'कोई दूसरा सचिन नहीं हो सकता'

  • 15 नवंबर 2009
सचिन तेंदुलकर
Image caption सचिन के सर्वाधिक रन और सर्वाधिक शतक के रिकॉर्ड हैं

दुनिया के महानतम स्पिनरों में से एक और सर्वाधिक विकेट लेने वाले श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन ने अपने अंदाज़ में मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 20 साल पूरे करने पर बधाई दी है.

श्रीलंका की टीम इस समय भारत दौरे पर आई है और महान मुथैया मुरलीधरन भी इस टीम का हिस्सा हैं.

बीस साल पहले 15 नवंबर को ही सचिन तेंदुलकर ने पाकिस्तान के ख़िलाफ़ टेस्ट खेलकर अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की थी.

सचिन को बधाई देते हुए मुरलीधरन ने कहा कि दूसरा सचिन कभी नहीं होगा.

अहमदाबाद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुरलीधरन ने कहा, "मैंने अख़बारों में पढ़ा हूँ कि मुंबई के एक लड़के ने हाल ही में 400 रन बनाए हैं. अख़बारों का कहना है कि वो दूसरा सचिन बनने जा रहा है. कोई ऐसा कैसे कह सकता है."

उन्होंने कहा कि कोई दूसरा सचिन कभी नहीं होगा. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सर्वाधिक विकेट लेने वाले मुरलीधरन ने कहा कि आप किसी तेंदुलकर को जीवन में एक बार ही देख पाते हैं.

मुरलीधरन ने कहा, "ऐसा खिलाड़ी 100 साल में कहीं एक होता है. वे 44 साल की आयु में भी रन बना सकते हैं. क्योंकि उनकी तकनीक बहुत अच्छी है."

उन्होंने कहा कि उनके पास सचिन के लिए कहने को कुछ नया नहीं है लेकिन उनके ख़िलाफ़ खेलना मेरे लिए सम्मान की बात रही है.

मुरलीधरन ने कहा कि क्रिकेट की दुनिया में सचिन तेंदुलकर दूसरों से ख़ास हैं.

सचिन की पसंदीदा पारियों के बारे में पूछे जाने पर मुरली कहते हैं- किसी एक को कहना कम ही है. लेकिन उन्हें बल्लेबाज़ी करते देखना सुखद होता है.

सचिन तेंदुलकर ने 20 साल पहले 15 नवंबर को अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर की शुरुआत की थी. सामने थी भारत की चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान की टीम और मैदान था कराची का नेशनल स्टेडियम.

तब से सचिन तेंदुलकर 20 सालों में 436 वनडे मैच और 159 टेस्ट मैच खेल चुके हैं. टेस्ट और वनडे में सर्वाधिक शतक और सर्वाधिक रन बनाने का रिकॉर्ड सचिन के नाम है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार