क्या धोनी दोबारा क्रिकेट पिच पर नहीं दिखेंगे?

  • 16 सितंबर 2019
धोनी इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और दिग्गज विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी विश्वकप सेमीफ़ाइनल में मिली हार के बाद से क्रिकेट मैदान से बाहर हैं.

उनकी रिटायरमेंट के बारे में अलग-अलग अटकलें लगाई जा रही हैं. लेकिन फ़िलहाल धोनी और बीसीसीआई दोनों ही इस मामले में चुप्पी साधे बैठे हैं.

दक्षिण अफ़्रीका के साथ शुरू हुई टी-20 सिरीज़ की टीम में भी धोनी नदारद हैं, इस सिरीज़ का पहला मैच बारिश से धुल चुका है. इससे पहले वेस्ट इंडीज़ के पूरे दौरे में धोनी टीम से बाहर रहे.

क्रिकेट समीक्षक अयाज़ मेमन का मानना है कि धोनी के खेल पर सस्पेंस की कोई वजह नहीं होनी चाहिए.

मेमन कहते हैं, ''धोनी आगे खेलेंगे या नहीं यह फ़ैसला उन्हें ख़ुद लेना है. जब वो यह फ़ैसला कर लेंगे तो अपने आप सामने आकर सभी को बता देंगे. इस पर सस्पेंस जैसी बात का कोई तुक नहीं है.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कोहली ने बढ़ाया सस्पेंस?

विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में न्यूज़ीलैंड के हाथों हारकर बाहर होने की बात अब पुरानी हो चुकी है.

उसके बाद भारत वेस्ट इंडीज़ को टी-20, एकदिवसीय और टेस्ट सिरीज़ में हरा चुका है यानि तीनों ख़ाने चित कर चुका है. लेकिन चौथा ख़ाना यानि धोनी की याद आना अभी भी जारी है.

पिछले दिनों सुबह से शाम तक अटकलों का बाज़ार गरम रहा कि कहीं धोनी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का शटर बंद तो नहीं करने जा रहे हैं. हालांकि यह महज़ अफ़वाह साबित हुई.

दरअसल इस अफ़वाह की वजह बने भारत के कप्तान विराट कोहली. उन्होंने एक तस्वीर क्या पोस्ट की दुनिया में फसाना ही बन गया.

विराट कोहली ने एक फोटो शेयर करते हुए लिखा है, "मैं ये मैच कभी नहीं भूल सकता. वो विशेष रात थी. इस आदमी ने मुझे फ़िटनेस टेस्ट की तरह भगाया था."

दरअसल कोहली इस तस्वीर में धोनी के सजदे में झुके नज़र आए हैं और यह तस्वीर 2016 के वर्ल्ड टी-20 मुक़ाबले में ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ भारत की शानदार जीत की है. इस मुक़ाबले में भारत ने धोनी-कोहली के सिंगल्स और डबल्स की बदौलत 161 रनों का मुश्किल लक्ष्य हासिल किया था.

कोहली के इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया में इस बात की अफ़वाह तेज़ी से फैली है कि एमएस धोनी अपने संन्यास की घोषणा कर सकते हैं.

हालांकि एमएस धोनी की पत्नी साक्षी सिंह धोनी ने कुछ ही देर बाद ट्वीट करते हुए इसे अफ़वाह बता दिया.

धोनी की जगह कौन?

कोहली के ट्वीट के बाद धोनी के अलावा कई लोगों ने सोचा कि धोनी ने दस्ताने और बैट खूंटी पर टांग दिए. वैसे भले ही यह अफवाह हो लेकिन यह सवाल तो उठता ही है कि अगर अभी नहीं भी टांगे तो कब तक?

इसके जवाब में अयाज़ मेमन कहते हैं, ''धोनी को कब तक खेलना है, यह धोनी और चयनकर्ताओं को तय करना है. अगर चयनकर्ताओं को लगता है कि अब धोनी की जगह टीम में नहीं बनती हैं तो उन्हें धोनी से इस संबंध में बात करनी चाहिए. इसके साथ ही उन्हें यह भी देखना होगा कि धोनी की जगह कौन ले सकता है''

धोनी की जगह कौन लेगा यह एक बहुत बड़ा सवाल है. बीते कुछ महीनों से इसके जवाब के तौर पर ऋषभ पंत को तैयार किया जा रहा है.

महेंद्र सिंह धोनी टेस्ट क्रिकेट तो छोड़ चुके हैं इसलिए धोनी की तुलना पंत से केवल एकदिवसीय और टी-20 में ही हो सकती है. विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट में धोनी और पंत साथ-साथ खेले.

पिछले दिनों वेस्ट इंडीज़ के ख़िलाफ़ धोनी को खेले नहीं लेकिन ऋषभ पंत भी वेस्ट इंडीज़ के ख़िलाफ़ एकदिवसीय सिरीज़ में चल नहीं सके.

हालांकि टी-20 सिरीज़ के एक मैच में उनके बल्ले से नाबाद 65 रन निकले थे. उससे पहले आठ मैचों में उनके बल्ले से 0,4,नाबाद 40,28,3,10,4 यह टेलिफोन नम्बर जैसे रन निकले.

यह रन बताते हैं कि क्रिकेट के इस सबसे छोटे प्रारूप में पंत धोनी की जगह तो क्या परछाई तक नहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption धोनी और पंत

क्यों हैं धोनी अहम?

महेंद्र सिंह धोनी की अहमियत अब भी टीम इंडिया में क्यों बनी हुई है. इस बारे में टीम के कप्तान विराट कोहली ख़ुद कई बार जवाब दे चुके हैं.

विराट कह चुके हैं कि धोनी उनकी टीम में सबसे अनुभवी खिलाड़ी हैं और अनुभव का कोई मोल नहीं है.

कोई माने या ना माने अनुभव को कोई क़ीमत नहीं होती और जब तक धोनी खेलना चाहें तब तक वह टीम के लिए महत्वपूर्ण रहेंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption धोनी अंतिम बार विश्व कप सेमीफ़ाइनल में न्यूजीलैंड के मैदान में उतरे थे.

अब जबकि भारतीय टीम का लक्ष्य अगले साल होने वाले विश्व टी-20 क्रिकेट टूर्नामेंट के लिए सही टीम का चुनाव करना है तब तक क्या कोई उनकी तरह ज़िम्मेदारी से क्रिकेट खेलता है या नहीं यह भी देखना होगा.

नहीं तो धोनी को लेकर लोग कह सकते हैं, 'ऐसे बुरे तुम भी नहीं.'

ये भी पढ़ेंः

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार