गिली को सचिन की खरी खोटी

  • 29 जून 2009
सचिन तेंदुलकर
Image caption सचिन ने गिलक्रिस्ट पर बेकार की बातें करने का आरोप लगाया है

सचिन तेंदुलकर ने पूर्व ऑस्ट्रेलियाई उप कप्तान एडम गिलक्रिस्ट के उस आरोप को निराधार बताया है कि वो मैच हारने के बाद प्रतिद्वंद्वियों से हाथ नहीं मिलाते.

ग़ौरतलब है कि गिलक्रिस्ट ने अपनी आत्मकथा में सचिन की खेल भावना पर सवाल उठाते हुए उन पर भज्जी-साइमंड्स विवाद में झूठी गवाही देने का आरोप लगाया है. उन्होंने अपनी किताब में लिखा है कि सचिन हारने के बाद विरोधी टीम के खिलाड़ियों से हाथ तक नहीं मिलाते हैं. भारतीय टेलीविज़न चैनल एनडीटीवी के साथ बातचीत में सचिन ने इन आरोपों को वाहियात बताया. उनका कहना था, "मुझे तो ये भी समझ नहीं आ रहा है कि मैं किस तरह प्रतिक्रिया दूँ. जो व्यक्ति मुझे पूरी तरह जानता भी नहीं है, उसने मेरे ख़िलाफ़ ये बातें कही?" मास्टर ब्लास्टर का कहना था, "मैं भयावह सपने में भी इस तरह के आरोपों के बारे में नहीं सोच सकता था. इसे मैं बेकार की बातें मान कर चल रहा हूँ." सचिन ने कहा कि विवादास्पद सिडनी टेस्ट के बाद ऑस्ट्रेलियाइयों से हाथ मिलाने वाले वे पहले भारतीय खिलाड़ी थे जो वो शायद भूल गए. उनका कहना था, "हाँ ये ज़रूर है वो काफी कठिन मैच था. बहुत संघर्ष के बाद भी हम हार गए थे." सचिन ने स्वीकार किया कि गिली ने फोन करके उन्हें अपनी बातें समझाई. हालाँकि वो इन आरोपों से तनिक भी विचलित नहीं दिखे. सचिन का कहना था, "मैं सिडनी टेस्ट या इस प्रकरण को ख़त्म मान कर चल रहा हूँ."

संबंधित समाचार