IPL 2019 CSK vs DC: चेन्नई के बूढ़े शेर युवा दिल्ली पर कैसे पड़े भारी

  • 11 मई 2019
चेन्नई सुपरकिंग्स इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption चेन्नई सुपरकिंग्स

आईपीएल-12 में शुक्रवार को विशाखापट्टनम में खेले गए क्वालिफ़ायर-2 मुक़ाबले में चेन्नई सुपरकिंग्स ने बेहद आसानी ने दिल्ली कैपिटल्स को छह विकेटों से हरा दिया. अब रविवार को फ़ाइनल में चेन्नई सुपरकिंग्स का मुक़ाबला मुंबई इंडियंस से होगा.

विशाखापट्टनम में खेले गए इस मैच में चेन्नई सुपरकिंग्स ने टॉस जीतकर पहले फ़ील्डिंग करने का फ़ैसला किया था जिसके बाद दिल्ली कैपिटल्स ने नौ विकेट खोकर 147 रन बनाए थे.

इसके जवाब में खेलने उतरी चेन्नई ने 19वें ओवर की अंतिम गेंद में चार विकेट खोकर लक्ष्य को हासिल कर लिया.

चेन्नई की ओर से सबसे अधिक फ़ाफ़ डुप्लेसिस और शेन वॉटसन ने 50-50 रन बनाए.

सात साल बाद आईपीएल का प्लेऑफ़ यानि अंतिम चार का मुक़ाबला खेल रही दिल्ली के फ़ाइनल में पहुंचने का सपना भी टूट गया.

इस आईपीएल में चेन्नई सुपरकिंग्स सबसे उम्रदराज़ टीम है जबकि सबसे युवा टीम का तमगा दिल्ली कैपिटल्स के नाम पर रहा.

युवाओं का खेल समझे जाने वाले आईपीएल में चेन्नई के बूढ़े शेर आखिर दिल्ली की युवा फ़ौज पर कैसे भारी पड़ गए, यह सवाल हर क्रिकेटप्रेमी के ज़हन में उठ रहा है.

इसका जवाब भी कहीं ना कहीं दिल्ली के कप्तान श्रेयस अय्यर के पास ही था. हार से निराश दिल्ली के कप्तान ने कहा कि पूरी पारी के दौरान कोई बड़ी साझेदारी का ना होना हार का बड़ा कारण रहा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वॉटसन और डू प्लेसी की जोड़ी

शेन वाटसन और फॉफ डू प्लेसी ने अपने दम पर ही मैच का ना सिर्फ़ नक्शा बदला बल्कि उसे एकतरफा बनाते हुए जीत भी दिला दी. चेन्नई सुपर किंग्स की सलामी जोड़ी फॉफ डू प्लेसी और शेन वाटसन ने मैदान में उतरते ही दिल्ली कैपिटल्स के गेंदबाज़ो की जमकर ख़बर लेनी शुरू कर दी.

इस जोड़ी ने पहले विकेट के लिए 10.2 ओवर में 81 रन की बेहतरीन साझेदारी की. फॉफ डू प्लेसी और शेन वाटसन दोनो ने समान रूप से 50-50 रन की अर्धशतकीय पारी खेली.

हालांकि पारी की शुरुआत में दिल्ली के पास इस सलामी जोड़ी को तोड़ने का सुनहरा मौक़ा था जब पारी के दूसरे ही ओवर में ये दोनों बल्लेबाज़ बेहद करीबी रन लेने के चक्कर में एक ही दिशा में दौड़ने लगे. लेकिन दिल्ली के फ़ील्डर इस मौके को भुना नहीं सके.

इसके बाद इन दोनों अनुभवी बल्लेबाज़ों ने दिल्ली को कोई दूसरा मौक़ा नहीं दिया. फॉफ डू प्लेसी ने अपने 50 रन केवल 39 गेंदों पर सात चौके और एक छक्के की मदद से पूरे किए.

दूसरी तरफ शेन वाटसन ने भी अपनी चमकदार बल्लेबाज़ी का पूरा लुत्फ़ उठाते हुए अपने 50 रन केवल 32 गेंदों पर तीन चौके और चार छक्कों के सहारे पूरे किए.

वैसे शेन वाटसन और फॉफ डू प्लेसी ने बेहद सोच-समझकर बल्लेबाज़ी की और शॉट्स के लिए कमज़ोर गेंदों का इंतज़ार किया. उन्होंने तेज़ी से रन बनाने के सिलसिला पारी के पांचवे ओवर से शुरू किया.

पारी के 12वें ओवर में वाटसन ने ऐसी बल्लेबाज़ी की जिसने दिल्ली की वापसी की सारी उम्मीदें ही तोड़ दी. यह ओवर कीमो पॉल का था जिसमें 25 रन बने. इस ओवर में शेन वाटसन ने तीन छक्के और एक चौका लगाया.

हालांकि इसके बाद अगले ओवर में शेन वाटसन अमित मिश्रा की गेंद पर ट्रेट बोल्ट को कैच दे बैठे, लेकिन जाते-जाते वह चेन्नई को सुरक्षित हालात में पहुंचा चुके थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption शेन वाटसन और फाफ डू प्लेसी

शेन वाटसन ने मैच के बाद मुस्कराते हुए कहा कि अपनी पारी के बाद भी वह कुछ कहने में नर्वस है. उन्होंने कहा कि मैदान में फॉफ डू प्लेसी ने उनका हौसला बढ़ाया.

जब वाटसन आउट हुए तब चेन्नई का स्कोर दो विकेट खोकर 109 रन था. हालांकि तब तक मैच के तमाम समीकरण चेन्नई की जीत की तरफ हो चुके थे.

इसके बाद मैच में थोड़ा बहुत रोमांच तब आया जब सुरेश रैना केवल 11 और महेंद्र सिंह धोनी नौ रन बनाकर आउट गए. लेकिन बचा हुआ काम अंबाती रायडू ने नाबाद 20 और ड्वेन ब्रावो ने नाबाद चार रन बनाकर पूरा कर दिया.

दिल्ली के ट्रेंट बोल्ट, इशांत शर्मा, अमित मिश्रा और अक्षर पटेल ने एक-एक विकेट अपने नाम किया.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption महेंद्र सिंह धोनी

दिल्ली की पारी

इससे पहले दिल्ली कैपिटल्स ने निर्धारित 20 ओवर में नौ विकेट खोकर 147 रन बनाए. दिल्ली की ओर से ऋषभ पंत ही कुछ हद तक चेन्नई के गेंदबाज़ो का सामना कर सके.

उन्होंने 25 गेंदों पर दो चौके और एक छक्के की मदद से 38 रन बनाए.

उनके अलावा कोलिन मुनरो ने 27 और शिखर धवन ने 18 रन बनाए. दिल्ली के बल्लेबाज़ों का यह प्रदर्शन बताता है कि चेन्नई के गेंदबाज़ों के सामने वह पूरे मैच में कितने दबाव में थे.

वैसे दिल्ली की टीम तब ही मुश्किल में फंस चुकी थी जब उसके पांच विकेट केवल 80 रन पर गिर चुके थे और 12.5 ओवर भी समाप्त हो चुके थे.

चेन्नई के दीपक चहर, हरभजन सिंह, रविंद्र जडेजा और ड्वेन ब्रावो ने दो-दो विकेट अपने नाम किए.

इमेज कॉपीरइट TWITTER/RISHABH PANT
Image caption ऋषभ पंत

मैच के बाद धोनी किससे नाखुश

मैच समाप्त होने के बाद चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने कहा कि मैच में उनके खिलाड़ियों ने कैच छोड़े, मिसफील्डिंग की लेकिन कोई बात नही फ़ाइनल में पहुंचकर खुश हैं.

हालांकि इस बार चेन्नई को क्वालिफायर-2 मुक़ाबला खेलना पड़ा. इस पर धोनी ने कहा कि आईपीएल के फ़ाइनल में पहुंचने का यह भी एक रास्ता है.

धोनी ने फ़ाइनल तक पहुंचने के सफ़र के लिए अपने गेंदबाज़ो का भी खुले दिल से शुक्रिया अदा किया.

पिछली बार चेन्नई ने पहले क्वालिफायर में ही सनराइज़र्स हैदराबाद को हराकर फ़ाइनल में जगह बना ली थी और उसके बाद हैदराबाद को ही फ़ाइनल में आठ विकेट से हराकर ख़िताब भी जीता था.

उस फ़ाइनल में शेन वाटसन ने नाबाद 117 रन बनाकर जीत में अपना अहम योगदान दिया था.

कमाल की बात है कि इस बार भी वाटसन के बल्ले से 96 रन हैदराबाद के ख़िलाफ़ ही निकले और दिल्ली के ख़िलाफ़ उनका यह दूसरा अर्धशतक था. उन्होंने इस बार अभी तक 16 मैच में 318 रन बनाए है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अब देखना है कि रविवार को जब हैदराबाद में चेन्नई और मुंबई फ़ाइनल में आमने-सामने होंगे तो जीत की बाज़ी किसके हाथ लगती है.

वैसे इस बार आईपीएल में मुंबई इंडियंस ने चेन्नई सुपर किंग्स को लीग स्टेज के दोनों मैचों में हराया. इतना ही नहीं मुंबई ने चेन्नई को पहले क्वालिफायर में भी मात दी.

देखना होगा कि अब फ़ाइनल मुकाबले में चेन्नई जीत दर्ज़ कर इन तमाम हारों का बदला ले पाएगी या फिर मुंबई एक बार फिर चेन्नई पर फतह हासिल कर खिताब अपने नाम करेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार