शोएब अख़्तर, कनेरिया को मोहम्मद यूसुफ़ का बाउंसर

  • 28 दिसंबर 2019
मोहम्मद यूसुफ़, Mohammad Yousuf इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान क्रिकेट में अल्पसंख्यक खिलाड़ी दानिश कनेरिया के साथ टीम में हुए व्यवहार को लेकर पूर्व तेज़ गेंदबाज़ शोएब अख़्तर के बयान के बाद कई प्रतिक्रियाएं आईं. पहले जावेद मियांदाद ने कहा कि अगर पाकिस्तान का अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के साथ भेदभावपूर्ण रवैया होता तो दानिश कनेरिया देश के लिए नहीं खेल पाते.

अब ख़ुद अल्पसंख्यक समुदाय से आने वाले पूर्व बल्लेबाज़ मोहम्मद यूसुफ़ ने भी शोएब की बातों की निंदा की है. उन्होंने शुक्रवार को एक ट्वीट में अल्पसंख्यक खिलाड़ियों के साथ पाकिस्तान की क्रिकेट टीम में भेदभाव की बात की निंदा की है.

मोहम्मद यूसुफ़ ने ट्वीट किया, "मैं पाकिस्तान टीम में अल्पसंख्यक खिलाड़ियों के साथ भेदभाव के बारे में की गई टिप्पणियों की निंदा करता हूं. मैं टीम का सदस्य रहा हूं और मुझे हमेशा टीम, प्रबंधन और प्रशंसकों से बहुत प्यार और समर्थन मिला है! पाकिस्तान ज़िंदाबाद."

13 साल पाकिस्तानी टीम में रहे मोहम्मद यूसुफ़

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के एक ईसाई परिवार में जन्मे यूसुफ़ ने बाद में इस्लाम को अपना लिया था. 2004 में धर्म परिवर्तन से पहले ही यूसुफ़ ने पाकिस्तान की कप्तानी भी की.

यूसुफ़ ऐसे अकेले अल्पसंख्यक हैं जिन्होंने पाकिस्तान की कप्तानी की है. पाकिस्तान के लिए युसूफ़ ने कुल मिलाकर नौ मैचों में कप्तानी की है.

1998 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर की शुरुआत करने वाले मोहम्मद यूसुफ़ धर्म परिवर्तन से पहले यूसुफ़ योहाना के नाम से जाने जाते थे. धर्म परिवर्तन कर मुसलमान बनने के बाद उन्होंने अपना नाम मोहम्मद यूसुफ़ रखा.

13 साल के अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर (फ़रवरी 1998 से अगस्त 2010 तक) के दौरान यूसुफ़ ने कुल 90 टेस्ट मैच खेले और 7,530 रनों के साथ आज भी पाकिस्तान के सबसे अधिक टेस्ट रन बनाने वाले खिलाड़ियों में चौथे पायदान पर मौजूद हैं. टेस्ट मैचों में पाकिस्तान के लिए सबसे अधिक केवल यूनिस ख़ान (10099), जावेद मियांदाद (8832) और इंज़माम उल-हक़ (8830) ने टेस्ट रन बनाए हैं.

इतना ही नहीं वनडे मैचों में भी युसूफ़ पाकिस्तान के दूसरे सबसे सफल बल्लेबाज़ रहे. उन्होंने 288 मैचों में 9720 रन बनाए. वनडे में उनसे अधिक केवल इंज़माम उल-हक़ ने पाकिस्तान के लिए (11739) रन जोड़े हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption शोएब अख़्तर

यूसुफ़ ने क्यों दिया यह बयान?

अल्पसंख्यकों के साथ पाकिस्तान की टीम में बर्ताव को लेकर यूसुफ़ का शुक्रवार को यह बयान एक दिन पहले शोएब अख़्तर के उस बयान के बाद आया जिसमें उन्होंने (शोएब) कहा था कि उनके कुछ साथी खिलाड़ी टीम के ही एक अन्य खिलाड़ी दानिश कनेरिया के साथ इसलिए पक्षपातपूर्ण व्यवहार करते थे क्योंकि वो हिंदू थे.

शोएब अख़्तर ने ये भी कहा कि कुछ पाकिस्तानी क्रिकेटर दानिश कनेरिया के साथ खाना भी खाने से परहेज़ करते थे.

न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, शोएब अख़्तर ने पीटीवी स्पोर्ट्स पर 'गेम ऑन है' कार्यक्रम में यह बात कही.

जब बीबीसी ने पूर्व पाकिस्तानी लेग-स्पिनर दानिश कनेरिया से इस बाबत संपर्क किया तो उन्होंने इस बात की सीधे-सीधे पुष्टि तो नहीं की, और न ही शोएब अख़्तर के दावों को ख़ारिज किया.

बाद में उन्होंने ट्वीट के ज़रिए एक बयान साझा कर अपनी प्रतिक्रिया दी.

उन्होंने कहा, "मैंने दिग्गज तेज़ गेंदबाज शोएब अख़्तर का इंटरव्यू टीवी पर देखा. मैं व्यक्तिगत रूप से उनका धन्यवाद अदा करना चाहता हूं कि उन्होंने दुनिया को सच बताया. इसी के साथ मैं उन सब लोगों का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं जिन्होंने एक क्रिकेटर के रूप में मेरी मदद की. मैं मीडिया सहित क्रिकेट प्रशासकों और पाकिस्तानी नागरिकों का मुझे सपॉर्ट करने के लिए शुक्रिया अदा करना चाहता हूं."

कनेरिया कहते हैं, "समाज में कुछ तत्व थे जिन्होंने विरोध किया. हालांकि, यह विरोध टिक नहीं सका क्योंकि लोग मुझसे प्यार करते थे. मैं हमेशा अपने जीवन में सकारात्मक रहा और इस तरह के विरोध को नज़रअंदाज़ किया."

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption दानिश कनेरिया

फ़िक्सिंग के आरोप में प्रतिबंधित भी किए गए कनेरिया

फ़िक्सिंग के आरोप पर 2012 में कनेरिया को क्रिकेट से प्रतिबंधित किया गया था.

39 वर्षीय कनेरिया कहते हैं कि वो उस मसले को सुलझाने के लिए पाकिस्तान में कई लोगों के पास गए, लेकिन उनकी सभी कोशिशें बेकार गईं.

कनेरिया ने अपने ट्विटर हैंडल से शोएब अख़्तर के बयान पर प्रतिक्रिया देने के साथ ही इस बाबत प्रधानमंत्री और पूर्व क्रिकेटर इमरान ख़ान से भी गुहार लगाई.

उन्होंने लिखा, "मेरी हालत बहुत ख़राब है और मैंने पाकिस्तान और दुनियाभर में कई लोगों से मदद की गुहार लगाई है लेकिन अभी तक मुझे कोई मदद नहीं मिली है. हालांकि पाकिस्तान में कई क्रिकेटरों की समस्याओं को सुलझाया गया है. मैंने एक क्रिकेटर के नाते पाकिस्तान के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया और मुझे इसका गर्व है. मुझे लगता है कि इस वक़्त पाकिस्तान के लोग मेरी मदद करेंगे."

वो लिखते हैं कि मुझे इस झमेले से बाहर निकलने के लिए माननीय प्रधानमंत्री इमरान ख़ान, पाकिस्तान और अन्य देशों के क्रिकेट प्रशासकों समेत पाकिस्तान के सभी दिग्गज खिलाड़ियों का समर्थन चाहिए.

"कृपया आगे बढ़कर मेरी मदद करें. मैं व्यक्तिगत तौर पर सभी से निवेदन करता हूं कि इस मसले को राजनीतिक रंग न दें."

कनेरिया क़रीब 10 वर्षों तक पाकिस्तान के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेले. इस दौरान 61 मैचों लिए 261 टेस्ट विकेटों की बदौलत आज भी कनेरिया, वसीम अकरम (414), वक़ार यूनिस (373) और इमरान ख़ान (362) के बाद पाकिस्तान के चौथे सबसे सफल टेस्ट गेंदबाज़ हैं.

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार