INDvsNZ: न्यूज़ीलैंड में क्रिकेट मैच देखना लाजवाब क्यों

  • 23 फरवरी 2020
Cheteshwar Pujara, चेतेश्वर पुजारा, INDvsNZ, India vs New Zealand, भारत, न्यूज़ीलैंड, क्रिकेट, टेस्ट मैच, वेलिंग्टन, टेस्ट क्रिकेट इमेज कॉपीरइट VIMAL KUMAR/BBC
Image caption वेलिंग्टन टेस्ट के दौरान भारत के बल्लेबाज़ चेतेश्वर पुजारा ऑटोग्राफ़ देते हुए

सिर्फ ग्यारह हज़ार छह सौ दर्शकों की क्षमता वाला मैदान है वेलिंगटन का बेसिन रिजर्व. लेकिन, सबसे मज़ेदार बात ये है कि ये शहर के बिल्कुल बीच में है.

क्रिकेट फैंस को मैदान तक पहुंचने के लिए किसी भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है.

इमेज कॉपीरइट VIMAL KUMAR/BBC

शनिवार और रविवार को जो दर्शक आए उन्होंने क्रिकेट का लुत्फ उठाने के साथ-साथ अपना वक़्त ऐसे बिताया जैसे मानो वो छुट्टियां बिताने के लिए किसी पयर्टन वाली जगह में गए हैं. क्या भारत में ऐसा नहीं हो सकता है?

इमेज कॉपीरइट VIMAL KUMAR/BBC

स्टेडियम में पुलिस की मौजूदगी कितनी अलग?

हमारे यहां क्रिकेट का मतलब होता है सिर्फ़ खेल देखना और शोर मचाना लेकिन यहां के फैंस खेल देखने के अलावा सामाजिक मेलजोल के लिए भी टेस्ट मैच देखने पहुंचते हैं.

इमेज कॉपीरइट VIMAL KUMAR/BBC

हमारे मैदानों में पुलिस की मौजूदगी आपको या तो डराएगी या परेशान करेगी लेकिन यहां की बात बिल्कुल जुदा है.

एक तो आपको मैदान के आसपास पुलिसकर्मी दिखेंगे ही नहीं और कभी दिख गए तो उनका रवैया इतना दोस्ताना रहेगा कि आप यक़ीन नहीं करेंगे कि आप पुलिस वाले से बातचीत कर रहे हैं!

इमेज कॉपीरइट VIMAL KUMAR/BBC

मैदान पर दर्शकों का बहुत ख्याल रखा जाता है. स्टेडियम के अधिकारी समय-समय पर दर्शकों को सनक्रीम भी देते दिखे ताकि उनकी त्वचा को किसी तरह की परेशानी न झेलनी पड़ी.

इमेज कॉपीरइट VIMAL KUMAR/BBC

बीसीसीआई के लिए सीख

ये इतना संवेदनशील मुल्क है कि आम लोगों के अलावा अगर किसी को थोड़ी सी भी शारीरिक परेशानी हो तो उनके लिए बैठने का ख़ास इंतज़ाम किया जाता है.

यहां तक कि मैनें ये भी देखा कि एक नेत्रहीन फैन जब मैदान में मैच देखने आया तो उनकी मदद के लिए ख़ास वॉलेन्टियर को उनके साथ भेजा गया. ये बातें बीसीसीआई निश्चित तौर पर न्यूज़ीलैंड क्रिकेट से सीख सकती है.

इमेज कॉपीरइट VIMAL KUMAR/BBC

बच्चों के लिए ये टेस्ट मैच मानो किसी ज़बरदस्त मनोरंजन से कम नहीं. मैदान के हर हिस्से में 2-4 बच्चे आपको क्रिकेट खेलते दिख जाएंगे. थोड़ी देर मैच देखेंगे और फिर किसी खिलाड़ी विशेष की शैली की वहीं नक़ल करके वो आपको अपना अभ्यास मैच खेलते दिखाई पड़ जाएंगे.

इमेज कॉपीरइट VIMAL KUMAR/BBC

भारतीय फैंस क्या कर रहे?

भारतीय फैंस के लिए सबसे अच्छी बात है खिलाड़ियों तक उनकी पहुंच. इस मैदान पर बाउंड्री लाइन पर खड़ें होकर भारतीय समर्थक कभी चेतेश्वर पुजारा तो कभी मयंक अग्रवाल का ऑटोग्राफ़ इत्मिनान से लेते दिखे.

इतना ही नहीं थोड़ी सी भी ऊंची आवाज़ में वो अपनी बात को कोहली और उनके साथियों तक पहुंचाते दिखे.

इमेज कॉपीरइट VIMAL KUMAR/BBC

क़रीब 10 साल का एक बच्चा लगातार हाथ में तिरंगे को लेकर कभी कोहली तो कभी अश्विन का अभिवादन करता दिखा.

इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया से भी एक ख़ास जत्था इस मैच में भारतीय टीम की हौसला अफज़ाई के लिए पहुंचा है. मशहूर भारत आर्मी की तरह अब 'फैंस इंडिया' की ये नई टीम पूरे दिन ढोल बजाती है, झूमती है, गाने गाती है और कीवी दर्शकों का भी मनोरंजन करती है.

इमेज कॉपीरइट VIMAL KUMAR/BBC

100 नॉट आउट

बहरहाल, स्थानीय दर्शक भी भारतीयों से कम नहीं है. भले ही वो ऊंची आवाज़ में शोर नहीं करते लेकिन आपका ध्यान खींचने के लिए उनका भी अपना निराला अंदाज़ है.

अब देखिए न, अपने मशहूर बल्लेबाज़ रॉस टेलर के सम्मान में क़रीब दो दर्जन दर्शक एक ख़ास किस्म की टी-शर्ट पहनकर आए हैं. 100 NOT OUT. इनका कहना है कि वो टेलर के लिए ख़ास तौर पर अलग-अलग शहरों से आए हैं.

कुल मिलाकर देखी जाए तो मैं ये ज़रूर कहना चाहूंगा कि अगर टेस्ट क्रिकेट का लुत्फ उठाना है तो न्यूज़ीलैंड में आएं.

इमेज कॉपीरइट VIMAL KUMAR/BBC

यहां पर ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड की तरह आपको न भीड़ दिखेगी और न ही आपको उप-महाद्वीप में होने वाली परिचित मुश्किलें ही होंगी.

भारत की हालत टेस्ट में भले ही नाज़ुक है लेकिन भारतीय दर्शकों के लिए मैच देखने का अनुभव बेहद शानदार रहा है.

ये भी पढ़ें:

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
दुती चंद: BBC Indian Sportswoman of the Year की नॉमिनी

बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार