क्रिकेट विश्व कप 2019 में क्यों फेवरेट है पाकिस्तान क्रिकेट टीम?

  • 31 मई 2019
पाकिस्तान क्रिकेट टीम इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने विश्व कप 2019 के लिए पाकिस्तान को फेवरेट टीम में से एक बताया है. इसके पीछे उन्होंने दलील दी है कि इंग्लैंड में विश्व स्तरीय टूर्नामेंट में उनका प्रदर्शन बेहतर होता है.

क्रिकेट वर्ल्ड कप कौन सी टीम जीतेगी ?

गांगुली ने कहा कि पाकिस्तान की टीम ने इंग्लैंड के ख़िलाफ़ दूसरे वनडे में 373 रनों का पीछा करते हुए 361 रन बना लिये और सिर्फ़ 12 रनों से मैच हारी.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान हमेशा इंग्लैंड में खेले जाने वाले वर्ल्ड टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन करता है.

पाकिस्तान ने दो साल पहले इंग्लैंड में चैंपियंस ट्रॉफ़ी जीता. पाकिस्तान की टीम ने साल 2009 में वर्ल्ड टी20 भी इंग्लैंड में ही जीती.

तो क्या वाकई पाकिस्तान की टीम विश्व कप 2019 की फेवरेट टीमों में से है?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इंग्लैंड की धरती पर वर्ल्ड कप में प्रदर्शन

आंकड़ों के लिहाज से इंग्लैंड में खेले गए विश्व कप टूर्नामेंट में जीत का सबसे जोरदार रिकॉर्ड वेस्टइंडीज टीम का रहा है.

1975 से 1999 तक चार वर्ल्ड कप में वेस्ट इंडीज दो बार चैंपियन रही तो 1983 में फ़ाइनल में हारी.

अब तक इंग्लैंड में वर्ल्ड कप के दौरान खेले गए 22 मुक़ाबलों में से कैरिबियाई टीम को 17 में जीत मिली जबकि केवल केवल चार में हार का सामना करना पड़ा और इनमें से भी तीन मैच तो 1999 वर्ल्ड कप के दौरान खेले गए थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्रदर्शन के लिहाज से अपने घर में इंग्लैंड की टीम एक फ़ाइनल और दो सेमीफ़ाइनल का सफर तय करते हुए 21 मैचों में से 15 मुक़ाबला जीत चुकी है.

वहीं दक्षिण अफ़्रीकी टीम यहां केवल 1999 का वर्ल्ड कप खेली है. उसमें वो सेमीफ़ाइनल तक पहुंचे, जो टाई रहा था. टूर्नामेंट के दौरान खेले गए 8 मैचों में से उन्हें 5 में जीत और 2 में हार मिली थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ऑस्ट्रेलियाई टीम ने वर्ल्ड कप के दौरान इंग्लैंड में 23 मैच खेले हैं. उन्हें 13 में जीत जबकि 9 में हार का सामना करना पड़ा है.

यहां खेले गए चार टूर्नामेंट्स में से ऑस्ट्रेलिया एक बार (1999 में) विजेता रहा जबकि एक बार (1975 में) उसने फ़ाइनल तक का सफर तय किया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत भी जीत चुका है विश्व कप

भारतीय टीम भी इंग्लैंड की धरती पर ही 1983 का विश्व कप जीती थी. अब तक इंग्लैंड की धरती पर वर्ल्ड कप में भारत ने 22 मैच खेले हैं. इनमें से 11 में जीत और इतने ही मैचों में हार का सामना करना पड़ा है.

इन आंकड़ों के लिहाज से भारत के प्रदर्शन को औसत कहा जा सकता है लेकिन यदि ऐसे देखें कि 1983 के वर्ल्ड कप से भारत ने 10 मैचों में जीत हासिल की है जबकि केवल 6 गंवाए हैं तो इसे अच्छे प्रदर्शन के रूप में देखा जाना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान कैसे अलग है?

बाकी प्रमुख टीमों (न्यूज़ीलैंड, श्रीलंका और पाकिस्तान) की इंग्लैंड में खेले गए वर्ल्ड कप के दौरान जीत से अधिक हार हुई है. लेकिन इनमें से पाकिस्तान ही एकमात्र ऐसी टीम है जो दो बार सेमीफ़ाइनल में तो एक बार फ़ाइनल में पहुंचने में कामयाब रही है.

साथ ही आईसीसी के दो टूर्नामेंट (चैंपियंस और टी20 वर्ल्ड) की विजेता भी रही है. यहां एक बात और महत्वपूर्ण है कि ये दोनों टूर्नामेंट मौजूदा कप्तान सरफ़राज़ अहमद के नेतृत्व में ही खेला गया था.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption विश्व कप 2019 में सरफराज़ अहमद के हाथों में है पाकिस्तान की बागडोर

पाक टीम में युवाओं का दमखम

इमाम-उल-हक़, हसन अली, शादाब ख़ान और फखर ज़मान जैसे पाकिस्तान के कुछ नए खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बढ़िया प्रदर्शन कर रहे हैं.

ये सभी युवा हैं. मैदान पर इनकी तेज़ी देखते ही बनती है. मध्यक्रम में सरफराज़ अहमद जैसा अनुभवी कप्तान, स्पिन और तेज़ गेंदबाजी को तहस-नहस करने की क्षमता रखने वाले विस्फोटक हैरिस सोहेल और अनुभवी शोएब मलिक हैं जो टीम को किसी भी परिस्थिति से उबार कर जीत दिलाने की क्षमता रखते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption इमाम-उल-हक़

पाकिस्तान के लिए इमाम-उल-हक़ और फखर ज़मां बल्लेबाज़ी की शुरुआत करते हैं. 23 वर्षीय इमाम-उल-हक़ वनडे में 60 की औसत से खेल रहे हैं.

औसत के लिहाज से यह पाकिस्तान के किसी भी क्रिकेटर का वनडे में सबसे अच्छा प्रदर्शन है. उन्होंने इंग्लैंड, दक्षिण अफ़्रीका, श्रीलंका और ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ बीते दो वर्षों के दौरान छह शतक बनाए हैं. मई के महीने में उन्होंने ब्रिस्टल के मैदान पर सबसे बड़ा व्यक्तिगत स्कोर का रिकॉर्ड तोड़ा है. इसी मैदान पर विश्व कप के दौरान पाकिस्तान को श्रीलंका से खेलना है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption फखर ज़मां

दूसरे सलामी बल्लेबाज़ बाएं हाथ के 29 वर्षीय फखर ज़मां भी 50 से अधिक की औसत से खेलते हैं. उन्होंने बीते वर्ष ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ वनडे में दोहरा शतक जड़ा है. वनडे में दोहरा शतक जमाने वाले फखर पहले पाकिस्तानी बल्लेबाज़ हैं.

वे इस दौरान भारत, ज़िम्बाब्वे और इंग्लैंड के ख़िलाफ़ चार शतकों समेत 9 अर्धशतक भी लगा चुके हैं. भारत के ख़िलाफ़ उनका शतक उनके दोहरे शतक से भी अधिक महत्वपूर्ण रहा है क्योंकि इसी शतक की वजह से पाकिस्तान ने 2017 में चैंपियंस ट्रॉफ़ी का खिताब अपने नाम किया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption बाबर आज़म

तीसरे नंबर पर खेलने वाले बाबर आज़म टी20 के सरताज हैं. टी20 क्रिकेट में उन्होंने विराट कोहली का रिकॉर्ड तोड़ते हुए केवल 26 पारियों में सबसे तेज़ एक हज़ार रन बनाए हैं. न्यूज़ीलैंड की तेज़ पिचों पर आज़म अपनी बल्लेबाज़ी का हुनर दिखा चुके हैं.

अनुभवी कप्तान

31 वर्षीय कप्तान सरफराज़ अहमद के पास 100 से अधिक वनडे और दो हज़ार से अधिक रन बनाने के साथ ही वर्ल्ड टी20 और चैंपियंस ट्रॉफ़ी जीतने का अनुभव है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption हैरिस सोहेल को शोएब अख्तर मैदान के अंदर 'दिमाग वाला बल्लेबाज़' कहते हैं

वनडे में 45 से अधिक की औसत से खेलने वाले हैरिस सोहेल टीम के उपयोगी ऑलराउंडर हैं. कई मैच जिताऊ पारियां खेल चुके हैरिस सोहेल अपने करियर की शुरुआत में फिटनेस को लेकर बेहद परेशान रहे. यहां तक कि उनके घुटने का ऑपरेशन भी हो चुका है और जब दिग्गजों ने उनका करियर समाप्त मान लिया तो उन्होंने जीवट दिखाते हुए वापसी की.

स्पिन हो या पेस, किसी भी गेंद को मैदान की बाहर पहुंचाने की उनकी योग्यता के साथ ही उनके डिफेंस कौशल की तारीफ विशेषज्ञ भी करते हैं. पाकिस्तान के पूर्व तेज़ गेंदबाज शोएब अख्तर उन्हें मैदान के अंदर 'दिमाग वाला बल्लेबाज़' कहते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption आबिद अली

इनके अलावा मध्यक्रम में पाकिस्तान के पास अनुभव के धनी शोएब मलिक हैं. ढाई सौ से अधिक वनडे खेल चुके मलिक 2007 की विश्व कप टीम में शामिल थे.

उनका साथ देंगे 31 वर्षीय आबिद अली, जिन्होंने इसी साल मार्च में पाकिस्तान के लिए खेलना शुरू किया और पहले ही मैच में ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ शतक जड़ कर विश्व कप की टीम में अपनी जगह पक्की की है.

वेल्स में ही जन्में खब्बू इमाद वसीम 40 से अधिक की औसत से बल्लेबाज़ी करते है और बाएं हाथ के उपयोगी स्पिन गेंदबाज़ हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption फहीम अशरफ

धारदार गेंदबाज़ी

वैसे तो विश्व कप के लिए चुनी गई पाकिस्तान टीम की खासियत उसकी बल्लेबाज़ी दिख रही है लेकिन इतिहास गवाह है कि पाकिस्तान की विशेषता उसकी गेंदबाज़ी हुआ करती है.

वैसे तो ये गेंदबाज़ी लाइनअप इमरान, अकरम, वकार और अख्तर जैसी ख़तरनाक नहीं दिख रही है. लेकिन विश्व कप के लिए चुनी गई टीम में जिन गेंदबाज़ों को शामिल किया गया है उनकी खासियत को जानने के बाद कोई भी यह मानेगा कि ये उन दिग्गज गेंदबाज़ों से कमतर भी नहीं हैं.

विश्व कप से पहले इंग्लैंड में खेली जा रही वडे सिरीज़ में पाकिस्तान के लिए तेज़ गेंदबाज़ी की कमान फहीम अशरफ, शाहीन आफ़रीदी, हसन अली और जुनैद ख़ान संभाल रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption हसन अली

25 वर्षीय तेज़ गेंदबाज हसन अली 47 वनडे में 25.62 की औसत से 78 विकेट ले चुके हैं. 2017 के चैंपियंस ट्रॉफ़ी में प्लेयर ऑफ़ द टूर्नामेंट रहे अली ने टूर्नामेंट में 13 विकेट लेते हुए पाकिस्तान को पहली बार खिताब दिलाने में अपनी अहम भूमिका अदा की थी. अली को लगातार 90 मील प्रति घंटे की रफ़्तार से गेंद फेंकने में महारथ है.

वहीं 25 वर्षीय अशरफ और 29 वर्षीय जुनैद दायें हाथ तो आफ़रीदी बाएं हाथ से तेज़ गेंदें डालते हैं. 2017 चैंपियंस ट्रॉफ़ी से वनडे करियर शुरू करने वाले अशरफ सीम, स्विंग और बेहद चालाकी से स्लो बॉल डालने में महारथ रखते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption शाहिन आफ़रीदी

19 वर्षीय साढ़े छह फ़ीट लंबे शाहिन आफ़रीदी के पास अनुभव तो बेहद कम है लेकिन अंडर-19 वर्ल्ड कप के पांच मैचों में 12 विकेट चटकाने पर भारत के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ उनकी तारीफ कर चुके हैं तो पाकिस्तान के कोच मिकी आर्थर उन्हें भविष्य में दुनिया का नंबर-1 गेंदबाज़ बताते हैं.

जुनैद ख़ान टीम के सबसे अधिक अनुभवी गेंदबाज़ हैं और मोहम्मद हसनैन, शाहीन आफ़रीदी, फहीम अशरफ और हसन अली को उनसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा.

इमेज कॉपीरइट Reuters

शोएब मलिक का अनुभव

इस सब से इतर पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पास शोएब मलिक के रूप में एक बेहद ही अनुभवी क्रिकेटर है. 428 अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके मलिक के पास 2009 में इंग्लैंड में खेले गए टी20 वर्ल्ड कप और 2017 में चैंपियंस ट्रॉफ़ी जीतने का अनुभव है. मैदान पर शांत दिखने वाले मलिक का दिमाग मैच के दौरान परिस्थितियों की बहुत गहरी समझ रखता है और उन्हें पाकिस्तान की टीम में धोनी का पर्याय माना जाए तो यह अतिश्योक्ति नहीं होगी.

मलिक का 2019 में अब तक का प्रदर्शन बेहतर नहीं रहा है लेकिन 37 वर्षीय इस दिग्गज ने विश्व कप के बाद संन्यास लेने की घोषणा करने के साथ कहा कि इस टूर्नामेंट में वो ऐसे खेलेंगे जैसे कि यह उनके करियर की शुरुआत है.

5/5: SAF बनाम IND


साल भर से ज़्यादा समय गुजर गया है और इन दोनों टीमों ने एक साथ कोई मैच नहीं खेला है. दक्षिण अफ्रीका के पास लुंगी एनगिडी जैसे कुछ अच्छे तेज़ गेंदबाज़ हैं लेकिन उन्होंने भारत की टॉप बल्लेबाज़ी का अभी तक सामना नहीं किया है. ठीक इसी तरह विराट कोहली भी दक्षिण अफ्रीका के स्टार खिलाड़ियों से मैदान पर रूबरू नहीं हुए हैं. लेकिन भारत ने डेल स्टेन जैसे तेज़ गेंदबाज़ी के सूरमाओं के ख़तरे से निपटना सीख लिया है. ये मुक़ाबला बड़े स्कोर वाला होने जा रहा है और भारत मुक़ाबले में भारी पड़ सकता है.

9/5: IND बनाम AUS


साल 2018 में इंग्लैंड की ज़मीन पर ख़राब प्रदर्शन के बाद से ऑस्ट्रेलिया ने अपने प्रदर्शन में काफी सुधार किया है. इस विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया पूरी तरह से एक नई टीम के साथ आई है. मार्च, 2019 में पाकिस्तान को बुरी तरह रौंदकर इस टीम ने ये दिखलाया है कि वो एक मुश्किल प्रतिद्वंद्वी साबित हो सकती है. हालांकि विदेशी पिचों पर ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ भारत का हालिया रिकॉर्ड टीम इंडिया को बढ़त देता है.

13/5: IND बनाम NZL


साल 2015 वर्ल्ड कप की उपविजेता रही न्यूज़ीलैंड एक टीम के तौर पर काफी सशक्त नज़र आती है जिसमें स्टार खिलाड़ियों की कमी ज़रूर है पर वो मिल कर एक टीम की तरह खेलते हैं. लेकिन उनके खेल में गहराई की कमी के चलते उनके चोटिल होने और उम्मीद के मुताबिक़ प्रदर्शन नहीं करने का जोखिम बना रहता है.

16/5: IND बनाम PAK


दोनों देशों के बीच के हालिया राजनीतिक तनाव के मद्देनज़र देखें तो विश्व कप का ये वो मैच है जिस पर हर किसी की क़रीबी नज़र रहने वाली है. विश्व कप में पाकिस्तान ने भारत के ख़िलाफ़ कभी कोई मैच नहीं जीता है. लेकिन वर्ल्ड कप से ठीक पहले इंग्लैंड के ख़िलाफ़ पांच मैचों की वनडे सिरीज़ के दौरान पाकिस्तान को खुद को तैयार करने और टीम सलेक्शन से जुड़े कुछ सवालों को सुलझाने का मौका मिला. जहां वर्ल्ड कप टूर्नामेंट्स में भारत अपने परंपरागत प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान पर हावी रहा है, वहीं पूरे वनडे रिकॉर्ड की बात करें तो पाकिस्तान का पलड़ा भारी है. यही नहीं दो साल पहले चैंपियंस ट्रॉफ़ी में भी पाकिस्तान ने भारत को शिकस्त दी थी. भारत ने इस बार अपने हमेशा से मजबूत बल्लेबाज़ी क्रम में गेंदबाज़ी की ताकत भी शामिल की है. अगर टीम इंडिया के उभरते हुए नए खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन कर सके तो ये मैच भारत जीत सकता है.

22/5: IND बनाम AFG


कई भारतीय खिलाड़ी पिछले दिनों आईपीएल खेलने में व्यस्त रहे हैं और इसी वजह से उनके चोटिल होने को लेकर चिंताएं भी बनी हुई हैं. हालांकि फिर भी भारत वर्ल्ड कप की दावेदार टीमों में से एक है. गर्मियों के मौसम में इंग्लैंड की पिचें भारत की बैटिंग लाइन अप के माकूल हैं. आईपीएल में वैसे तो अफ़ग़ानिस्तान के ख़िलाड़ी खेल चुके हैं जिसमें गेंदबाज़ राशिद ख़ान भी हैं. भले ही अफ़ग़ानों ने कामयाबी के कुछ गुर सीख लिए हों लेकिन इस खेल के बादशाहों को मात देना उनके लिए अभी दूर की कौड़ी है. और वो भी वर्ल्ड कप जैसा टूर्नामेंट तो वैसा मौका नहीं होगा जहां अफ़ग़ानों की नई नवेली टीम भारत को कड़ी चुनौती दे पाए. भारत की जीत पर शायद ही किसी को शक होगा!

27/5: WIN बनाम IND


वेस्टइंडीज़ ने हाल में काफी अच्छा प्रदर्शन किया है. उनके पास ख़तरनाक़ तेज़ गेंदबाज़ हैं. तूफ़ानी बल्लेबाज़ क्रिस गेल किसी भी टीम के लिए ख़तरा हो सकते हैं लेकिन जसप्रीत बुमरा भारत के ऐसे तुरुप के गेंदबाज़ हैं जो वेस्टइंडीज़ के बल्लेबाज़ बड़ा ख़तरा हो सकते हैं.

30/5: ENG बनाम IND


कई भारतीय खिलाड़ी पिछले दिनों आईपीएल खेलने में व्यस्त रहे हैं और इसी वजह से उनके चोटिल होने को लेकर चिंताएं भी बनी हुई हैं. हालांकि फिर भी भारत वर्ल्ड कप की दावेदार टीमों में से एक है. गर्मियों के मौसम में इंग्लैंड की पिचें भारत की बैटिंग लाइन अप के माकूल हैं. आईपीएल में वैसे तो अफ़ग़ानिस्तान के ख़िलाड़ी खेल चुके हैं जिसमें गेंदबाज़ राशिद ख़ान भी हैं. भले ही अफ़ग़ानों ने कामयाबी के कुछ गुर सीख लिए हों लेकिन इस खेल के बादशाहों को मात देना उनके लिए अभी दूर की कौड़ी है. और वो भी वर्ल्ड कप जैसा टूर्नामेंट तो वैसा मौका नहीं होगा जहां अफ़ग़ानों की नई नवेली टीम भारत को कड़ी चुनौती दे पाए. भारत की जीत पर शायद ही किसी को शक होगा!

2/6: BGD बनाम IND


साउथैम्टन का ग्राउंड बड़े स्कोर वाले मैचों के लिए जाना जाता है. इसलिए ये बांग्लादेश और भारत दोनों को ही रास आएगा. ये बांग्लादेश के कैप्टन मशरफ़े मुर्तज़ा का आख़िरी विश्व कप है. वे बांग्लादेश की संसद के सदस्य हैं और ज़ाहिर है कि वे कामयाबी के साथ इतिहास में दर्ज होना चाहेंगे लेकिन भारत के ख़िलाफ़ ये वो मैच नहीं होने जा रहा है जिसे उनकी टीम जीत सकती है. बांग्लादेश के पास तभी मौका होगा जब वो टीम इंडिया को छोटे स्कोर पर समेट दे और लक्ष्य का पीछा करे. लेकिन भारत के लंबे बल्लेबाज़ी क्रम को फतह करना इतना आसान नहीं होगा.

6/6: SRL बनाम IND


श्रीलंका एक अपेक्षाकृत नौजवान टीम तैयार कर रही है जो मैदान में बिना डरे खेलने का माद्दा रखती है. लेकिन अनुभव की कमी इस टूर्नामेंट में उन्हें नुक़सान पहुंचा सकती है क्योंकि विश्व कप मुक़ाबलों में अनुभव बहुत मायने रखता है. इसमें कोई दो राय नहीं कि वर्ल्ड कप में कांटे का संघर्ष होने जा रहा है. सब कुछ ठीक रहा तो भारत को अब तक सेमी फ़ाइनल में अपनी जगह पक्की कर देनी चाहिए, लेकिन वे चाहेंगे कि उनकी जीत का सिलसिला जारी रहे और खिताब की तरफ आगे बढ़ते रहें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार