विराट लक्ष्य को हासिल नहीं कर पाया रसेल और राणा का प्रहार

  • 20 अप्रैल 2019
नीतीश राणा इमेज कॉपीरइट FB PAGE
Image caption नीतीश राणा

आईपीएल 12 में शुक्रवार को खेले गए रोमांचक मैच में रॉयल चैलेजर्स बैंगलोर ने कोलकाता नाइट राइडर्स को 10 रन से हरा दिया.

कोलकाता नाइट राइडर्स के बल्लेबाज़ नीतीश राणा ने मैच की अंतिम गेंद पर ज़ोरदार छक्का लगाया लेकिन यह छक्का उनकी टीम को जीत की दहलीज़ तक नहीं पहुंचा सका. 214 रनों के लक्ष्य करने उतरी केकेआर की टीम निर्धारित 20 ओवरों में पांच विकेट खोकर 203 रन ही बना पाई.

कोलकाता की ओर से नीतीश राणा ने नाबाद 85 और आंद्रे रसेल ने 65 रन बनाए मगर उनका यह योगदान टीम को जीत दिलाने में नाकामयाब रहा.

इससे पहले बैंगलोर ने टॉस हारकर पहले बल्लेबाज़ी करते हुए निर्धारित 20 ओवर में चार विकेट खोकर 213 रन बनाए.

कप्तान विराट कोहली ने पूरे 100 रन और मोईन अली ने 66 रन बनाए.

लेकिन क्या मैच इतना आसान था कि इसे इतने आसान शब्दों में बयां कर दिया जाए. शायद नहीं.

यह मैच अंतिम तीन गेंद तक स्टेडियम में मौजूद दर्शकों के 'कोलकाता जीतेगा, कोलकाता जीतेगा' के शोर के बीच सबके दिलों की धड़कने बढ़ाए हुए था.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption आंद्रे रसेल

रसेल का खेल

अंतिम ओवर में कोलकाता को जीतने के लिए 24 रनों की ज़रूरत थी. विराट कोहली ने गेंद मोईन अली को थमाई.

विकेट पर नीतीश राणा और आंद्रे रसेल की जोड़ी थी. पहली गेंद पर नीतीश कुछ नहीं कर सके.

दूसरी गेंद पर उन्होंने फाइन लैग पर शॉट खेलकर एक रन लिया हांलाकि इसमें दो रन बन सकते थे, लेकिन जब बाकी बची चार गेंदों पर 23 रनों की ज़रूरत हो तो स्ट्राइक आंद्रे रसेल की ही दी जा सकती थी.

आंद्रे रसेल ने मोईन अली की अगली गेंद पर स्ट्रेट छक्का लगाकर मैच को रोमांचक बना दिया लेकिन अगली गेंद पर वह कोई रन नहीं बना सके.

पांचवीं गेंद पर रसेल रन आउट हो गए और छठी यानी आखिरी गेंद पर नीतीश राणा ने छक्का लगाया.

आंद्रे रसेल ने कितनी तेज़-तर्रार और धुंआधार बल्लेबाज़ी की इसका अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि उन्होंने अपने 65 रन केवल 25 गेंदों पर दो चौके और नौ छक्कों की मदद से बनाए.

उन्होंने अपने 50 रन तो केवल 21 गेंदों पर पूरे किए.

दूसरी तरफ नीतीश राणा ने भी नाबाद 85 रनों के लिए केवल 46 गेंदों का सहारा लिया. उन्होंने इस दौरान नौ चौके और पांच छक्के लगाए. इन दोनों के बीच पांचवें विकेट के लिए 118 रनों की साझेदारी हुई.

इन दोनों की बीच 100 रन केवल 42 गेंदों पर बने.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption रॉबिन उथप्पा

उथप्पा और गिल पर सवाल

आने वाले मुकाबलों में कोलकाता को इतनी नज़दीकी हार का ग़म जरूर सताएगा, इस हार के पीछे कहीं ना कहीं टीम के मध्यक्रम की धीमी बल्लेबाज़ी को भी ज़िम्मेदार माना जा सकता है.

दरअसल शुभमन गिल ने 11 गेंदों पर नौ और रोबिन उथप्पा ने 20 गेंदों पर केवल नौ रन बनाए.

इसके बावजूद विराट कोहली की टीम से जीत का श्रेय छीना नहीं जा सकता.

ख़ासकर यह देखते हुए कि इस टीम को इस बार आईपीएल में हार की गारंटी माना जा रहा था.

अब कहानी बैंगलोर की जिसमें रोमांच भरा ख़ुद कप्तान विराट कोहली और मोईन अली ने.

बैंग्लोर की पारी के वह तीन ओवर जिसने मैच बदला

बैंगलोर के कप्तान विराट कोहली और मोईन अली ने कोलकाता के ऐतिहासिक ईडन गार्डंस में अपने समर्थकों का दिल जो गार्डन-गार्डन किया दरअसल उसकी शुरुआत विराट कोहली ने नहीं मोईन अली ने की.

मोईन अली के बल्ले का कहर कुलदीप यादव पर टूटा.

कोलकाता के खब्बू स्पिनर कुलदीप यादव जब पारी का 16वां ओवर लेकर आए तो उनके सामने स्ट्राइक पर मोईन अली थे.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption कुलदीप यादव

अब भले ही इसी ओवर में वह एक और बड़ा शॉट खेलने की कोशिश में प्रसिद्ध कृष्णा के हाथों कैच आउट हो गए लेकिन डगआउट में जाते-जाते वह विराट कोहली को संकेत दे गए कि कोलकाता के गेंदबाज़ों में आज दम नहीं है.

मोईन अली ने केवल 28 गेंदों पर पांच चौके और छह छक्कों की मदद से धुंआधार 66 रन बनाए.

हैरी गर्नी के अगले ओवर (17वें) में 19 रन की मदद से बैंगलोर का स्कोर 17 ओवर की समाप्ति पर 149 से सीधे 168 रन पर जा पहुंचा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मोईन अली

18वां ओवर करने आए सुनील नारायण और विराट ने उनकी इस ओवर में एक जानदार छक्का जड़ा. लेकिन इस ओवर में महज़ 10 रन ही बने. लेकिन पी कृष्णा के फेंके 19वें ओवर में 19 रन बन गए. स्कोर पहुंच गया तीन विकेट के नुकसान पर 197 रन.

आख़िरी ओवर खब्बू तेज़ गेंदबाज़ हैरी गर्नी ने किया. उनके इस ओवर में विराट कोहली ने चौके की मदद से अपना शतक पूरा किया. हांलाकि वह अंतिम गेंद पर मिडविकेट पर शुभमन गिल के हाथों कैच आउट हो गए.

विराट कोहली ने 58 गेंदों पर नौ चौके और चार छक्कों की मदद से पूरे 100 रन बनाए. यह आईपीएल-2019 में यह उनका पहला शतक है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption विराट कोहली

इससे पहले विराट कोहली ने इस आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब के ख़िलाफ़ 67, दिल्ली कैपिटल्स के ख़िलाफ़ 41 और कोलकाता नाइट राइडर्स के ही ख़िलाफ़ 84 और मुंबई इंडियंस के ख़िलाफ़ 46 रन बनाए.

लेकिन इस आईपीएल के पहले ही मैच में चेन्नई के ख़िलाफ़ वह केवल छह रन ही बना सके.

यहां तक कि उनकी टीम चेन्नई में खेलते हुए केवल 70 रन पर लुढ़क गई.

इसके अलावा सनराइजर्स हैदराबाद के ख़िलाफ़ उन्होंने तीन और मुंबई इंडियंस के ख़िलाफ़ केवल आठ रन बनाए.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption विराट कोहली

विराट कोहली इस आईपीएल में शुक्रवार को कोलकाता के ख़िलाफ़ बनाए गए शतक की मदद से नौ मैच में 378 रन बना चुके हैं.

कुल मिलाकर आईपीएल में यह उनका पांचवा शतक है. इससे पहले साल 2016 में हुए आईपीएल में सबने उनकी बल्लेबाज़ी का विराट रूप देखा था. तब उन्होंने चार शतक के सहारे अकेले ही 973 रन बना डाले थे.

इस जीत से विराट कोहली की टीम बैंगलोर आईपीएल से बाहर होने से भी बच गई. तकनीकी रूप से अब उसके खाते में नौ मैच के बाद सात हार और दो जीत के साथ चार अंक है.

अगर वह इसी तरह बाकी बचे हुए मैच भी जीत लेती है तो वह सुपर फोर में पहुंच सकती है. अब ऐसा चमत्कार होगा या नहीं यह तो समय बताएगा लेकिन विराट कोहली ने मैच के बाद माना कि इस जीत से उन्हें बड़ी राहत मिली है और वह बेहद खुश हैं.

विराट ने यह भी माना कि स्टोइनिस ने 19वां और मोईन अली ने आखिरी ओवर बेहतरीन डाला. इसके अलावा विराट ने मोईन अली की बल्लेबाज़ी की भी बेहद तारीफ़ की. उन्होंने कहा कि अगर मोईन नहीं चलते तो 170-175 का स्कोर बल्लेबाज़ी के अनुकूल विकेट पर काफ़ी नहीं होता.

वैसे विराट कोहली और बैंगलोर के लिए भी यही जीत काफी नहीं है उसके लिए हर एक मैच सेमीफ़ाइनल जैसे हैं.

ये भी पढ़ेंः

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार