उन तीन ओवरों में पांड्या बंधुओं ने बदली तस्वीर

  • 19 अप्रैल 2019
हार्दिक पांड्या, क्रुणाल पांड्या इमेज कॉपीरइट Getty Images

आईपीएल-12 में जहां केवल एक ओवर मैच का नक्शा बदलने के लिए काफी होता है तो तीन ओवर तो बहुत अधिक होते हैं.

गुरुवार को दिल्ली के ख़िलाफ़ मैच में मुंबई ने आखिरी तीन ओवर में पूरे 50 रन जोड़े जो उसकी जीत में बेहद अहम साबित हुए.

इस कारनामें में अपनी अहम भूमिका निभाई हार्दिक पांड्या और क्रुणाल पांड्या ने.

एक तरह से ये दोनों भाई दिल्ली पर भारी पड़े. उन्होंने मिलकर पांचवें विकेट के लिए 54 रन जोड़े जिसके दबाव से दिल्ली अंत तक नहीं निकल सकी.

नतीजा ये हुआ कि मुंबई इंडियंस ने दिल्ली कैपिटल्स को उसी के मैदान फ़िरोज़शाह कोटला पर 40 रनों से मात दी.

दिल्ली कैपिटल्स के सामने जीत के लिए 169 रनों का लक्ष्य था लेकिन वह निर्धारित 20 ओवरों में नौ विकेट खोकर 128 रन ही बना सकी.

मुंबई के राहुल चाहर ने केवल 19 रन देकर तीन विकेट झटके.

इससे पहले मुंबई ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करते हुए निर्धारित 20 ओवरों में पांच विकेट खोकर 168 रन बनाए.

कमाल की बात है कि हेलीकॉप्टर शॉट लगाने में महेंद्र सिंह धोनी माहिर माने जाते हैं लेकिन हार्दिक पांड्या ने ऐसे हैरतअंगेज़ शॉट लगाते हुए केवल 15 गेंदों पर 32 रन बनाए.

उनके बड़े भाई क्रुणाल पांड्या ने भी 26 गेंदों पर नाबाद 37 रन बनाए.

इमेज कॉपीरइट Twitter/MumbaiIndians

लड़खड़ाई दिल्ली

पांड्या बंधुओं की इन शानदार पारियों के दम पर मुंबई ने दिल्ली को 40 रन के बड़े अंतर से हरा दिया.

लेकिन कैसे इन दोनों का बल्ला दिल्ली के गेंदबाज़ो पर कहर बनकर बरपा इसकी कहानी बाद में.

वैसे मैच समाप्त होने के बाद दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान श्रेयस अय्यर ने भी माना कि मुंबई की बल्लेबाज़ी के दौरान आखिरी दो ओवर निर्णायक साबित हुए.

दिल्ली जब जीत की तलाश में 169 रन बनाने निकली तो शिखर धवन फॉर्म में नज़र आए.

उनका साथ पृथ्वी शॉ दे रहे थे. शिखर ने 35 और शॉ ने 20 रन बनाए.

दोनों ने पहले विकेट के लिए 6.3 ओवर में 49 रन भी जोड़े, लेकिन इनके आउट होते ही दिल्ली के विकेटों का पतझड़ शुरू हो गया.

एक समय तो हालत यह थी कि 107 रन के स्कोर पर एक के बाद एक उसके तीन विकेट गिरे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption शिखर धवन

यह सब हुआ दिल्ली की पारी के 16वें ओवर की अंतिम गेंद से.

यह 16वां ओवर लसिथ मलिंगा का था, जिनकी आखिरी गेंद पर क्रिस मॉरिस ऊंचा शॉट खेलते हुए 11 रन बनाकर हार्दिक पांड्या के हाथों कैच आउट हुए.

इसी के साथ दिल्ली का स्कोर छह विकेट खोकर 107 रन हो गया.

अगला ओवर करने जसप्रीत बुमराह आए.

उनकी पहली ही गेंद पर कीमो पॉल रन आउट हुए.

वह बुमराह के सीधे थ्रो का शिकार बने.

अगली गेंद पर बुमराह ने अक्षर पटेल की गिल्लियां बिखेर दीं.

अब दिल्ली का स्कोर आठ विकेट खोकर 107 रन था.

इसके बाद तो बस औपचारिकता ही बची थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption जसप्रीत बुमराह

पांड्या बंधुओं ने जमाया रंग

इससे पहले मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने दिल्ली के विकेट का इतिहास ध्यान में रखते हुए टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करने का फ़ैसला किया.

हालांकि एक समय मुंबई का स्कोर 15.1 ओवर में चार विकेट खोकर केवल 104 रन था.

इनमें 35 रन बनाने वाले सलामी बल्लेबाज़ क्विंटन डी कॉक और 20 रन बनाने वाले कप्तान रोहित शर्मा भी शामिल थे.

दिल्ली के समर्थकों के शोर के बीच आख़िरकार हार्दिक पांड्या ने मैदान में एंट्री की .

पिच पर उनका साथ देने के लिए उनके भाई क्रुणाल पांड्या पहले से भी मौजूद थे.

इसके बाद तो फ़िरोज़शाह कोटला में इन दोनों भाइयों का ही राज था.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption क्रुणाल पांड्या

दरअसल मुंबई दिल्ली पर 17वें ओवर से हावी होना शुरू हुई.

यह ओवर दिल्ली कैपिटल्स के कीमो पॉल ने किया.

इस ओवर मे क्रुणाल पांड्या ने एक चौके की मदद से पांच रन बनाए लेकिन हार्दिक पांड्या ने एक छक्के और दो चौकों की मदद से 12 रन बनाए.

इस ओवर से पहले मुंबई का स्कोर चार विकेट खोकर 118 रन था लेकिन ओवर समाप्त होते-होते 135 रन पर पहुंच गया.

19वां ओवर लेकर क्रिस मॉरिस आए. उनके इस ओवर में 15 रन बने.

हार्दिक पांड्या ने इस ओवर में एक छक्का और एक चौका लगाया.

रही सही कसर दोनों भाइयों ने मिलकर रबाडा के ओवर में पूरी की.

अब तक आईपीएल में अपनी गेंदों से बल्लेबाज़ो में ख़ौफ़ पैदा करते आए रबाडा को क्रुणाल पांड्या ने उन्हीं के हथियार से काबू में किया.

अकसर तेज़ गेंदों पर अगर टाइमिंग सही हो तो शॉट भी गोली की तरह तेज़ी से ही जाते हैं.

क्रुणाल ने रबाडा की गेंदों पर दो चौके ऐेसे जड़े कि फील्डर हिल भी नहीं पाए.

और इसी ओवर में हार्दिक पांड्या ने एक जानदार छक्का भी मारा.

आख़िरी ओवर की तीसरी गेंद पर हार्दिक पांड्या 32 रन बनाकर ऋषभ पंत के हाथों कैच हो गए लेकिन तब तक वह मैच को दिल्ली की पकड़ से दूर ले जा चुके थे.

इमेज कॉपीरइट Twitter@hardikpandya7
Image caption हार्दिक पांड्या

मैच समाप्त होने के बाद हार्दिक पांड्या ने माना कि लम्बे शॉट्स मारने में उनकी कामयाबी के पीछे नैट प्रैक्टिस का हाथ है.

उनसे पूछा गया कि अकसर वह 19वें ओवर या इसके आसपास बल्लेबाज़ी करने आते है लेकिन अलग-अलग पिचों पर इसी तरह तेज़ी से खेलते हुए कई बार 'मैन ऑफ द मैच' भी बने हैं. इस पर हार्दिक का कहना था कि इन दिनों वह अपने दिमाग़ का बेहतरीन इस्तेमाल कर रहे हैं. पिच के अनुरूप बल्लेबाज़ी करना ज़रूरी है और वह चाहते हैं कि अभी प्ले ऑफ से पहले बाकी बचे मैचों में भी उनका बल्ला ऐसे ही चलता रहे.

गुरुवार की जीत के बाद मुंबई के नौ मैचों में छह जीत के साथ अंक तालिका में 12 अंक है और वह दूसरे पायदान पर पहुंच गई है.

दूसरी तरफ दिल्ली कैपिटल्स के नौ मैचों में पांच जीत के साथ 10 अंक है और वह तीसरे स्थान पर है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे