हिंदू थे इसलिए दानिश कनेरिया के साथ बुरा बर्ताव हुआ : शोएब अख़्तर

  • 27 दिसंबर 2019
शोएब अख़्तर इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान क्रिकेट के पूर्व तेज़ गेंदबाज शोएब अख़्तर ने एक बयान में कहा है कि उनके कुछ साथी खिलाड़ी टीम के ही एक अन्य खिलाड़ी दानिश कनेरिया के साथ इसलिए पक्षपातपूर्ण व्यवहार करते थे क्योंकि वो हिंदू थे.

शोएब अख़्तर ने आरोप लगाया है कि कुछ पाकिस्तानी क्रिकेटर दानिश कनेरिया के साथ खाना भी खाने से परहेज़ करते थे.

शोएब का कहना है कि ये सब इसलिए होता था क्योंकि दानिश एक हिंदू थे.

न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, शोएब अख़्तर ने पीटीवी स्पोर्ट्स पर 'गेम ऑन है' कार्यक्रम में यह बात कही. ये वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है.

जब बीबीसी ने पूर्व पाकिस्तानी लेग-स्पिनर दानिश कनेरिया से इस बाबत संपर्क किया तो उन्होंने इस बात की सीधे-सीधे पुष्टि तो नहीं की, और न ही शोएब अख़्तर के दावों को ख़ारिज किया.

कनेरिया ने कुछ संभलकर कहा कि वो शोएब अख़्तर की इस बात का सम्मान करते हैं कि वो इस मुद्दे को लेकर सामने आए हैं. कनेरिया ने कहा, " निश्चित तौर पर ऐसी कोई बात हुई होगी, जिसके कारण शोएब अख़्तर को ये कहना पड़ा है. शोएब ने बहुत ज़िम्मेदारी से ये बयान दिया है."

जब कनेरिया से बार-बार ये पूछा गया कि क्या सीधे तौर पर उनके साथ ये घटना हुई थी, जिसमें साथी खिलाड़ियों ने ड्रेसिंग रूम में धर्म के आधार पर आपको खाना लेने से रोका, या आपके साथ खाना खाना उन्हें नागवार गुजरा?

कनेरिया ने इसके जवाब में कहा कि उनके साथ सीधे तौर पर ऐसी बात नहीं हुई, लेकिन कुछ मौकों पर कई बार उन्होंने कई बार इस तरह की चीज़ महसूस की.

दानिश ने कहा कि वो शोएब अख्तर का बहुत सम्मान करते हैं, लेकिन वो ये भी नहीं चाहते कि सिर्फ़ इस बात पर पाकिस्तानी क्रिकेट टीम बदनाम हो. इस बात का ग़लत अर्थ न निकाला जाए.

कनेरिया ने कहा कि पाकिस्तान उनका मुल्क है, उनकी जन्मभूमि है और उन्होंने अपने प्रदर्शन से पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय मैच जितवाए हैं.

कनेरिया ने कहा कि उनके अच्छे प्रदर्शन में उनके कप्तानों इंज़माम उल हक़, मोहम्मद यूसुफ़ और यूनुस अहमद का अहम योगदान रहा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सोशल मीडिया पर शोएब अख़्तर का यह वीडियो वायरल हो रहा है. इस वीडियो में शोएब कहते नज़र आ रहे हैं कि हिंदू होने की वजह से दानिश कनेरिया को साथी खिलाड़ियों की उपेक्षा उठानी पड़ी.

एक भारतीय टेलिविज़न चैनल के साथ बात करते हुए कनेरिया ने कहा "मेरी ज़िदगी में ये बेहद महत्पूर्ण है कि मैं पाकिस्तान में पैदा हुआ और मैंने वहां के लिए खेलने का मौक़ा मिला."

इससे पूर्व तेज़ गेंदबाज़ रहे शोएब अख़्तर ने कहा था "मेरे करियर में मैंने टीम के दो खिलाड़ियों से उस वक़्त लड़ाई भी की जब वे क्षेत्रवाद पर बात कर रहे थे. कौन कराची से है...कौन पेशावर से...कौन पंजाब से..."

वो बताते हैं "ऐसी बातें होने लगी थीं... लेकिन क्या हुआ कि अगर कोई हिंदू है तो... वह टीम के लिए तो अच्छा खेल रहा है."

शोएब ने अपने इंटरव्यू में कहा कि वे लोग कहते थे "सर ये यहां से खाना कैसे ले रहा है."

शोएब कहते हैं "उसी हिंदू ने इंग्लैंड के ख़िलाफ़ हमें टेस्ट मैच जिताया था. वह अगर पाकिस्तान के लिये विकेट ले रहा है तो उसे खेलना चाहिए. हम कनेरिया के प्रयास के बिना श्रृंखला नहीं जीत सकते थे लेकिन बहुत लोग उसे इसका श्रेय नहीं देते."

बीजेपी कर्नाटक ने नागरिकता संशोधन क़ानून से जोड़ते हुए शोएब अख़्तर के ये वीडियो ट्वीट किया है.

दानिश कनेरिया अपने मामा अनिल दलपत के बाद पाकिस्तान की ओर से खेलने वाले दूसरे हिंदू खिलाड़ी रहे हैं.

उन्होंने पाकिस्तान के लिए 61 टेस्ट मैचों में 261 विकेट लिए हैं. इसके अलावा वो 15 एकदिवसीय मैच भी खेल चुके हैं.

उन पर स्पॉट फ़िक्सिंग का इल्ज़ाम लगा था जिसके बाद उनका अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर लगभग ख़त्म हो गया.

2012 में इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने दानिश कनेरिया पर एसेक्स काउंटी के अपने साथियों को कथित तौर पर स्पॉट फ़िक्सिंग के लिए लुभाने का आरोप लगाते हुए उन पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया था.

ये भी पढ़ें...

पिंडी बॉयज़ का ग्राउंड जिसके प्रशंसकों में क्लाइव लॉयड भी थे

पाकिस्तान: निशाने पर शोएब मलिक, शोएब अख़्तर ने कप्तान को कहा 'ब्रेनलेस'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार