India vs Pakistan: किसके टिप्स पर सरफ़राज़ ने चुनी बॉलिंग

  • 16 जून 2019
इमरान ख़ान इमेज कॉपीरइट PTI

वर्ल्ड कप 2019 में भारत-पाकिस्तान के बीच मुक़ाबले में बारिश की आशंकाओं के बीच उत्साह अपने चरम पर है.

इसे लेकर सोशल मीडिया पर भी लोग लगातार ट्वीट कर रहे हैं. इसके लिए #IndVsPak, #IndvPak और #IndiaVsPakistan जैसे हैशटैग्स का इस्तेमाल किया जा रहा है.

क्रिकेट के प्रशंसकों समेत सरहद के दोनों तरफ से क्रिकेट के कई दिग्गज भी ट्वीट कर रहे हैं. दोनों देशों के लिए यह मुक़ाबला कितना अहम है इसे ऐसे भी देख सकते हैं कि खुद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री और पूर्व कप्तान इमरान ख़ान इस मुक़ाबले से पहले टीम के वर्तमान कप्तान सरफ़राज़ को कुछ सुझाव दिया है.

पाकिस्तान की टीम ने 1992 में इमरान ख़ान की ही कप्तानी में वर्ल्ड कप जीता था.

इमरान ने पांच ट्वीट्स किये. अपने पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा, "जब मैंने अपना क्रिकेट करियर शुरू किया तो मुझे लगता था कि सफलता 70 फ़ीसदी प्रतिभा और 30 फ़ीसदी दिमाग से मिलती है. जब मैंने क्रिकेट से संन्यास लिया तब मुझे लगता था कि यह अनुपात 50-50 है. लेकिन अब मैं अपने मित्र गावस्कर से सहमत हूं कि दिमाग का किरदार बढ़ कर 60% हो गया है जबकि इसमें प्रतिभा का 40% किरदार है."

दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा, "आज, मैच की तीव्रता को देखते हुए, यह लगता है कि दोनों टीमों पर बहुत मानसिक दबाव रहेगा और आज दिमागी ताक़त मैच का परिणाम तय करेगी. हम भाग्यशाली हैं कि हमारे पास सरफ़राज़ के रूप में एक बोल्ड कप्तान है और आज उसे अपना सर्वेश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा."

तीसरे ट्वीट में इमरान लिखते हैं, "दिमाग से हारने की सभी आशंकाओं को निकाल देना होगा क्योंकि दिमाग एक समय में एक ही विचार प्रोसेस कर सकती है. हारने का डर आपको नराकात्मक और रक्षात्मक रणनीति बनाने की ओर ले जाता है और इससे विपक्षी टीम की ग़लतियों पर आप आक्रामक नहीं हो पाते. लिहाजा सरफ़राज और पाकिस्तान की टीम के लिए मेरा सुझाव हैः

जीत की आक्रामक रणनीति के लिए सरफ़राज़ को विशेषज्ञ बल्लेबाज़ों और गेंदबाज़ों के साथ मैच में उतरना चाहिए क्योंकि रेलो कट्टा (हर चीज कर लेने वाले) शायद ही दबाव वाले मैचों में प्रदर्शन कर पाते हैं.

यदि पिच पर नमी नहीं है तो टॉस जीत कर पहले निश्चित ही बल्लेबाज़ी करनी चाहिए.

अंत में उन्होंने लिखा, "भले ही भारतीय टीम फेवरेट हो, पाकिस्तान टीम को हारने का डर मन से निकाल देना चाहिए. आप अपना बेस्ट दें और अंतिम गेंद तक लड़ें. फिर नतीजा चाहे जो भी हो उसे सच्ची खेलभावना से स्वीकार करें."

और आखिर इमरान ख़ान के सुझाव, मैनेचेस्टर में बारिश की संभावनाओं और पिच पर नमी को देखते हुए सरफ़राज़ अहमद ने इस मुक़ाबले में टॉस जीत कर बल्लेबाज़ी ले ली है.

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार