टेस्ट में जीत के बाद नज़रें टी-ट्वेंटी पर

जयसूर्या
Image caption जयसूर्या की वापसी से श्रीलंकाई टीम मज़बूत होगी

भारत और श्रीलंका के बीच पहला टी-ट्वेंटी मैच बुधवार को नागपुर में खेला जाएगा. टेस्ट सिरीज़ में जीत से भारतीय टीम का मनोबल ऊँचा है.

हालाँकि बीस ओवरों के मैच में पासा कब पलट जाए, कहा नहीं जा सकता और क्रिकेट की इस फटाफट शैली में श्रीलंकाई टीम का प्रदर्शन बुरा नहीं रहा है.

टेस्ट मैचों से अलग टी-ट्वेंटी में कुछ नए और युवा खिलाड़ी दोनों टीमों में दिखाई देंगे जिससे मुक़ाबला रोमांचक हो सकता है.

भारतीय तेज़ गेंदबाज़ श्रीसंत तबीयत ठीक नहीं होने के कारण इस मैच में नहीं खेल पाएंगे.

अनुभवी ज़हीर ख़ान और हरभजन सिंह भी टीम में नहीं है. उनकी जगह लेंगे अशोक डिंडा और आर आश्विन.

अनुभवी तेज़ गेंदबाज़ जहीर खान और ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह की जगह भारतीय टीम में क्रमश: युवा अशोक डिंडा और आर. आश्विन को शामिल किया गया है.

टी ट्वेंटी के माहिर सुरेश रैना और यूसुफ़ पठान की भी वापसी होगी. हालांकि ओपनिंग में वीरेंदर सहवाग से काफी उम्मीदें होंगी.

मध्य क्रम में युवराज, महेंद्र सिंह धोनी और रोहित शर्मा जैसे खिलाड़ी किसी सममय मैच का रुख़ बदल सकते हैं.

श्रीलंकाई टीम

तूफ़ानी बल्लेबाज़ सनत जयसूर्या और तेज़ गेंदबाज़ लसिथ मलिंगा की वापसी से श्रीलंकाई टीम को मज़बूती मिलेगा. जयसूर्या और तिलकरत्ने दिलशान की सलामी जोड़ी तेज़ी से रन बटोरने में माहिर है.

हालांकि कप्तान कुमार संगकारा कह चुके हैं कि ज़रूरत पड़ी तो जयसूर्या को निचले क्रम में बल्लेबाज़ी के लिए भेजा जा सकता है.

ऐसे में वो ख़ुद सलामी बल्लेबाज़ के तौर पर उतर सकते हैं.

हरफ़नमौला चिंतका जयसिंघे, कौशल्य वीररत्ने और एम पुष्पकुमार को श्रीलंकाई टीम में जगह दी गई है.

हालांकि इन्हें सिर्फ़ दो टी-ट्वेंटी के लिए शामिल किया गया है.

संबंधित समाचार