सात दशक बाद जीता इंग्लैंड

स्ट्रॉस
Image caption जीत में स्ट्रॉस के शानदार शतक की अहम भूमिका रही

संक्षिप्त स्कोर

इंग्लैंड- पहली पारी- 425 रन

ऑस्ट्रेलिया- 215 रन

इंग्लैंड - दूसरी पारी- 311/6 (पारी घोषित)

ऑस्ट्रेलिया- 406 ऑल आउट

मौजूदा ऐशेज़ सिरीज़ के बाद टेस्ट से संन्यास की घोषणा कर चुके एंड्र्यू फ़्लिंटफ़ की गेंदों ने लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर क़हर बरपाया.

नतीजा, 75 वर्षों के लंबे इंतज़ार के बाद इंग्लैंड ने चिर प्रतिद्वंद्वी ऑस्ट्रेलिया को इस मैदान पर 115 रनों से धूल चटा दी.

कार्डिफ़ में खेला गया पहला टेस्ट ड्रॉ हो गया था लेकिन ऑस्ट्रेलियाई टीम पूरे मैच के दौरान दबाब बनाए रखने में कामयाब रही थी.

पर लॉर्ड्स के मैदान पर उल्टा नज़ारा देखने को मिला. दूसरी पारी में जीत के लिए 522 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलियाई टीम 406 रनों पर पैवेलियन लौट गई और इसी के साथ इंग्लैंड ऐशेज में 1-0 से आगे हो गया.

इस मैच की पहली पारी में कप्तान एंड़्र्यू स्ट्रॉस और एलिएस्टर कुक ने बल्ले से टीम को 425 रनों का बड़ा स्कोर खड़ा करने में मदद की तो गेंदबाज़ी में जेम्स एंडरसन ने चार विकेट लेकर ऑस्ट्रेलियाई को 215 रनों पर रोक दिया.

फिर इंग्लैंड ने फ़ॉलोऑन कराने की बज़ाए ख़ुद बल्लेबाज़ी की और छह विकेट पर 311 का स्कोर खड़ा कर पारी घोषित करते हुए ऑस्ट्रेलिया के सामने पहाड़ जैसा लक्ष्य दिया.

एंड्रयू फ्लिंटॉफ की करिश्माई गेंदबाज़ी ने बाक़ी का काम किया और उन्होंने लॉर्ड्स पर अब तक की सबसे बेहतर गेंदबाज़ी करते हुए पाँच विकेट झटक इस टेस्ट को यादगार बना दिया.

क्लार्क का संघर्ष

Image caption क्लार्क ने काफ़ी संघर्ष किया लेकिन मैच नहीं बचा पाए

पांचवें दिन ऑस्ट्रेलिया ने पाँच विकेट पर 313 के स्कोर से आगे खेलना शुरु किया. उसे मैच बचाने के लिए 209 रनों की दरकार थी.

कल के नाबाद बल्लेबाज़ ब्रैड हैडिन अपने स्कोर में कोई इजाफ़ा नहीं कर सके और फ्लिंटफ की गेंद पर चलते बने. उन्होंने 80 रन बनाए.

शुरुआत में झटका लगने के बाद माइकल क्लार्क ने मिचेल जॉनसन के साथ संयम से खेलना शुरू किया लेकिन ग्रेम स्वान की बेहतरीन गेंद पर वह आउट हो गए. उन्होंने 136 रनों की संघर्षपूर्ण पारी खेली.

क्लार्क के आउट होते ही आस्ट्रेलिया की मैच बचाने की उम्मीदें जाती रही. पुछल्ले बल्लेबाज़ नाथन हौरित्ज और पीटर सिडल को मैच के हीरो फ्लिंटफ ने अपना शिकार बनाया. मिचेल जॉनसन ने 63 रनों की पारी खेली. उन्हें स्वान पैवेलियन भेजा.

फ्लिंटॉफ ने इस पारी में पांच विकेट और ग्रेम स्वान ने चार विकेट चटकाए.

दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ी का ऊपरी क्रम ध्वस्त हो गया. पीटर ह्यूज 17 रनों पर आउट हो गए जबकि साइमन कैटिच महज छह रन बना सके. इन दोनों को फ़्लिंटफ़ ने ही शिकार बनाया था.

इसके बाद कप्तान रिकी पोंटिंग 38 और माइक हसी 27 रनों पर चलते बने.

दोनों टीमों के बीच तीसरा टेस्ट 30 जुलाई से एजबेस्टन में खेला जाएगा.