पाकिस्तान को क्यों लग रहा कि 1992 दोहराएगी उनकी टीम

  • 25 जून 2019
इमरान ख़ान इमेज कॉपीरइट Getty Images

जब विश्व कप 2019 के लिए पाकिस्तानी क्रिकेट टीम का नारा 'वी हैव, वी विल' लॉंच हुआ तो इसका मतलब था कि पाकिस्तान अतीत में वर्ल्ड कप जीत चुका है और इस बार भी जीतेगा.

कई लोग मानते हैं कि पाकिस्तान ने जिस तरह 1992 में प्रदर्शन किया था, वैसा ही 2019 में वो दुहराने जा रहा है.

पाकिस्तान का अभी तक का रिकॉर्ड और टूर्नामेंट में उसकी स्थिति 27 साल पहले के हालात से बहुत अलग नहीं है.

पाकिस्तानी टीम के लिए विश्व कप 2019 के पहले छह मैचों के वैसे ही नतीजे रहे हैं जैसे 1992 के टूर्नामेंट के पहले छह मैचों के थे.

साल 1992 और 2019 में दोनों ही मौक़ों पर पाकिस्तान अपना दूसरा मैच जीतने से पहले वेस्टइंडीज़ से हार गया और इसका तीसरा मैच बारिश की भेंट चढ़ गया.

1992 की तरह ही पाकिस्तान विश्व कप 2019 का अपना चौथा और पाँचवां मैच हार गया और छठा मैच जीत गया.

साल 1992 में भी पाकिस्तान का टूर्नामेंट में बने रहना इस बात पर निर्भर कर रहा था कि ऑस्ट्रेलिया वेस्ट इंडीज़ को हरा पाता है या नहीं. और एक बार फिर पाकिस्तान चाहता है कि ऑस्ट्रेलिया जीते, इस बार इंग्लैंड के ख़िलाफ़.

इमेज कॉपीरइट AFP

संयोगों की इस सूची में एक दिलचस्प तथ्य ये भी है कि न्यूज़ीलैंड, पाकिस्तान से भिड़ने से पहले तब भी अजेय था. इस बार भी वो अभी तक अजेय है और बुधवार को उसका सामना पाकिस्तान से होने जा रहा है.

1992 और 2019 में इतनी समानताएं हैं कि पाकिस्तानी फ़ैन निश्चित रूप से वैसे ही नतीजों की उम्मीद कर रहे होंगे. एक बड़ा फ़र्क़ यह है कि तब पाकिस्तान की टीम की कमान वर्तमान पाकिस्तानी पीएम इमरान ख़ान के हाथ में थी और अभी सरफ़राज़ अहमद के हाथों में.

वसीम अकरम क्या सोचते हैं?

पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान वसीम अकरम ने कहा है कि रविवार को लॉर्ड्स के मैदान में दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ़ पाकिस्तान का प्रदर्शन आलोचकों के लिए माकूल जवाब था. अकरम ने कहा कि वो टीम के प्रदर्शन से ख़ुश हैं.

पाकिस्तानी न्यूज़ नेटवर्क जिओ टीवी के एक कार्यक्रम ने अकरम ने कहा कि रविवार को दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ़ पाकिस्तानी टीम के खिलाड़ियों ने जो ग़लतियां की हैं उस पर जीत का पर्दा नहीं डालना चाहिए.

उन्होंने कहा कि फ़ील्डिंग में पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने कई ग़लतियां की थीं.

वसीम अकरम ने कहा, ''हमने इस टूर्नामेंट में कुल 14 कैच छोड़े हैं. विश्व कप में कैच छोड़ने के मामले में हम टॉप पर हैं और यह अच्छा संकेत नहीं है. हमें इस समस्या से पार पाना होगा.''

वसीम अकरम से पूछा गया कि पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ़ छह कैच कैसे छोड़ दिए? इसके जवाब में उन्होंने कहा, ''हमारे खिलाड़ियों ने गेंद के आने का इंतजार नहीं किया और आने से पहले ही छलांग लगा ले रहे थे."

इस मामले में भारत का प्रदर्शन सबसे उम्दा रहा है, अब तक के टूर्नामेंट में भारतीय टीम ने केवल एक कैच छोड़ा है. इंग्लैंड की टीम का प्रदर्शन पाकिस्तान के बाद सबसे बुरा रहा है.

रविवार को पाकिस्तान ने दक्षिण अफ़्रीका की टीम को 49 रनों से हराया और इसके साथ ही विश्व कप के सेमी फ़ाइनल में अपनी दावेदारी की उम्मीद को ज़िंदा रखा.

हालांकि इस जीत के बावजूद कैच छोड़ने के कारण पाकिस्तानी खिलाड़ियों की ख़ूब आलोचना हो रही है.

पाकिस्तानी टीम ने अकेले इसी मैच में छह कैच छोड़े और पूरे टूर्नामेंट में पाकिस्तानी टीम अपनी इस कमज़ोरी से उबर नहीं पाई. कुछ लोग इसे फ़ील्डिंग के मामले में सबसे बुरी टीम भी कह रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'सरफ़राज पहले आएं'

पाकिस्तान के इस पूर्व तेज़ गेंदबाज़ ने कहा कि टॉस जीतने के बाद सरफ़राज़ का बल्लेबाज़ी करने का फ़ैसला बहुत अच्छा था. इसके साथ ही वसीम अकरम ने पाकिस्तान के टॉप ऑर्डर की बैटिंग की भी तारीफ़ की.

वसीम ने कहा, ''पहले बैटिंग का फ़ैसला बिल्कुल सही था. मैदान में घास थी लेकिन पिच में अंदर से नमी नहीं थी. पाकिस्तान ने पिच को बिल्कुल ठीक समझा और इस पर पहले बैटिंग करना बिल्कुल सही था. ओपनर्स ने बढ़िया खेल दिखाया. बाबर ने भी अच्छा खेला लेकिन उसे 50 को 100 में बदलने की ज़रूरत है.''

इमेज कॉपीरइट AFP

उन्होंने ये भी कहा कि फ़खर अभी विकेट पर टिके रहना सीख रहे हैं, जो कि विपक्षियों के लिए ख़तरे की घंटी है क्योंकि उनकी मौजूदगी गेंदबाज़ों को अपनी रणनीति बदलने पर मज़बूर करती है.

एक सवाल के जवाब में वसीम ने कहा कि सरफ़राज़ को इमद वसीम को भेजने की बजाय बल्लेबाज़ी क्रम में पहले आना चाहिए था.

उन्होंने उम्मीद जताई कि पाकिस्तानी टीम अपना 1992 का प्रदर्शन दोहराएगी. उस समय पाकिस्तानी टीम का सामना एजबैस्टन में न्यूज़ीलैंड के साथ हुआ था और उस टूर्नामेंट में वो अजेय टीम थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'प्रदर्शन ही जवाब है'

वसीम ने कहा, "1992 में भी वो हमसे भिड़ने से पहले एक भी मैच नहीं हारे थे, लेकिन मैच हमने जीता. इस बार भी वो अजेय हैं और मुझे उम्मीद है कि हम पिछला प्रदर्शन दुहराएंगे. लेकिन खिलाड़ियों को अपना सर्वश्रेष्ठ देना होगा."

वसीम ने इस बात पर भी ख़ुशी जताई कि रविवार को लॉर्ड्स के मैदान में टीम का हौसला बढ़ाने के लिए पाकिस्तानी दर्शक पहुंचे थे.

वसीम ने कहा, "सोशल मीडिया पर गिड़गिड़ाने की बजाय सभी हमलों का जवाब देने का यही सबसे बढ़िया तरीक़ा है."

उन्होंने कहा, "मैदान में भीड़ को देखकर अच्छा लगा. बड़े बड़े नाम मौजूद थे और इसे देख कर मुझे लगा कि ये मैच लॉर्ड्स में नहीं बल्कि लाहौर में खेला जा रहा है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार