मैनचेस्टर यूनाइटेड और एयरटेल में क़रार

इंग्लैंड के सबसे चर्चित फ़ुटबॉल क्लब ने भारत के सबसे बड़े मोबाइल फ़ोन नेटवर्क एयरटेल के साथ एक करोड़ पाउंड यानी क़रीब 74 करोड़ रुपए में प्रायोजन का क़रार साइन किया है.

Image caption एयरटेल भारत का सबसे बड़ा मोबाइल फ़ोन नेटवर्क है

समझौते के तहत एयरटेल के नौ करोड़ 20 लाख उपभोक्ता मैनचेस्टर यूनाइटेड से जुड़ी चीज़ें अपने मोबाइल फ़ोन पर देख सकते हैं. इनमें मैच और इंटरव्यू शामिल हैं.

इस समझौते के बाद मैनचेस्टर यूनाइटेड ने कहा है कि वह भारत में बिज़नेस करने के बढ़ते अवसरों को पहचानता है.

मैनचेस्टर यूनाइडेट क्लब के नए शर्ट प्रायोजक की भी तलाश कर रहा है. क्योंकि अमरीकी निवेश कंपनी एआईजी ने स्पष्ट कर दिया है कि अगले साल अनुबंध ख़त्म होने के बाद वो फिर से करार नहीं करेगा.

ख़राब हालत

अमरीकी निवेश कंपनी एआईजी का हालत ख़राब है. सरकार से मिलने वाली वित्तीय सहायता के लिए ही एआईजी ने मैनचेस्टर यूनाइटेड से क़रार ख़त्म करने का ऐलान किया.

भारतीय कंपनी एयरटेल का गठन वर्ष 1985 में हुआ था. पिछले साल कंपनी का सालाना राजस्व चार अरब पाउंड था.

नई दिल्ली स्थित इस कंपनी का भारतीय मोबाइल बाज़ार के 25 प्रतिशत हिस्से पर नियंत्रण है. ये कंपनी भारत के अलावा श्रीलंका और सेसेल्स में भी काम करती है.

एयरटेल के साथ समझौते के बाद मैनचेस्टर यूनाइटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डेविड गिल ने कहा, "एयरटेल के साथ ये साझेदारी मैनचेस्टर यूनाइटेड के अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बढ़ते रुतबे का प्रमाण है."

मैनचेस्टर यूनाइटेड के मैनेजर सर इलेक्स फ़र्ग्यूसन ने कहा कि भारत में फ़ुटबॉल के प्रति रुचि तेज़ी से बढ़ी है.

संबंधित समाचार

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है