'समय दिल्ली का सबसे बड़ा दुश्मन'

Image caption खेलों की तैयारियों की तीखी आलोचना कर चुके हैं माइक फ़ेनेल.

राष्ट्रमंडल खेल संघ के अध्यक्ष ने कहा है कि उन्हें उम्मीद है कि दिल्ली अगले साल होनेवाले खेलों के लिए समय पर तैयार हो जाएगी लेकिन चुनौती अभी भी काफ़ी बड़ी है.

सोमवार को हुए संवाददाता सम्मेलन में संघ के अध्यक्ष माइक फ़ेनेल ने ये भी कहा है कि तकनीकी समिति का गठन किया जा रहा है जो हर महीने खेलों की तैयारी का लेखाजोखा लेगी और खेल संघ को सूचित करेगी.

उम्मीद के साथ साथ एक तरह की चेतावनी भी जारी करते हुए फ़ेनेल ने कहा कि अब ढील बरतने की कोई गुंजाइश नहीं रह गई है.

उनका कहना था, ``दिल्ली के लिए समय सबसे बड़ा दुश्मन है.’’

फ़ेनेल का कहना था कि इसमें कोई शक नहीं कि दिल्ली में होनेवाले खेल भव्य होंगे लेकिन अब हर एक दिन अहम है, हर घंटा अहम है.

Image caption अब हर महीने तैयारियों का लेखा जोखा एक समिति लेगी.

पिछले महीने फ़ेनेल की एक लीक हुई चिठ्ठी में राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारी की तीखी आलोचना सामने आई थी.

उन्होंने कहा था कि बहुत ख़राब योजना और ढुलमुल काम की वजह से राष्ट्रमंडल खेलों का सफल आयोजन ख़तरे में है.

वहीं राष्ट्रमंडल खेलों की आयोजन समिति के अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी ने कहा है कि चुनौतियां हैं लेकिन भारत उनपर खरा उतरेगा.

खेलमंत्री एम एस गिल ने कहा है कि दिल्ली की तुलना मेलबर्न और ग्लासगो जैसे दूसरे आयोजन स्थलों से करना सही नहीं होगा.

उनका कहना था, ``दिल्ली की जनसंख्या डेढ़ करोड़ से ज़्यादा है और चाहे वो टोक्यो हो या लागोस दिल्ली की समस्याएं भी हर बड़े शहर की तरह हैं.’’

राष्ट्रमंडल खेल अगले साल तीन अक्तूबर से 14 अक्तूबर तक होने हैं. इसमें छह हज़ार खिलाड़ी कुल 17 अलग अलग खेलों में भाग लेंगे.

संबंधित समाचार