विजेंदर ने एक और इतिहास रचा

  • 10 सितंबर 2009

एक साल पहले बीजिंग ओलंपिक में इतिहास रचने वाले भारत के मुक्केबाज़ विजेंदर सिंह ने एक और इतिहास रचा है.

Image caption विजेंदर ने आसान जीत दर्ज की

मिलान में चल रही विश्व बॉक्सिंग चैम्पियनशिप के 75 किलोग्राम वर्ग में विजेंदर ने सेमी फ़ाइनल में जगह बना ली है. इसका मतलब ये है कि भारत को इस चैम्पियनशिप में पदक मिलना तय है.

ऐसा पहली बार होगा कि विश्व बॉक्सिंग चैम्पियनशिप में भारत को कोई पदक हासिल होगा. लेकिन भारत के एक अन्य मुक्केबाज़ दिनेश कुमार क्वार्टर फ़ाइनल में हार गए.

इटली के मिलान शहर में चल रही इस चैम्पियनशिप के क्वार्टर फ़ाइनल में विजेंदर ने यूक्रेन के सर्गेई डेरेव्यानचेन्को को 12-4 से मात दी.

मैच

विजेंदर इस समय दुनिया के नंबर दो मुक्केबाज़ हैं और विश्व बॉक्सिंग चैम्पियनशिप में उन्हें शीर्ष वरीयता दी गई है.

जीत के बाद उत्साहित विजेंदर ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, "ये मुक़ाबला मेरे लिए आसान साबित हुआ. मैंने शुरू से ही बढ़त बनाई हुई थी. मैं ख़ुश हूँ कि मैंने भारत के लिए एक और इतिहास रचा है."

पिछले साल ओलंपिक में विजेंदर ने भारत को मुक्केबाज़ी में कांस्य पदक दिलाया था. हाल ही में 23 वर्षीय विजेंदर को खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.

एक अन्य क्वार्टर फ़ाइनल मैच में भारत के दिनेश कुमार अपना मैच हार गए. उन्हें रूस के आर्थर बेटरबिएफ़ ने हरा दिया.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार