शतरंज ओलंपियाड में भारत और रूस संयुक्त रूप से विजेता

शतरंज

शतरंज ओलंपियाड में भारत और रूस को संयुक्त रूप से विजेता घोषित किया गया है.

कोरोना महामारी को देखते हुए इंटरनेशनल चेस फ़ेडरेशन ने पहली बार ऑनलाइन चेस ओलंपियाड करवाया था.

इंटरनेशनल चेस फ़ेडरेशन (FIDE) के अध्यक्ष अर्कडी ड्वोर्कोविच ने दोनों टीमों को स्वर्ण पदक देने का फ़ैसला किया.

आपको ये जानकर हैरानी होगी कि इंटरनेशनल चेस फ़ेडरेशन ने पहले भारत की हार घोषित कर दी थी. लेकिन एक घंटे बाद अपना फ़ैसला बदलते हुए रूस के साथ-साथ भारत को भी विजेता घोषित कर दिया.

हारकर भी कैसे जीता भारत

दरअसल, इंटरनेशनल चेस फ़ेडरेशन ने बताया कि भारत और रूस के बीच चेस ओलंपियाड के फ़ाइनल मैच के दौरान दो भारतीय खिलाड़ियों निहाल सरीन और दिव्या देशमुख का खेल से कनेक्शन टूट गया था और इससे उनके वक़्त का नुक़सान हुआ.

जिसे लेकर भारत ने आधिकारिक अपील की और मामले की जांच की गई. कुछ वक़्त बाद फ़ैसला पलटते हुए दोनों टीमों को विजेता घोषित कर दिया गया.

ईएसपीएन की पत्रकार सुसान निनान ने ट्वीट किया, "बिल्कुल सर्वर क्रैश हुआ था. उसी वक़्त हम सब भी लॉग आउट हो गए थे."

भारत की ये जीत इसलिए भी ख़ास है क्योंकि वो पहली बार इस टूर्नामेंट के फ़ाइनल में पहुंचा था.

दिग्गज शतरंज खिलाड़ी विश्वनाथन आनंद ने इस जीत पर ट्वीट कर खुशी ज़ाहिर की. उन्होंने लिखा, "हम चैंपियन हैं. बधाई रूस."

इंडियन चेस ग्रैंडमास्टर विदित गुजराथी ने भी ट्वीट किया, "हम चैंपियन हैं. बहुत खुश हूं. रूस को भी बधाई."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)