की क्षमता रखते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption विराट कोहली और धोनी

दूसरी तरफ विराट कोहली की कप्तानी में खेलने वाली रॉयल चैलेंजर्स बैंग्लौर पिछली बार प्लेऑफ में भी यानी अंतिम चार में भी अपनी जगह नहीं बना सकी.

इस बार बैंग्लौर का दारोमदार कप्तान विराट कोहली के अलावा एबी डिविलियर्स, पार्थिव पटेल, नाथन कल्टर नाइल और शिमरोन हेटमायर पर होगा.

गेंदबाज़ी में अनुभवी तेज़ गेंदबाज़ उमेश यादव, टिम साउदी, स्पिनर युज्वेन्दर चहल और पवन नेगी पर सबकी नज़रें रहेंगी.

इमेज कॉपीरइट Bcci
Image caption बैंग्लोर के स्पिनर पवन नेगी

इन पर रहेगी नज़र

वैसे आईपीएल शुरू होने से पहले चेन्नई को तब बड़ा झटका लगा जब उसके तेज़ गेंदबाज़ दक्षिण अफ्रीका के लुइंगी एनगिडी मांसपेशियों में खिचाव के कारण टूर्नामेंट से बाहर हो गए है.

पिछली बार चेन्नई सुपर किंग्स के अंबाती रायडू ने 16 मैचों में एक शतक और तीन अर्धशतक सहित 602 रन बनाए और वह सर्वाधिक रन बनाने वालों में चौथे स्थान पर थे.

उनके अलावा शेन वॉटसन ने 15 मैचों में दो शतक और दो अर्धशतक की मदद से पांचवें स्थान पर रहते हुए 555 रन बनाए.

गेंदबाज़ी में पिछली बार बैंग्लोर के तेज़ गेंदबाज़ उमेश यादव ने चौथे स्थान पर रहते हुए 14 मैचों में 20 विकेट झटके.

इस बार का आईपीएल पूरी तरह भारत में ही खेला जाएगा.

पहले अटकले थीं कि शायद आगामी लोकसभा चुनाव के कारण आईपीएल का दूसरा चरण विदेश में आयोजित हो सकता है, लेकिन बीसीसीआई ने नॉकआउट मुक़ाबलों के अलावा पूरा कार्यक्रम घोषित कर दिया है.

आईपीएल 23 मार्च से शुरू होगा और 12 मई तक खेला जाएगा.

इस बार आईपीएल इसलिए भी चर्चा में रहेगा क्योंकि इसके बाद विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट होना है.

विश्व कप का क्रिकेट टूर्नामेंट 30 मई से 14 जुलाई तक इंग्लैंड में होगा.

ज़ाहिर सी बात है कि भारत के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री चाहते हैं कि सभी खिलाड़ी ख़ुद को बचाकर खेलें और अपनी फिटनेस और फॉर्म पर अधिक ध्यान दें.

हांलांकि यह एक बहुत बड़ी चुनौती है. कोई भी फ्रैंचाइज़ी यह नहीं चाहेगी कि उसके खिलाडी उन्हें चैंपियन बनाने में कोताही बरते. इसी बीच किंग्स इलेवन पंजाब के कोच माइक हेसन ने कहा है कि भारत के तेज़ गेंदबाज़ केएल राहुल और तेज़ गेंदबाज़ मोहम्मद शमी को मैचों के बीच में प्रयाप्त आराम भी दिया जाएगा.

ख़ैर अब जो होगा देखा जाएगा. शुरुआती दौर में हार-जीत से कोई असर नही पड़ेगा लेकिन फिर भी हर टीम जीत के साथ ही शुरुआत करना चाहेगी.

इस आईपीएल के साथ ही गेंद से छेडछाड़ करने के मामले में निलंबन का सामना कर रहे ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज़ और पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर की भी अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी हो जाएगी.

स्टीव स्मिथ राजस्थान रॉयल्स और डेविड वार्नर सनराइजर्स हैदराबाद से खेलेंगे.

इनका आईपीएल में किया गया प्रदर्शन ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए विश्व कप में खेलने का दावा भी मज़बूत करेगा.

और हां इस बार आईपीएल में दिल्ली डेयरडेविल्स दिल्ली कैपिटल्स के नाम से खेलती नज़र आएगी.

इमेज कॉपीरइट Ipl
Image caption आईपीएल

अब देखना है कि इस बार का आईपीएल विश्व कप से पहले खिलाड़ियों के जोश, दमख़म, फिटनेस और प्रदर्शन पर कितना खरा उतरता है.

फ़िलहाल तो शनिवार को चेन्नई सुपर किंग्स और रॉयल चैलेंजर्स का मुक़ाबला देखते है जिसमें किसके हाथ जीत की बाज़ी लगती है इसे छोड ही दिया जाए तो बेहतर है.

वैसे आईपीएल में दोनो टीमें 23 बार आमने-सामने हुई हैं जिनमें से 15 बार जीत चेन्नई की हुई है. सात बार बैंग्लौर जीती है.

पिछली बार तो दोनों मुक़ाबलों में चेन्नई ने बैंग्लोर को मात दी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे