साइमंड्स पर एक और गाज गिरी

  • 25 जून 2009

ऑस्ट्रेलिया के टीम प्रबंधन ने 'विवादित' ऑलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स को ट्वेन्टी-20 विश्व कप से बाहर करने के बाद उनसे अनुबंध का प्रस्ताव भी वापस ले लिया है.

Image caption साइमंड्स को टी-20 विश्व कप की टीम से भी हटाया गया था

34 वर्षीय साइमंड्स की जगह अनुबंधित खिलाडियों की सूची में तेज़ गेंदबाज़ शॉन टेट को शामिल किया गया है.

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के प्रबंधक (ऑपरेशन) माइकल ब्राउन ने कहा, "अगर वे घरेलू क्रिकेट खेलना चाहते हैं तो खेलें, इसके लिए हम लोगों का उन्हें पूरा समर्थन है."

ट्वेन्टी 20 विश्व कप शुरू होने से ठीक पहले साइमंड्स को अनुशासनहीनता के कारण टीम से बाहर कर दिया गया था.

वैसे उनकी ग़ैर मौजूदगी में ऑस्ट्रेलिया की टीम विश्व कप के सुपर-8 तक भी नहीं पहुँच पाई और ग्रुप मुक़ाबले के बाद ही प्रतियोगिता से बाहर हो गई.

कार्रवाई

ख़बरों के मुताबिक़ साइमंड्स टीम प्रबंधन को बिना बताए रग्बी में क्वींसलैंड की जीत की ख़ुशी मनाने के लिए बार में चले गए थे.

पहले भी साइमंड्स कई तरह के विवादों में रहे हैं और कई बार अनुशासनहीनता के कारण उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई की जा चुकी है.

पिछले साल अगस्त में भी बांग्लादेश के ख़िलाफ़ सिरीज़ के दौरान साइमंड्स एक आवश्यक टीम बैठक में शामिल नहीं हुए थे और उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया था.

इस साल जनवरी में भी क्रिकेट ऑस्ट्रलिया ने उन पर न्यूज़ीलैंड के खिलाड़ी मैकुलम पर टिप्पणी करने के मामले में जुर्माना किया था.

साइमंड्स ने अपने प्रांत क्वींसलैंड के क्रिकेट अधिकारियों से अनुरोध किया है कि वो उन्हें अगले घरेलू क्रिकेट सत्र के लिए अनुबंधित खिलाडियों की सूची में शामिल नहीं करें.

क्वींसलैंड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ग्राहम डिक्सन का कहना है, "साइमंड्स ने हमसे सीधी बात की और कहा कि उन्हें अनुबंध नहीं दिया जाए."

उन्होंने कहा, "साइमंड्स जानते हैं कि यहाँ उनके लिए दरवाज़े खुले हैं और हम लोग उन्हें टीम में शामिल करने के लिए तैयार हैं."

उन्होंने कहा कि साइमंड्स विश्वस्तरीय खिलाड़ी हैं और अगर वे खेलना चाहते हैं तो ऑस्ट्रलियाई क्रिकेट उन्हें क्वींसलैंड के लिए खेलते देखना चाहेगा.