कोरोना वायरस का साया ओलंपिक पर भी मंडराने लगा है

  • सूर्यांशी पांडे्य
  • बीबीसी संवाददाता
टोक्यो ओलंपिक

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

टोक्यो ओलंपिक 24 जुलाई से शुरू होकर 9 अगस्त 2020 तक चलना है

12 मार्च को ओलंपिक-2020 की मशाल ग्रीस के ओलंपिया में जलाई जाएगी जो बाद में जापान तक का सफ़र तय करेगी.

मशाल के जलते ही इस साल के ओलंपिक का आग़ाज़ होगा जो 24 जुलाई से शुरू होकर 9 अगस्त 2020 तक चलना है.

लेकिन अब तक 50 से अधिक देशों में फैल चुके कोरोना वायरस ने इस आयोजन के सामने एक बड़ी चुनौती खड़ी कर दी है.

जापान की संसद में ओलंपिक को लेकर उठे सवाल पर जवाब देते हुए वहाँ के ओलंपिक मंत्री, सीको हाशीमोटो ने कहा कि टोक्यो ओलंपिक खेल कोरोना वायरस के कारण साल के अंत तक के लिए स्थगित हो सकते हैं.

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष थॉमस बैच

हालांकि 3 मार्च को स्विट्ज़रलैंड में हुई एक बैठक में अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के प्रवक्ता मार्क एडम्स ने कहा कि ओलंपिक अपने तय समय यानी कि 24 जुलाई को ही शुरू होगा.

वहीं अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष थॉमस बैच भी ऐसा ही आश्वासन देते नज़र आए.

लेकिन जिस तेज़ी से कोरोना वायरस विश्वभर में फैल रहा है, उसे देखते हुए ओलंपिक खेल कुछ आंशकाओं के बीच फंसते नज़र आ रहे हैं.

भारतीय कोच और खिलाड़ियों के बीच भी इस आयोजन को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं.

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

चीन के वुहान में रद्द हुआ बॉक्सिंग एशिया/ओशियाना ओलंपिक क्वालिफ़ायिंग मुक़ाबला अब जॉर्डन की राजधानी अम्मान में खेला जा रहा है

रद्द हो रहे हैं ओलंपिक क्वालिफ़ायर

बॉक्सिंग एशिया/ओशियाना ओलंपिक क्वालिफ़ायिंग मुक़ाबला 3 फ़रवरी से 14 फ़रवरी 2020 तक चीन के वुहान शहर में होने वाला था, लेकिन अब यह मुक़ाबला जॉर्डन की राजधानी अम्मान में खेला जा रहा है. 11 मार्च तक यह मुक़ाबला खेला जाएगा.

बैडमिंटन के ओलंपिक क्वालिफ़ायर मुक़ाबलों में से गर्मन ओपन, पॉलिश ओपन, पुर्तगाली अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप रद्द हो चुके हैं.

ये सभी मुक़ाबले मार्च के महीने में होने थे. रद्द होने के साथ यह मुक़ाबले ओलंपिक क्वालिफ़ायर की सूची से भी बाहर हो गए हैं.

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

वियतनाम में 24-29 मार्च तक होने वाला ओलंपिक क्वालिफ़ायर मुक़ाबला भी स्थगित

वियतनाम में 24-29 मार्च तक होने वाला ओलंपिक क्वालिफ़ायर मुक़ाबला भी स्थगित कर दिया गया है.

शूटिंग रेंज पर भी यह वायरस निशाना नहीं चूक रहा. 4-13 मार्च तक साइप्रस में चलने वाले शूटिंग विश्वकप में भारत ने अपने खिलाड़ियों को नहीं भेजा.

तो भारत की राजधानी दिल्ली में 15 मार्च से शुरू होने वाले शूटिंग विश्वकप से अबतक क़रीब 6 देश अपना नाम वापस ले चुके हैं.

27-29 मार्च तक चीन के शिआन शहर में एशियन ओलंपिक रेसलिंग क्वालिफायिंग मुक़ाबला होना था लेकिन वहाँ रद्द कर, इस मुक़ाबले की मेज़बानी किर्गिस्तान को दी गई.

लेकिन किर्गिस्तान सरकार ने मुक़ाबला आयोजित करने से मना कर दिया. अब कहाँ होगा ये मुक़ाबला, इसपर प्रश्न चिन्ह लगा हुआ है.

'साल 2016 से की 2020 ओलंपिक की तैयारी'

जब हम खिलाड़ियों का मन टटोलने निकले तो भारोत्तोलन में भारत की ओलंपिक में प्रबल दावेदार मीराबाई चानू के कोच, विजय शर्मा से हमारी बात हुई.

उन्होंने बताया कि एशियन वेटलिफ़्टिंग चैंपियनशिप जो कज़ाकस्तान में होनी थी, अब 16-26 अप्रैल तक उज़्बेकिस्तान में खेली जाएगी.

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

2016 से मीराबाई चानू कर रही हैं टोक्यो ओलंपिक की तैयारी.

उन्होंने कहा कि अभी भी संशय बना हुआ है कि उज़्बेकिस्तान में होगा भी या नहीं. विजय शर्मा 2016 से ही मीराबाई चानू और अन्य खिलाड़ियों को ओलंपिक के लिए तैयार कर रहे हैं और ऐसी ख़बरें आने से उनका मानना है कि खिलाड़ियों का मनोबल कम होता है.

हालांकि वह फिर भी खिलाड़ियों को ऐसी ख़बरों से दूर रख रहे हैं और उनका हौसला बढ़ाते रहते हैं. विजय शर्मा की मानें तो उनको विश्वास है कि चूंकि ओलंपिक जुलाई के महीने में होगा तो तबतक इस वायरस का प्रकोप ख़त्म हो जाएगा और ओलंपिक आयोजित हो जाएगा.

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

मात्र 16 साल की उम्र में मनू भाकर ने 2018 का राष्ट्रमंडल खेल में भाग लिया था और गोल्ड जीता था.

शूटिंग की दुनिया में मनू भाकर अपना सिक्का जमा चुकी हैं और उनके पिता, राम किशन का कहना है कि स्वास्थ्य पहली प्रार्थमिकता है.

वह कहते हैं कि कौन चाहेगा कि ओलंपिक रद्द हो या स्थगित हो लेकिन अगर विश्व के कई देश कोरोना वायरस के संक्रमण से ग्रसित हैं तो पहले प्राथमिकता स्वास्थ्य को ही दी जाएगी.

चीनी खिलाड़ियों को हो रही हैं परेशानी

वहीं चीन जो ओलंपिक खेलों में पदक तालिका के मामले में अमरिका जैसे देशों को लोहा देता नज़र आता है, इस साल के ओलंपिक क्वालीफ़ायर में भाग लेने के लिए जूझ रहा है.

कुछ खेलों की बात करते हुए वरिष्ठ खेल पत्रकार राजेश राय कहते हैं कि दिल्ली में 18-23 फ़रवरी तक आयोजित हुए एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप में 40 दल के चीनी खिलाड़ियों को भारत ने वीज़ा प्रदान नहीं किया था.

राजेश राय के मुताबिक उन सभी खिलाड़ियों का कोरोना वायरस टेस्ट नेगेटिव था लेकिन फिर भी उनको वीज़ा नहीं मिला.

वह यह भी बताते हैं कि बैडमिंटन के खेल के लिए चीन के खिलाड़ी यूरोप में ट्रेनिंग ले रहे हैं. कोरोना वायरस के फैलने से पहले ही सभी खिलाड़ी यूरोप में ट्रेनिंग के लिए पहुंच गए थे.

खिलाड़ी कैसे करेंगे क्वालिफ़ाई?

लेकिन जब ओलंपिक क्वालीफ़ायर मुक़ाबले ही ख़तरे में हैं तो ऐसे में ओलंपिक कैसे खेला जाएगा.

वरिष्ठ खेल पत्रकार राजेश राय का कहना है कि जिस तरह से कई खेलों के क्वालीफ़ायर मुक़ाबले अधर में पड़े हैं, क्वालीफ़ाई करना अपने आप में बड़ी चुनौती बन गई है.

कुश्ती की बात करें तो अबतक भारत के केवल 4 खिलाड़ी ही ओलंपिक के लिए क्वालीफ़ाई करे हैं-रवि दहिया, बजरंग पुनिया, दीपक पुनिया और विनेश फोगाट.

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

साइना नेहवाल अगर क्वालीफ़ाई करती हैं तो यह इनका चौथा ओलंपिक होगा.

वहीं बैडमिंटन की बात करें तो बैडमिंटन में एशियन चैंपियनशिप में भारत को पहला पदक(स्वर्ण) दिलाने वाले दिनेश खन्ना बताते हैं कि ओलंपिक में हर देश से सिर्फ़ दो-दो खिलाड़ी बैडमिंटन के महिला एकल और पुरुष एकल मुक़ाबलों में हिस्सा ले सकते हैं.

वह यह भी बताते हैं कि जिनकी बीडब्ल्यूएफ विश्व रैंकिंग टॉप 16 में होगी उनमें से ही यह दो खिलाड़ी चुने जाएंगे.

ऐसे में महिला एकल में पीवी सिंधू विश्व रैंकिंग में 7वें नंबर पर हैं लेकिन साइना नेहवाल 22वें स्थान पर हैं.

अगर साइना नेहवाल को अपना चौथा ओलंपिक खेलना है तो उनको बैडमिंटन के ओलंपिक क्वालीफ़ायर मुक़ाबले खेलने होंगे. रद्द होते मुक़ाबले चिंता का विषय है.

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

महिला एकल में पीवी सिंधू विश्व रैंकिंग में 7वें नंबर पर हैं लेकिन साइना नेहवाल 22वें स्थान पर हैं.

साइना नेहवाल ने बीडब्ल्यूएफ (विश्व बैडमिंटन संघ) से ओलंपिक क्वालीफिकेशन की तारीख को बढ़ाने का अनुरोध किया.

जवाब में बीडब्ल्यूएफ ने कहा कि तारीख नहीं बढ़ेगी क्योंकि अभी सिंगापुर ओपन, ऑल इंग्लैंड ओपन और स्विस ओपन जैसे मुक़ाबले रद्द नहीं हुए हैं तो खिलाड़ियों के पास पर्याप्त मौक़ें हैं.

वरिष्ठ पत्रकार राजेश राय कहते हैं कि रद्द होते क्वालीफ़ायर मुक़ाबलों से खिलाड़ियों पर मानसिक तौर पर असर तो पड़ेगा लेकिन और कोई चारा भी नहीं है.

वह कहते हैं कि ओलंपिक को नज़र में रख कर साल का पूरा खेल का कैलेंडर बना है जिसके कारण ओलंपिक के महीने में कोई भी बड़ी प्रतियोगिता नहीं रखी जाती.

अगर यह नहीं आयोजित हुआ तो ऐसा पहली बार होगा कि एक वायरस के कारण ओलंपिक रद्द होगा.

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

2003 में महिला फ़ीफ़ा विश्व कप चीन से हटाकर अमरिका में आयोजित किया गया था. जर्मनी ने यह मुक़ाबला जीता था.

पहले कभी इस तरह रद्द हुए खेल?

साल 2003 में सार्स वायरस के कारण महिला फ़ीफा विश्वकप चीन से हटाकर अमरिका में आयोजित किया गया था जबकि बैडमिंटन विश्व चैंपियनशिप यूनाइटेड किंगडम ने रद्द कर दिया था.

भारतीय ओलंपिक संघ के उपाध्यक्ष कुलदीप वत्स से जब हमने पूछा कि भारत कोरोना वायरस कि इस चुनौती को किस तरह देख रहा है तो उन्होंने कहा कि भारत ओलंपिक की तैयारियों में पूरी तरह से लगा हुआ है, खिलाड़ियों के लिए उच्च स्तर के कैंप लगाए जा रहे हैं.

उन्होंने कहा कि जब तक औपचारिक तौर पर ओलंपिक की तारीख़ पर कोई कार्रवाई नहीं होगी, भारत अपनी तैयारी दुरुस्त रखेगा.

1916 में पहले विश्व युद्ध के चलते ओलंपिक रद्द हुआ था, फिर 1940, 1944 का ओलंपिक दूसरे विश्व युद्ध के चलते रद्द हुआ. क्या कोरोना वायरस से ग्रसित 70 से भी ज़्यादा देश एक युद्ध ही लड़ रहे हैं?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)