'तेंदुलकर टी 20 के लिए फ़िट नहीं'

आस्ट्रेलिया और कोलकाता नाइट राइडर्स क्रिकेट टीम के पूर्व कोच जॉन बुकानन ने कहा है कि मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ट्वेंटी20 क्रिकेट के लिए फ़िट नहीं हैं.

Image caption बुकनन की नई किताब ‘द फ़्यूचर ऑफ़ क्रिकेट : द राइज ऑफ़ ट्वेंटी' हाल में ही प्रकाशित हुई है

बुकानन को सचिन के एक दिवसीय और टेस्ट क्रिकेट का बेहतरीन खिलाड़ी होने में कोई शक नहीं है.

बुकानन ने यह बात अपनी नई किताब ‘द फ़्यूचर ऑफ़ क्रिकेट: द राइज ऑफ़ ट्वेंटी 20’ में कही है. इसमें उन्होंने सचिन तेंदुलकर और सुनील गावस्कर के साथ-साथ कई युवा खिलाड़ियों पर भी टिप्पणी की है.

उन्होंने लिखा है कि “ तेंदुलकर की तारीफ़ होती है, यह ठीक भी है क्योंकि वे क्रिकेट के इतिहास के एक बेहतरीन खिलाड़ी है लेकिन करियर के इस पड़ाव पर वे ट्वेंटी 20 क्रिकेट के लिए उपयुक्त नहीं हैं.”

उन्होंने कहा है, “जिस क्रम पर वे बल्लेबाज़ी करने आते हैं, वे या तो ओपनर के रूप में या तीसरे नंबर पर आते हैं, ट्वेंटी 20 क्रिकेट में इस जगह फ़िटनेस और कौशल की ज़रूरत होती है जो कि उनके पास है. इसके अलावा शक्ति और गेंदबाज़ पर हावी होने की भी ज़रूरत होती है. लेकिन करियर के इस दौर में ये गुण मैं सचिन में नहीं देख रहा हूँ.”

गावस्कर भी निशाने पर

बुकानन ने अपनी किताब में लिटिल मास्टर के नाम से मशहूर सुनील गावस्कर और भारतीय में टीम के महत्वपूर्ण स्तंभ युवराज सिंह को भी नहीं बख़्शा है.

गावस्कर को उन्होंने पूर्वाग्रहों से ग्रस्त बताया है तो युवराज सिंह की भी आलोचना की है.

उन्होंने अपुनी किताब में हरभजन सिंह, केविन पीटरसन और शोएब अख़्तर की भी आलोचना की है लेकिन आश्चर्यजनक रूप से महाराज यानी कि सौरव गांगुली की ओर अंगुली नहीं उठाई है.

‘द फ़्यूचर ऑफ़ क्रिकेट: द राइज ऑफ़ ट्वेंटी 20’ के एक अध्याय में बुकानन ने गांगुली की तुलना आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी इयान चैपल से की है.

अपनी किताब में बुकानन ने आईपीएल 2009 की उपविजेता टीम बैंगलोर रॉयल चैलेंजर्स के मालिक और उद्योगपति विजय माल्या पर अपने खिलाड़ियों और कोच को स्वतंत्रता न देने का आरोप लगाया है.

विजय माल्या के बारे में उन्होंने लिखा है, “ विजय माल्या अपने खिलाड़ियों को खेलने नहीं देते हैं और कोच को प्रशिक्षण नहीं देने देते हैं, अगर ऐसा ही करना था तो उन्होंने उन्हें ख़रीदा ही क्यों था.”

संबंधित समाचार