श्रृंखला में वापसी को तैयार इंडिया

युवराज सिंह
Image caption युवराज सिंह की वापसी से टीम इंडिया में उत्साह

ऑस्ट्रेलिया ने भारत से पहला एकदिवसीय मैच भले ही रोमांचक संघर्ष में जीत लिया हो लेकिन बुधवार को नागपुर में होने वाले दूसरे एकदिवसीय मैच में जीत को दोहराना बहुत आसान नहीं दिख रहा है.

इसकी वजह साफ है, और वह ये कि उसके कई खिलाड़ी फिटनेस की समस्या से जूझ रहे हैं.

ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए ब्रेट ली और मिशेज जॉनसन जैसे शीर्ष गेंदबाज़ों और आलराउंडर जेम्स होप्स का चोटिल होकर दूसरे वनडे से बाहर हो जाना गहरा झटका है, बावजूद इसके टीम के कोच टिम नीलसन जीत दोहराने के प्रति आश्वस्त हैं.

कोच नीलसन ने कहा, ‘ब्रेट ली का दूसरा मैच न खेलना तो तय है लेकिन मिचेल जॉनसन के बारे में ऐसा नहीं कहा जा सकता. फील्डिंग के दौरान चोट लगने के बाद अब उनकी स्थिति लगातार सुधर रही है और बहुत संभव है कि वो नागपुर में खेलें. इसलिए मिचेल के बारे में ये नहीं कहा जा सकता कि वो पूरी तरह से बाहर हैं.’

ब्रेट ली ने पहले वनडे में वीरेंद्र सहवाग को और जॉनसन ने अपनी चतुराई भरी गेंदबाजी से गौतम गंभीर और सुरेश रैना को आउट किया था. ली की दाहिनी कुहनी में सूजन है, तो जॉनसन को पहले मैच में क्षेत्ररक्षण के दौरान बायें टखने में चोट लगी थी. इसके अलावा पेशियों में खिंचाव की समस्या के कारण आलराउंडर होप्स पहले ही बाहर हो चुके हैं.

वहीं दूसरी ओर भारतीय टीम मध्यक्रम के धुरंधर बल्लेबाज़ युवराज सिंह की वापसी से काफी उत्साहित है. दक्षिण अफ्रीका में आइसीसी चैंपियन्स ट्रॉफी के दौरान युवराज सिंह की उंगली में चोट लगी थी.

वड़ोदरा में भारतीय टीम के हारने के कई कारण थे, मसलन, बिखरा हुआ गेंदबाज़ी आक्रमण, कमज़ोर बल्लेबाज़ी और ख़राब क्षेत्ररक्षण. विराट कोहली और रवींद्र जडेजा भी उम्मीद के अनुरूप अपना प्रदर्शन करने में नाकाम रहे थे.

टीम में युवराज सिंह की वापसी से उम्मीद है कि इन समस्याओं को काफी हद तक दूर किया जा सकता है.

पिच की स्थिति

भारतीय मैदानों पर आमतौर से टॉस जीतने के बाद इस पर माथापच्ची करने की ज़रूरत नहीं रहती है कि पहले गेंदबाज़ी या बल्लेबाज़ी में से किसका चुनाव किया जाए. आमतौर पर यहां की धीमी पिचों पर टीमें पहले बल्लेबाज़ी करने का ही फ़ैसला करती हैं.

नागपुर की भी पिच सपाट रहने की उम्मीद है और रन बटोरने में मददगार साबित होगी. लेकिन शाम के वक्त ओस की वजह से पहले बल्लेबाज़ी का फैसला कितना सही होगा, इस बात की चिंता दोनों ही टीमों को होगी.

भारतीय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का कहना है, ‘हाल ही में हुए चैलेंजर ट्रॉफी के दौरान कुछ मैच ओस की वजह से बुरी तरह से प्रभावित हुए थे और आयोजकों को इसका प्रभाव कम करने के लिए पिच पर रसायनों का छिड़काव करना पड़ा था.’

यानी मैच का परिणाम खिलाड़ियों के बेहतर प्रदर्शन के अलावा काफी कुछ टॉस पर भी निर्भर करेगा.

संभावित टीमें---- भारत---सचिन तेंदुलकर, वीरेंदर सहवाग, गौतम कंभीर, युवराज सिंह, सुरेश रैना, महेंद्र सिंह धोनी(कप्तान और विकेटकीपर), रवींद्र जडेजा, हरभजन सिंह, ईशांत शर्मा, प्रवीण कुमार अथवा मुनाफ़ पटेल, आशीष नेहरा.

ऑस्ट्रेलिया---शेन वॉटसन, टिम पैने(विकेट कीपर) रिकी पोंटिंग(कप्तान), शॉन मार्श, शॉन मार्श, माइकेल हसी, एडम वोग्स, कैमरॉन व्हाइट, मिचेल ज़ॉनसन, नाथन हॉरिट्ज़, डौग बोलिंगर, बेन हिलफेनहॉस, पीटर सिडिल.

संबंधित समाचार