धोनी बरसे गेंदबाज़ों पर

  • 27 सितंबर 2009
महेंद्र धोनी
Image caption चैंम्पियंस ट्रॉफ़ी के शुरूआती मैच में ही भारत को पाकिस्तान के हाथों हार मिली

चैम्पियंस ट्रॉफ़ी में चिर प्रतिद्वंदी पाकिस्तान के हाथों मिली हार के बाद भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अपना गुस्सा भारतीय गेंदबाज़ों पर निकाला है.

संवाददाताओं से बात करते हुए उन्होंने कहा कि यदि भारतीय टीम अपने प्रदर्शन में सुधार नहीं करती रही है तो बेहतर है कि बोरिया-बिस्तर बाँध कर वापस देश लौट जाए.

धोनी ने कहा कि भारतीय गेंदबाज़ों को अपना प्रदर्शन सुधारना पड़ेगा.

उल्लेखनीय है कि चैंम्पियंस ट्रॉफ़ी के पहले मैच में भारतीय गेंदबाज़ बुरी तरह से असफल रहे. पाकिस्तान ने भारत के सामने 302 रनों का लक्ष्य रखा था.

कप्तान धोनी ने कहा,"शुरूआती ओवरों में हमने ख़राब गेंदबाज़ी की जिससे कई गेंदें सीमा रेखा के पार गई."

धोनी ने कहा, "सेमी फ़ाइनल में पहुँचने के लिए हमें ऑस्ट्रेलिया और वेस्ट इंडीज़ दोनों ही टीमों को हराना पड़ेगा. अब से हमारे लिए यह टूर्नामेंट नाक आउट होगा. "

यह पूछे जाने पर कि जब भारत के नियमित गेदबाज़ चल नहीं पा रहे थे तब क्यों नहीं सचिन को गेंदबाज़ी करने के लिए बुलाया गया, उनका कहना था, "सचिन कंधे की चोट से जूझ रहे हैं और वे लगातार गेंदबाज़ी नहीं कर सकते. वे हमारे मुख्य बल्लेबाज़ हैं और हम नहीं चाहते कि वे घायल हो जाएँ."

धोनी ने माना कि गौतम गंभीर और राहुल द्रविड़ का रन आउट होना मैच लिए निर्णायक साबित हुआ. उन्होंने कहा, "रन आउट होना सबसे दुखद है, लेकिन यह होता है. कई बार जब स्टेडियम खचाखच भरा हो तो आप अपने पार्टनर की आवाज़ सुन नहीं पाते हैं."

भारत का अगला मुक़ाबला 28 सितंबर को ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ है.

संबंधित समाचार