विश्व कप 2019: खेल से भी बढ़कर बहुत कुछ है भारत-पाकिस्तान मैच

  • 16 जून 2019
भारत और पाकिस्तान के समर्थक इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption भारत और पाकिस्तान के समर्थक

रंगों से पुते चेहरे लिए दर्शकों से ख़चाख़च भरा स्टेडियम और उनके हाथों मे लहराते अपने-अपने देश के झंडे.

मैच दिन में भारतीय समयानुसार तीन बजे से शुरू होगा, लेकिन सुबह से ही टीवी चैनलों के स्टूडियों से लेकर बाज़ारों, कैफे़, होटलों और क्रिकेट एकेडमियों में धूम मच जाएगी.

कई जगहों पर खाली सड़कें होंगी, घरों में चाय-नाश्ते से लेकर लंच और डिनर का पहले से ही इंतज़ाम होगा.

यह सब होता है जब भारत और पाकिस्तान दुनिया के किसी भी कोने में क्रिकेट के मैदान में आमने-सामने होते हैं. और जब बात विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट की हो तो कहना ही क्या.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption भारत-पाक मैच प्रेमी और समर्थक

कुछ यही हाल पाकिस्तान का भी है. वहां के क्रिकेट प्रेमी कौन सा भारत से कम है.

सुनने को यह भी मिल रहा है कि पांच लाख लोग मैच का टिकट ख़रीदना चाहते थे लेकिन कामयाबी सिर्फ़ 25000 लोगों को मिली.

इमेज कॉपीरइट Google
Image caption पाकिस्तान क्रिकेट प्रेमी

दोनों टीमों के कप्तान और खिलाड़ी चाहे जितना भी कहें कि दबाव नहीं होता लेकिन वह होता ज़रूर है.

तभी तो इंग्लैंड पर पाकिस्तान की जीत के बाद संवाददाता सम्मेलन में कप्तान सरफ़राज़ अहमद से पूछा गया कि अगर भारत के ख़िलाफ़ टीम हार गई तो कोच और कप्तान को हटाने की बातें सुनने को मिलेंगी.

सरफ़राज़ जवाब में बोले, "भई जवाब किसी को क्या देना है. अगर हम ख़राब खेले तो सारी बातें सहनी भी पड़ेंगी. यही हमारी टीम और खिलाड़ी हैं. अगर टीम को समर्थन मिला तो टीम आगे जाएगी."

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पाकिस्तानी कप्तान सरफराज़ अहमद

वहीं सरफ़राज़ अहमद से यह भी सवाल किया गया कि पिछले कुछ सालों में पाकिस्तान की टीम दूसरी टीमों के ख़िलाफ़ अलग खेलती है और भारत के ख़िलाफ़ अलग. क्या माइंडसेट है कि पूरी ताक़त से नहीं खेल पाती.

सरफ़राज़ ने इसके जवाब में कहा कि पहले का तो मालूम नहीं लेकिन जब से वह कप्तान बने हैं तब से यह महसूस हुआ कि नए खिलाड़ी थोड़ा दबाव में खेले. एक टीम के रूप में इसका नुकसान भी पाकिस्तान को हुआ.

ना तो टीम की बल्लेबाज़ी अच्छी हुई ना ही गेंदबाज़ी और ना ही फिल्डिंग.

इसके बाद कोच ने कहा कि अगर यही चलता रहा तो हम किसी भी टीम को चुनौती नहीं दे सकते हैं.

बाद में कोच और मैनेजमेंट ने टीम को सपोर्ट किया और मनोबल बढ़ा.

सरफ़राज़ अहमद ने यह भी कहा कि जहां तक जूनुन की बात है तो सबकी ख्वाहिश यही होती है कि भारत के ख़िलाफ़ मैच ज़रूर जीतना है.

लेकिन भारत के ख़िलाफ़ जीतने का जितना दबाव पाकिस्तान पर होता है उतना ही भारत पर भी होता होगा.

सरफ़राज़ अहमद ने यह भी कहा कि कोई भी खिलाड़ी चाहे वह भारत का हो या पाकिस्तान का जो भी शानदार प्रदर्शन करता है वह हीरो बन जाता है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption भारत के कप्तान विराट कोहली

दूसरी तरफ़ भारत के कप्तान विराट कोहली ने इस मैच को लेकर एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, "तैयारी के लिहाज़ से अपनी ताक़त पर भरोसा रखें, और जिस मैच में अच्छा खेलेंगे वह जीतेंगे. दूसरी टीम की ताक़त और कमज़ोरी को जानने के बाद भी अगर ख़राब खेलते हैं तो जीतने के अवसर कम हो जाते हैं."

"अगर सभी ग्यारह खिलाड़ी एक साथ एकाग्रचित होकर प्रदर्शन करेंगे तो किसी भी टीम को हरा सकते हैं अगर ख़राब खेले तो हार भी सकते हैं."

भारत ने दक्षिण अफ्रीका को छह विकेट से और पिछली चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को 36 रन से हराया. इसके बाद भारत का न्यूज़ीलैंड से होने वाला मुक़ाबला बारिश के कारण रद्द हो गया.

विराट कोहली ने कहा कि इन दो जीत के बाद टीम किसी भी टीम को हराने का दम रखती है.

रही बात रविवार को पाकिस्तान के ख़िलाफ़ होने वाले मैच की तो उसे लेकर विराट मानते हैं कि अगर मैच बारिश से प्रभावित हुआ तो उनके पास दूसरा संयोजन भी है. इसके लिए टीम का हर खिलाड़ी भी तैयार है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption शिखर धवन

ज़ाहिर सी बात है कि विराट कोहली पाकिस्तान के ख़िलाफ़ होने वाले मैच को लेकर बेफ्रिक़ हैं और रही बात सलामी बल्लेबाज़ शिखर धवन के चोटिल होने की तो उसका असर तो टीम पर पड़ेगा ही. शिखर धवन ने ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ शतकीय पारी खेली थी.

उम्मीद है कि उनकी जगह के.एल. राहुल सलामी बल्लेबाज़ रोहित शर्मा के साथ खेलेंगे.

अगर मौसम बिलकुल साफ़ रहा और मैच पूरे 50 ओवर का होने की उम्मीद हुई तो शायद विराट कोहली विजय शंकर को नंबर चार पर खिलाना पसंद करें.

विजय शंकर गेंदबाज़ी भी कर सकते हैं. अगर बारिश से कुछ ओवर घटने की आशंका हुई तो फिर कुलदीप यादव की जगह मोहम्मद शमी भी खेल सकते हैं. ऐसे में विराट कोहली दिनेश कार्तिक को विजय शंकर की जगह खिलाएंगे.

रही बात टॉस की तो उस पर किसी का ज़ोर नहीं है लेकिन भारत की गेंदबाज़ी और बल्लेबाज़ी अभी तक तो शानदार रही है.

रोहित शर्मा और कप्तान विराट कोहली की बेहतरीन फॉर्म और उसके बाद हार्दिक पांड्या और महेंद्र सिंह धोनी की भरोसेमंद बल्लेबाज़ी टीम की जीत की कुंजी साबित हुई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption फ़ख़र ज़मां

दूसरी तरफ़ जैसा खेल पाकिस्तान ने इंग्लैंड के ख़िलाफ़ दिखाया वैसा खेल वह भारत के ख़िलाफ़ भी खेले तो उनका विश्व कप में भारत से जीतने का 44 साल से अधूरा रहा सपना पूरा भी हो सकता है.

लेकिन इसके लिए पाकिस्तान के टॉप ऑर्डर को चलना होगा.

इसमें सलामी जोड़ी इमाम उल हक़, फ़ख़र ज़मां, बाबर आज़म, मोहम्मद हफीज़ और कप्तान सरफराज़ अहमद शामिल है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption बारिश ना होने की दुआ करते दर्शक

भारी मौसम को देखते हुए तेज़ गेंदबाज़ मोहम्मद आमिर और वहाब रियाज़ का पहला और दूसरा स्पैल बेहद महत्वपूर्ण रहेगा. हसन अली भी उनका साथ दे सकते हैं और स्पिनर मोहम्मद हफ़िज़ को कसी गेंदबाज़ी करनी होगी.

अब देखना है कि रविवार को भारत विश्व कप में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ जीत पाता है या नहीं.

वहीं पाकिस्तान के लिए यह लगभग करो या मरो वाला मुक़ाबला ही है क्योंकि भारत के ख़िलाफ़ मिली हार उसके सेमीफाइनल में पहुंचने की राह को बहुत मुश्किल बना देगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार