भारत 11 साल बाद विश्व ग्रुप में

सोमदेव देववर्मन
Image caption सोमदेव देववर्मन टेनिस में भारत की युवा सितारे हैं

शीर्ष खिलाड़ी सोमदेव देववर्मन ने डेविस कप विश्व ग्रुप में साढ़े चार घंटे से भी ज़्यादा देर तक चले मैराथन मुक़ाबले में रिक डि वोएस्ट को हराकर भारत को दक्षिण अफ्रीका पर अजेय बढ़त दिला दी.

इस जीत के साथ ही भारत 11 साल बाद विश्व ग्रुप में प्रवेश करने में सफल रहा.

सोमदेव और वोएस्ट की दृढ़ता की वजह से मुक़ाबला बेहद दिलचस्प रहा और आख़िरकार भारतीय खिलाड़ी ने एलिस पार्क इंडोर स्टेडियम में दक्षिण अफ्रीकी प्रतिद्वंद्वी को 3-6, 6-7, 7-6,6-2, 6-4 से मात दी.

मेजबान टीम को मुकाबले में बने रहने के लिए चौथा मैच जीतना जरूरी था और सोमदेव ने इस जीत के साथ भारत को 3-1 की अजेय बढ़त दिला दी.

भारत पिछली बार 16 टीमों के विश्व ग्रुप में 1998 में खेला था जब इटली ने उसे 4-1 से हराया था.

भारत तीन बार विश्व ग्रुप के फाइनल में पहुंचा लेकिन हर बार उसे उपविजेता बनकर ही संतोष करना पड़ा.

कड़ा मुक़ाबला

करो या मरो के मुकाबले में वोएस्ट पूरे जज्बे के साथ खेले लेकिन सोमदेव ने दिखा दिया कि उनमें चैम्पियन खिलाड़ियों को हराने का माद्दा है.

सोमदेव ने दो सेट से पिछड़ने के बाद जोरदार वापसी की और तीसरे सेट की शुरुआत में अपनी सर्विस गंवाने के बाद चौथे गेम में वोएस्ट की सर्विस तोड़ दी.

इसके बाद उन्होंने टाईब्रेकर में सेट जीतकर मैच में भारत की चुनौती बरकरार रखी.

मैच जैसे-जैसे लंबा खिंचता गया, वोएस्ट पर थकान का असर दिखने लगा और उन्होंने कई गलतियां की जिससे सोमदेव ने मैच को अपने नियंत्रण में कर लिया.

भारतीय खिलाड़ी ने चौथे सेट में बेहतरीन शुरुआत करते हुए दो बार वोएस्ट की सर्विस तोड़कर 5-1 की बढ़त बना ली.

सोमदेव ने इसके बाद आठवें गेम में अपनी सर्विस बरकरार रखते हुए चौथा सेट जीतकर दो-दो सेट की बराबरी करते हुए मैच को पांचवें और निर्णायक सेट में खींच दिया.

अंतिम सेट में दोनों खिलाड़ियों ने अपने खेल में सुधार करते हुए कड़ी प्रतिस्पर्धा पेश की और हर अंक पर बेहतरीन टेनिस का नजारा देखने को मिला.

सोमदेव ने पांचवें गेम में वोएस्ट की सर्विस तोड़ दी और बढ़त बना ली.

वोएस्ट ने सातवें गेम में तीन ब्रेक प्वाइंट बचाए लेकिन आज दिन सोमदेव का था और उन्होंने 10वें गेम में अपने दूसरे मैच प्वाइंट को अंक में तब्दील करके मैच जीत लिया.

रोहन बोपन्ना और आइज़क वानडर मर्वे के बीच होने वाला दूसरा रिवर्स सिंगल्स मुक़ाबला अब महत्वहीन हो गया है.

संबंधित समाचार