बीबीसी फन एंड गेम्स

सचिन तेंदुलकर
Image caption बारह हज़ार से ज़्यादा टैस्ट रन बना चुके सचिन तेंदुलकर अब पंद्रह हज़ार रन बनाना चाहते हैं.

बीबीसी फन एंड गेम्स में इस सप्ताह बात हो रही है क्रिकेट और फॉर्मूला वन की. जानिये एक अनोखे क्रिकेट मैच के बारे में जो खेला जायेगा स्विट्ज़रलैंड की बर्फ से ढकी पहाड़ियों पर.

टैस्ट और एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर की नज़रे अब पंद्रह हज़ार टैस्ट रन और 2011 के विश्व कप पर टिकी है. कार्यक्रम में सुनिये एक ख़ास बातचीत सचिन से जिसमें वो क्रिकेट के प्रति अपने प्यार, टैस्ट क्रिकेट और अपने भविष्य के बारे में बता रहे हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

इसके अलावा सुनिये दो और भारतीय क्रिकेटर--वीरेन्द्र सहवाग और सौरव गांगुली को. सहवाग कहते हैं कि सचिन तेंदुलकर से तुलना होने पर वो गर्व महसूस करते हैं लेकिन ये भी जानते हैं कि सचिन के जैसा कोई और नहीं हो सकता.

पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली आईसीसी टैस्ट रैंकिंग्स में शीर्ष बल्लेबाज़ गौतम गंभीर की तारीफ कर रहे है. गांगुली को यकीन है कि पिछले कुछ सालों में भारतीय टीम का प्रर्दशन को देखते हुए वो भविष्य में दुनिया की शीर्ष टीम ज़रुर बनेगी.

फॉर्मूला वन के मौजूदा चैंपियन लुइस हैमिल्टन पिछले दिनों दिल्ली पहुंचे जहां फॉर्मूला वन से जुड़ी बातों के अलावा उन्होंने कुछ और बातें भी की. हैमिल्टन बता रहे हैं कि ऑस्कर जीतने वाले गाने जय हो के रीमिक्स वर्ज़न के बोल कैसे लिखे गये. ये रीमिक्स वर्ज़न उनकी गर्लफ्रेंड निकोल शेर्जिंगर ने लिखा है. वो ये भी बता रहे हैं कि उन्हें फिल्म स्लमडॉग मिलियनेयर काफी पसंद आई.

कार्यक्रम के अंत में सुनिये एक अनोखे क्रिकेट मैच के बारे में जो इस साल स्वतंत्रता दिवस यानि पंद्रह अगस्त को स्विट्ज़रलैंड की बर्फ से ढकी पहाड़ियों पर खेला जायेगा. यूरोप के युंगफ्राउ पहाड़ पर होने वाले इस स्नो क्रिकेट मैच में एक भारतीय टीम है और दूसरी ऑल स्टार्स टीम. भारतीय टीम के सदस्यों में शामिल कपिल देव, संदीप पाटिल और अंशुमान गायकवाड़ से बीबीसी ने एक विशेष बातचीत की.

कपिल देव बता रहे हैं कि उन्होंने कभी सोचा भी नहीं था कि बर्फ पर क्रिकेट खेली जा सकती है और वो इस अनोखे अनुभव के लिये बेहद उत्साहित हैं. वहीं संदीप पाटिल इसे काफी चुनौतीपूर्ण बता रहे हैं. उनके लिये ये मैच इसलिये भी ख़ास है क्योंकि पच्चीस साल पहले इसी तारीख को इसी जगह वो अपने हनीमून के लिये गये थे.

अंशुमान गायकवाड़ कह रहे हैं कि इस मैच के लिये हां कहना का एक कारण पुराने साथियों के साथ एक बार फिर खेलने का मौका मिलना था. साथ ही वो कहते हैं कि ये एक मौका होगा मैच जीतकर भारतीय स्वतंत्रता दिवस पर यूरोप के बर्फ से ढके पहाड़ पर भारतीय तिरंगा फहराने का.

संबंधित समाचार