रियो को मिली ओलंपिक की मेज़बानी

  • 2 अक्तूबर 2009
ज़ाक रोख़े
Image caption आईओसी के प्रमुख ने की मेज़बान की घोषणा

ब्राज़ील के शहर रियो डी जेनेरो को वर्ष 2016 के ओलंपिक खेलों की मेज़बानी सौंपी गई है. आख़िरी दौड़ की वोटिंग में रियो ने स्पेन के शहर मैड्रिड को पछाड़ा.

डेनमार्क के कोपेनहेगेन में अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के प्रमुख ज़ाक रोख़े ने रियो को मेज़बानी सौंपे जाने की घोषणा की.

इस घोषणा के साथ ही ब्राज़ील में उत्सव जैसा माहौल हो गया. पहले से ही कई शहरों में भारी संख्या में जुटे लोगों ने अपने चिर-परिचित अंदाज़ में मेज़बानी सौंपे जाने का जश्न मनाना शुरू कर दिया.

ब्राज़ील दक्षिण अमरीका का पहला देश है, जिसे ओलंपिक की मेज़बानी सौंपी गई है. कोपेनहेगेन में हुई अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति की बैठक में रियो को सबसे ज़्यादा 95 मत मिले.

अमरीका का शिकागो और जापान का टोक्यो पहले ही मेज़बानी की दौड़ से बाहर हो गए थे. आख़िरी दौर में रियो का मुक़ाबला मैड्रिड से था. लेकिन आख़िरकार रियो ने बाज़ी मार ली.

भावुक अपील

ख़ुशी से गदगद नज़र आ रहे ब्राज़ील के राष्ट्रपति लूला डी सिल्वा ने कहा, "दुनिया ने इस बात को मान्यता दे दी है कि ब्राज़ील का समय आ गया है."

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के सामने रियो की दावेदारी के लिए बेहतरीन प्रस्तुतिकरण दिया गया. इसमें लैटिन अमरीकी देश को मेज़बानी देने की भावुक अपील की गई.

राष्ट्रपति लूला डी सिल्वा ने प्रतिनिधियों से कहा, "रियो पूरी तरह तैयार है. हमें मौक़ा दीजिए और आपको इसका अफ़सोस नहीं होगा. रियो एक अविस्मरणीय खेलों का आयोजन करेगा. आप ख़ुद ही लोगों का उत्साह, उनकी ऊर्जा और ब्राज़ील के लोगों की रचनात्मकता देखेंगे."

राष्ट्रपति लूला डी सिल्वा ने अपनी अपील में कहा कि आईओसी के सामने ये दिखाने का मौक़ा है कि ओलंपिक खेल सभी महादेशों के लोगों का है.

बाद में अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) के प्रमुख ज़ाक रोख़े ने रियो को मेज़बानी सौंपे जाने की घोषणा की.

इस घोषणा के बाद रियो की दावेदारी पेश करने कोपेनहेगेन में मौजूद ब्राज़ील के महान फ़ुटबॉल खिलाड़ी पेले की आँखों में आँसू भर आए.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार