विश्व कप 2019: धोनी की धीमी बल्लेबाज़ी पर कप्तान कोहली ने क्या कहा ?

  • 27 जून 2019
मैच के बाद कोहली और धोनी बात करते हुए इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मैच के बाद कोहली और धोनी बात करते हुए

क्रिकेट विश्व कप में गुरुवार को भारत ने वेस्ट इंडीज़ पर 125 रनों की बड़ी जीत दर्ज़ की. मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रेफर्ड मैदान में खेले गए इस मैच में भारत ने पहले बल्लेबाज़ी और फिर गेंदबाज़ी में शानदार प्रदर्शन किया.

इस जीत के साथ ही भारत अब सेमीफ़ाइनल में अपनी जगह पक्की करने के और ज़्यादा करीब पहुंच गया है.

भारत ने अभी तक कुल छह मुक़ाबले खेले हैं जिसमें से पांच में जीत दर्ज कर और बेनतीजा रहे मैच के आधार पर उसके कुल 11 अंक हैं.

अंकतालिका में भारत ऑस्ट्रेलिया के बाद दूसरे स्थान पर है. यानी अंतिम चार में जगह बनाने के लिए भारत को अपने बचे हुए तीन में से सिर्फ एक मैच जीतना है.

वहीं दूसरी तरफ वेस्ट इंडीज़ इस मैच में हार के बाद सेमीफ़ाइनल की दौड़ से बाहर हो गया है. उसके सात मैचों में सिर्फ़ तीन अंक हैं.

धोनी की बल्लेबाज़ी और विराट का बयान

भारत के लिए टीम के कप्तान विराट कोहली ने सर्वाधिक 72 रन बनाए. इसके अलावा टीम के अनुभवी बल्लेबाज़ महेंद्र धोनी ने भी अर्धशतक जमाया और नाबाद 56 रनों की पारी खेली. धोनी ने अपनी पारी में कुल 61 गेंदे खेली और तीन चौके और दो छक्के लगाए.

धोनी की पारी की चर्चा इसलिए अहम है क्योंकि धोनी ने अपनी पारी की शुरुआत बहुत ही धीमी रफ़्तार से की. शुरुआती 20 रन बनाने के लिए धोनी ने कुल 40 गेंदे खेली. इस दौरान कई मौक़ों पर उनके साथी बल्लेबाज़ पर अतिरिक्त दबाव भी देखा गया.

धोनी ने विराट कोहली के साथ 40 रन और हार्दिक पंड्या के साथ 70 रनों की साझेदारी की. विराट कोहली के साथ 40 रनों की साझेदारी में धोनी ने 32 गेंदों पर 17 रन बनाए थे.

हालांकि अंतिम ओवर में धोनी ने दो छक्के और एक चौका लगाकर भारतीय पारी को बेहतरीन तरीके से अंजाम तक पहुंचाया लेकिन बीच के ओवरों में उनकी धीमी बल्लेबाज़ी की लगातार आलोचना होती रही.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मैच जीतने के बाद मैन ऑफ़ द मैच बने विराट कोहली ने धोनी की बल्लेबाज़ी पर विशेष टिप्पणी की और कहा, ''धोनी जो करना चाहते हैं उसके बारे में सोचते हैं. किसी भी खिलाड़ी का बुरा दिन हो सकता है. जब धोनी का बुरा दिन होता है तो सभी उनके बारे में बाते करने लगते हैं. लेकिन हम उनके साथ खड़े हैं. सबसे अच्छी बात यह है कि जब आखिरी ओवरों में हमें 15-20 अतिरिक्त रन चाहिए होते हैं तो धोनी हमें वो बनाकर देते हैं.''

''धोनी को पता है कि निचलेक्रम के बल्लेबाज़ों के साथ कैसे बैटिंग करनी है. दस में से आठ बार उनका अनुभव हमारे काम आता है. हमारे पास बहुत कम खिलाड़ी हैं जो तुरंत हालात के अनुसार बल्लेबाज़ी बदल सकते हैं. धोनी एक ऐसे शख्स हैं जो तुरंत पिच का मिज़ाज समझकर बता देते हैं कि यहां पर कितना स्कोर बनाया जा सकता है.''

''अगर धोनी बोल देते हैं कि यहां पर 265 का स्कोर अच्छा रहेगा तो हम 300 के बारे में सोचना छोड़ देते हैं. वो हमारे लिए एक महान खिलाड़ी हैं और हम चाहते हैं कि वो लगातार हमारे साथ बने रहें.''

''पिछले दो मैचों में चीज़ें हमारे मन-मुताबिक नहीं चलीं, लेकिन फिर भी हम जीतने में कामयाब रहे. हमें लगता है कि हम किसी भी तरह के हालात से मैच को जीत सकते हैं.''

दरअसल भारत को अफ़ग़ानिस्तान के ख़िलाफ़ मैच जीतने के लिए खासी मशक्कत करनी पड़ी थी. उस पारी में भी धोनी ने काफी धीमी बल्लेबाज़ी की थी, जिसके बाद धोनी की आलोचना होने लगी थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वेस्ट इंडीज़ के ख़िलाफ़ भी भारतीय बल्लेबाज़ी कुछ वक़्त के लिए संघर्ष करती हुई दिखी. टीम के ओपनर रोहित शर्मा महज़ 18 रन बना सके. केएल राहुल ने 48 रन बनाए लेकिन बड़ी पारी खेलने में नाकामयाब रहे. वहीं विजय शंकर 14 और केदार जाधव महज़ सात रन बना सके.

अंत के ओवरों में हार्दिक पंड्या ने 38 गेंदों पर 48 रन बनाकर भारतीय पारी को गति प्रदान की जिससे भारत वेस्ट इंडीज़ को 269 रनों का लक्ष्य देने में कामयाब रहा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

शमी का जलवा

धीमी और असमान उछाल वाली पिच पर वेस्ट इंडीज़ के बल्लेबाज़ों के लिए भारतीय गेंदबाज़ी का सामना करना आसान चुनौती नहीं रहा.

भारतीय तेज़ गेंदबाज़ मोहम्मद शमी ने वेस्ट इंडीज़ को शुरुआती झटके दिए. उन्होंने क्रिस गेल को छह और शाय होप को पांच रन पर आउट किया. शमी ने मैच में 6.2 ओवर की गेंदबाज़ी की जिसमें उन्होंने 16 रन देकर चार विकेट हासिल किए.

वहीं दुनिया के नंबर एक गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह ने भी छह ओवर में महज़ नौ रन देकर दो विकेट चटकाए.

पूरे मैच के दौरान एक बार भी ऐसा नहीं लगा कि वेस्ट इंडीज़ मैच में वापसी कर सकती है. वेस्ट इंडीज़ की पूरी टीम 34.2 ओवर में 143 रनों पर ढेर हो गई.

स्पिनर युजवेद्र चहल ने दो और कुलदीप यादव ने एक विकेट लिया, जबकि हार्दिक पंड्या को भी एक सफलता मिली.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मोहम्मद शमी

सेमीफ़ाइनल से एक कदम दूर भारत

भारत अब सेमीफ़ाइनल में पहुंचने से सिर्फ़ एक कदम दूर है. उसे अपना अगला मुक़ाबला मेज़बान इंग्लैंड से रविवार को खेलना है.

इंग्लैंड के लिए यह मैच करो या मरो वाला है. अगर इंग्लैंड मैच जीतता है तो उसकी सेमीफ़ाइनल में पहुंचने की उम्मीदें बरकरार रहेंगी, अगर भारत को जीत मिलती है तो इंग्लैंड को इस विश्वकप से अपना बिस्तर समेटना होगा.

इतना ही नहीं उस मैच पर पाकिस्तान भी नज़रें भी रहेंगी, क्योंकि इंग्लैंड की हार या जीत पर पाकिस्तान के सेमीफ़ाइनल का टिकट भी निर्भर करता है. पाकिस्तान को अपने बचे हुए दो मैच जीतने के साथ-साथ इंग्लैंड की हार भी ज़रूरी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार