सात साल बाद मिला मौक़ा

  • 11 जुलाई 2009

वर्ष 2003 में अमरीका के नेतृत्व में हुए हमले के बाद इराक़ ने अपनी ज़मीन पर पहला फ़ुटबॉल मैच खेला है.

Image caption इराक़ की टीम सात साल बाद अपनी ज़मीन पर मैच खेली

उत्तरी इराक़ के अरबिल शहर में शुक्रवार रात हुए इस मैच में इराक़ की टीम ने फ़लस्तीनी राष्ट्रीय टीम को 3-0 से हरा दिया.

इस दोस्ताना मैच को देखने के लिए अरबिल शहर का स्टेडियम खचाखच भरा हुआ था. लेकिन सुरक्षा व्यवस्था भी काफ़ी कड़ी थी.

मैच के दौरान स्टेडियम में मौजूद बीबीसी संवाददाता गैब्रिएल गेटहाउस ने बताया है कि लोग आराम से मैच देख रहे हैं.

वर्ष 2007 में इराक़ की टीम ने एशिया कप फ़ुटबॉल जीता था लेकिन उसके सभी मैच बाहर हुए थे.

चैम्पियन

बीबीसी संवाददाता के मुताबिक़ जीत से ज़्यादा महत्वपूर्ण था मैच का होना. क़रीब सात साल बाद इराक़ में कोई फ़ुटबॉल मैच खेला गया. अरबिल शहर स्वायत्त क्षेत्र कुर्दिस्तान की राजधानी है.

ये अरब और कुर्द लोगों के लिए एक मौक़ा भी लेकर आया, जिसमें उन्हें एक टीम का समर्थन करना था. इराक़ ने अपनी धरती पर इससे पहले अपना आख़िरी मैच जुलाई 2002 में खेला था.

उसके बाद 2003 में हुए हमले के बाद वर्ष 2007 में वो मौक़ा आया, जब इराक़ की फ़ुटबॉल टीम ने जकार्ता में हुए एशिया कप में जीत हासिल की. हालाँकि उसके बाद से टीम में कोई ख़ास प्रदर्शन नहीं किया है.

संबंधित समाचार